स्किन कैंसर व इसके बचाव – Skin Cancer Treatment In Hindi

0
112
स्किन कैंसर व इसके बचाव

स्किन कैंसर 

स्किन कैंसर की समस्या आजकल बहुत तेज़ी से बढ़ती ही जा रही है |ये एक खतरनाक बीमारी है | ज्यादा देर तक धूप में रहने से यह समस्या किसी को भी हो सकती है। त्वचा की कोशिकाओ का गल्त तरीके से बढना ही त्वचा कैंसर कहलाता है | त्वचा कैंसर अक्सर धूप के सम्पर्क में रहनी वाली त्वचा में होता है | परन्तु त्वचा कैंसर त्वचा के उन हिस्सों में भी हो जाता है , जो धूप के सम्पर्क में नही आते है , या फिर कम आते है | जैसा की आपको ऊपर के लेख में बताया गया है , कि त्वचा कैंसर सही रूप से सूरज के सम्पर्क में आने से ही त्वचा पर होता है , जैसे खोपड़ी , चेहरा , होंठ , कान , गर्दन , छाती , हाथ आदि पर होता है |

इसके अलावा त्वचा कैंसर महिलाओ में उनकी टांगो पर हो जाता है | शरीर के ऐसे स्थानों में भी त्वचा कैंसर हो जाता है , जो सूरज की किरणों के सम्पर्क में नही आते है , जैसे हाथो की हथेलियां , पैरो की उंगलियों के नीचे का स्थान और जननांग आदि स्थानों पर हो जाता है |

त्वचा के कैंसर की बीमारी हर प्रकार के रंग वाले व्यक्तियोंमें हो सकता है | त्वचा कैंसर जब सांवले रंग के लोगो में होता है , तो ज्यादातर उनके उन जगहों पर होता है जो सूरज के सम्पर्क में नही आते है |

स्किन कैंसर के प्रकार 

  1. बेसल सेल कार्सिनोमा – यह सबसे नार्मल टाइप का स्किन कैंसर होता है , यह त्वचा की कोशिकाओं के अंदर से होता है |
  2. स्कैवम सेल कार्सिनोमा – इस कैंसर को दूसरा नार्मल टाइप का स्किन कैंसर माना जाता है | ये कैंसर भी त्वचा की कोशिकाओ के अंदर से ही होता है |
  3. मेलेनोमा – यह कैंसर शरीर की त्वचा में रंग की उत्पत्ति करने वाली कोशिकाओ में से शुरू होता है |

स्किन कैंसर के कारण 

  • पराबैगनी किरणें त्वचा के कैंसर का सबसे प्रमुख कारण है , अल्ट्रावायलेट रेडिएशन से अत्यधिक एक्सपोजर होता है | जिन व्यक्तियोंकी त्वचा बहुत ज्यादा डार्क होती है , उन व्यक्तियोंको तुलनात्मक रूप से त्वचा कैंसर का खतरा कम हो जाता है |
  •  जिन व्यक्तियोंकी रोग – प्रतिकार शक्ति कमजोर रहती है , उन व्यक्तियोंको त्वचा के कैंसर होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है | एड्स के रोगी , कीमोथेरेपी और स्टेराइड दवा के सेवन से भी त्वचा कैंसर होने का खतरा रहता है |
  • एक्स रे व आर्सेनिक से अधिक सम्पर्क में आ जाने से भी त्वचा कैंसर हो जाता है |
  • जिन लोगो का पहले से ही एक प्रकार का त्वचा का कैंसर है , उन्हें अगले दो साल में दूसरे प्रकार के त्वचा कैंसर होने का खतरा अधिक हो जाता है |
  • त्वचा कैंसर परिवार की किसी सदस्य को हो तो यह बीमारी किसी और को भी हो सकती है |
  • हल्की रंग की त्वचा हो जाना भी त्वचा के कैंसर का एक कारण होता है |
  • व्यक्ति के शरीर पर अजीब प्रकार के मस्से या फिर दाग हो जाना भी त्वचा के कैंसर का कारण होते है |

त्वचा कैंसर के लक्षण

  • त्वचा के कैंसर का मुख्य लक्षण ये है अगर व्यक्ति की त्वचा पे जो तिल है उसका रंग बदलने लग जाये तथा तिल बहुत प्रकार के होते है | एक ही व्यक्ति की त्वचा पर बहुत तिल हो सकते है , और यदि इन्ही सब तिल में से कोई तिल अलग दिखने लगे तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना की सलाह लेनी चाहिए |
  • मुंह के अंदर छाला हो जाना तथा बहुत दिनों तक उसका ठीक नही होना भी स्किन कैंसर का एक लक्षण होता है |
  • त्वचा पर लाल रंग के धब्बे हो जाना और उसमे दर्द भी नही होना त्वचा के कैंसर का लक्षण है |
  • त्वचा पर मस्सा आ जाना और कई दिनों तक इसका बने रहना भी त्वचा के कैंसर का लक्षण होता है |

त्वचा कैंसर के बचाव 

  • आपको अल्ट्रावायलेट रेडिएशन से बचाने वाले वस्त्रो को पहनना चाहिए, क्योकि व्यक्ति कितनी भी अच्छी सनस्क्रीन क्रीम लगा ले पर अल्ट्रावायलेट रेडिएशन से सिर्फ वस्त्र ही बचाते है |
  • आपको सुबह 10 से शाम के 4 बजे की धूप से बचना चाहिए |
  • सूरज की रोशनी अगर तेज हो तो आपको खुले में नही घूमना चाहिए और न ही बैठना चाहिए |
  • अल्ट्रावायलेट किरणों से जितना हो सके उतना बचने की कोशिस करे क्योकि दोपहर के समय अगर गर्मी कम भी हो तो फिर भी अल्ट्रावायलेट किरणें आपको नुकसान पहुंचा सकती है |
  • सूर्य की तेज़ किरणों से अपने आप को बचाने के लिए टोपी , फुल शर्ट और पेंट पहनना चाहिए |
  • धूप में अगर आपको बाहर निकलना है , तो निकलने के 15 मिनिट पहले ही त्वचा पर सनस्क्रीन क्रीम लगा लेनी चाहिए |
  • त्वचा के कैंसर की शुरआत अक्सर आँखों से होती है | सूर्य की रोशनी में जब भी बहार निकले तो सनग्लासेस का इस्तेमाल करना चाहिए |
  • विटामिन डी अच्छी मात्रा में लेनी चाहिए क्योकि इससे त्वचा के कैंसर का खतरा कम होता है |
  • कर्क रोग की सुरक्षा के लिए आपको ग्रीन टी , अंगूर , टमाटर जैसे पदार्थो का सेवन करना चाहिए क्योकि इनमे फलावनोंईड अधिक पाया जाता है , जो आपको कर्क रोग होने से बचाते है |
  • अधिक केमिकल युक्त आहार तथा फ़ास्ट फ़ूड का सेवन नही करना चाहिए |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.