मुंह में छाले का उपचार - Treatment Of Mouth Ulcers In Hindi

मुंह के छाले का उपचार – Treatment Of Mouth Ulcers In Hindi

रोग व इलाज

मुंह के छाले के होने की समस्या का होना वैसे तो बहुत ही आम बात है मगर मुंह में छाले होने पर आपकी हालत बहुत बुरी जाती है ना तो आप ढंग से खाना खा पाते और ना ही पानी पी पाते हैं | ये छाले दिखने में सफ़ेद और चारो तरफ से लाल रंग के होते हैं | छाले मुंह के अंदर जीभ, मसुडो, गाल के अंदर सतह पर और होंठो के अंदर तरफ होते हैं | मुंह के छाले वैसे तो सिर्फ पेट की गर्मी से उत्पन्न होते हैं मगर कई बार यह मुंह के कैंसर के संकेत भी हो सकते है जिससे अगर छाले दो हफ़्तों में ठीक नहीं होते है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए |


मुंह के छाले

मुंह के छालो का आकार अगर आधे इंच से भी अधिक है और इनके होने पर आपके जोड़ों में दर्द, दस्त और बुखार भी रहता है तो चिकित्सक से परामर्श करना बहुत जरुरी होता है | मुंह के छाले होने के पीछे और भी कई कारण जैसे टूथ ब्रश का कठोर होना, ब्रश करते समय मसूड़ों का छिल जाना आदि | साधारण से मुंह के छाले तो अपने आप ठीक हो जाते है मगर बड़े और गंभीर छालो को इलाज करवाने की आवश्यकता होती है | इसके साथ ही कुछ घरेलु उपायों को प्रयोग करके छालों की समस्या को आसानी से दूर किया जा सकता है | तो आइये जानते है मुंह में छाले होने के कारण, लक्षण और उपचार के घरेलु तरीके…

 इस बीमारी के  प्रकार

मुंह में छाले मुख्यतः दो प्रकार के होते है मेजर छाले और माइनर छाले

मेजर छाले – मेजर छाले बड़े और अधिक दर्द होने बाले होते है, इन्हें ठीक होने में बहुत ज्यादा समय लगता है और ठीक होने के बाद ये अपना निशान मुंह में छोड़ देते हैं | मेजर छाले मुंह में एक साथ कई हिस्सों में हो जाते हैं जिससे होने बाली समस्या और अधिक बढ़ जाती है |

माइनर छाले – माइनर छाले आकार में छोटे और जल्दी ठीक होने के साथ इनका निशाँ भी नहीं होता है | छोटे छाले होने पर इनमे सूजन और दर्द दोनों ही कम होते हैं |

माउथ की इस बीमारी के होने के लक्षण

मुंह के छाले ज्यादातर मसुडो, होंठ के अन्दर, जीभ और गाल की अंदरूनी सतह पर होते है जिनके लक्षण निम्न होते हैं…

  • मुंह में अंदर सूजन होना
  • मुंह में अंदर फुंसी हो जाना
  • बुखार का आना ( और पढ़े – बुखार का उपचार )
  • मुंह के अंदर कटा कटा महसूस होना
  • बोलने और खाना को चबाने में दिक्कत होना
  • मुंह या गले में संक्रमण होना
  • पानी पीने में परेशानी होना

इस बीमारी होने के कारण

मुंह में छाले होने का कोई कारण तो अभी तक पता नहीं लगाया जा सका है मगर विशेषज्ञों के अनुसार निम्न कारण मुंह में छाले होने के लिए जिम्मेदार होते हैं…

  • हारमोंस में बदलाव होना
  • ज्यादा तेल मिर्च मसाले बाले भोजनों का सेवन करने से
  • पाचनतंत्र का ख़राब होने से ( और पढ़े – पाचन तंत्र मजबूत बनाने के उपाय )
  • आनुवंशिक
  • विटामिन सी की कमी से
  • खाना खाते समय गाल काट लेने से
  • ज्यादा धुम्रपान करने से ( और पढ़े – धूम्रपान छोड़ने के उपाय )
  • खट्टी चीजो को ज्यादा सेवन करने से

परहेज़ 

आमतौर पर मुंह के छालो को इलाज की जरुरत नहीं पड़ती है ये अपने आप ही ठीक हो जाते है | मगर कुछ बातो को ध्यान में रखकर मुंह के छालों को होने से रोका जा सकता है तो आइये जानते है वो उपाय…

  • च्युंगम चबाने से परहेज करे क्योंकि इसे चबाने से छालो का खतरा बढ़ जाता है |
  • मुंह में खरोंच या चोट न लग पाए इस बात का ध्यान रखें |
  • ब्रश करते समय मुंह को अच्छे से साफ़ करे मुंह में दांतों के बीच फसे खाना को साफ़ कर दे |
  • रोजाना नर्म बालो बाले ब्रश से मुंह को साफ करें |
  • मुंह के लिए हानिकारक आहारो से परहेज करे |

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

छाले होने पर नीचे बताये गए लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिये…

  • छालो का ज्यादा बड़े हो जाने पर
  • अगर छाले फैलते जा रहे हों
  • तीन हफ्ते से ज्यादा छाले रहने पर
  • दर्द निवारक दवाओ को इस्तेमाल करने के बाद भी छाले रहना
  • पानी पीने में छालों में जलन होना
  • छाले होने पर बुखार आना

उपचार

वैसे तो मुंह में होने बाले छाले सात से दस दिनों में अपने आप ठीक हो जाते है इन्हें उपचार की जरुरत नहीं पड़ती है | मगर कई बार यह मुंह के छाले बड़े और दर्दनाक हो जाते है जिन्हें उपचार की जरुरत पड़ती है | तो आइये जानते है मुंह के छालो के असरदार उपचार…

माउथ वाश का प्रयोग

मुंह के छालो का गंभीर और बड़े होने पर डॉक्टर द्वारा आपको एक दवा मिला हुआ माउथ वाश प्रयोग करने को दिया जाता है | इस माउथ वाश से आपको दिन में दो से तीन बार कुल्ला करने के सलाह दी जाती है जिससे छालो में होने बाले दर्द और जलन से आराम मिलता है |

न्यूट्रीशनल सप्लीमेंट्स का प्रयोग

अगर जाँच में आपके अंदर पोषक तत्वों की कमी अपायी जाती है जो छालो को जन्म देने का एक कारण होता है | तब डॉक्टर आपको कुछ न्यूट्रीशनल सप्लीमेंट्स यानी की पोषक तत्व पूरक को प्रयोग करने की सलाह देता है | जिससे शरीर में पोषक तत्व की पूर्ति हो जाती है और छालो की समस्या से छुटकारा मिल जाता है |

मुंह के छालो की क्रीम या लोशन

मुंह के छालो की कई क्रीम और लोशन बाजार में आसानी से मिल जाते है जो छालो पर लगाने से दर्द और जलन में जल्द आराम प्रदान करते है | इन क्रीम का प्रयोग अगर छाला होने के तुरंत बाद किया जाए तो बहुत असरदार होता है | मगर आप के लिए कौन से क्रीम, लोशन, जैल और लिक्विड फायदेमंद रहेगा इसके बारे में डॉक्टर् से परामर्श करके ही इसका प्रयोग करना चाहिए |

टेबलेट्स का प्रयोग

मुंह के छालो में टेबलेट्स का प्रयोग करने की सलाह तब दी जाती है, जब मुंह के छालो की स्थिति बहुत ही गंभीर होती है | उन पर माउथ वाश और क्रीम का कोई असर नहीं पड़ता है ये टेबलेट्स निम्न है…

  • छालो की समस्या में कई बार ऐसी दवाओ या टेबलेट्स का प्रयोग किया जाता है जो छालो के लिए नहीं बल्कि पेट में अल्सर या गाउट की समस्या के लिए प्रयोग की जाती है |
  • मुंह के छालो की स्थिति गंभीर होने पर जब वह साधारण दवाओं से ठीक नहीं होते है तब स्टेरोयड दवाओ का प्रयोग किया जाता है | स्टेरोयड दवाओ से कभी कभी नकारात्मक असर भी देखने को मिलते है | इसलिए इनका प्रयोग सबसे बाद में किया जाता है, जब कोई विकल्प नहीं रह जाता है |

मुंह में छाले होने की समस्या होने पर अपने खानपान का ध्यान रखकर इनसे होने बाली जलन और दर्द को कम किया जा सकता है |

बीमारी होने पर न खाएं

  • तीखा ज्याद मिर्च मसाले बाले भोजन से परहेज करना चाहिये
  • ज्यादा खटाई बाले भोजन का प्रयोग नहीं करना चाहिये
  • खुरदरे भोजन से परहेज करना चाहिये
  • बाजार के भोजन से परहेज करना चाहिये

डाइट प्लान 

  • नर्म और क्रीम युक्त आहारों का सेवन करना चाहिये |
  • ठंडे आहारों का सेवन करें |
  • पकी हुई सब्जियों को ही प्रयोग करना चाहिये |
  • अपने भोजन को छोटे छोटे हिस्सों में ही खाना चाहिए |
  • अगर आप कॉर्न फ्लैक्स जैसे सूखे भोजन का सेवन करते है तो इसे गला कर ही खाएं |

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *