सहजन या मोरिंगा के फायदे, नुकसान व उपयोग – Sahjan Benefits and Side Effects in Hindi

जड़ी बूटी

सहजन को मोरिंगा, ओलिफेरा व हर राज्य में अलग अलग नामों से भी जाना जाता है | यह एक प्रकार की ड्रमस्टिक की तरह फली होती है | जिसमे प्रोटीन, अमीनो एसिड, बीटा कैरोटीन और फीनॉलिक जैसे गुणकारी तत्व पाए जाते है | इस फली के पेड़ से लेकर जड़ तक सभी हमारे शरीर के लिए लाभकारी सिद्ध होता है | सहजन के फूलो का प्रयोग कई प्रकार के हर्बल टॉनिक बनाने में किया जाता है | इस पेड़ की पत्तियां भी हमारे शरीर की कई कमियों को दूर करने में फायदेमंद साबित होती है |

इसकी पत्तियों के द्वारा हम मोच, गठिया व जोड़ो के दर्द से मुक्ति पा सकते है | अगर इस फली का सेवन हफ्ते में एक बार या दो बार किया जाये | तो हमारे जोड़ों व शरीर की किसी भी अंग में दर्द की समस्या का सामना नही करना पड़ेगा | इसीलिए दोस्तो आज हम आपको सहजन से जुड़े कुछ जरुरी लाभ व हानियों के बारे में आपको बताने जा रहे है | तो आइये जानते है सहजन के बारे में विस्तार से |

उच्च रक्तचाप की समस्या को ख़त्म करने में सहायक है सहजन

सहजन में भरी मात्रा में पोटेशियम की मात्रा पाई जाती है | जो व्यक्ति के शरीर से उच्च रक्तचाप जैसी समस्या को जड़ से ख़त्म करने में बहुत मदद करती है | यदि उच्च रक्तचाप वाला व्यक्ति नियमित रूप से इस फली का सेवन करे | तो कुछ ही समस्या में उच्च रक्तचाप जैसी समस्या को जड़ से खत्म किया जा सकता है |

सहजन उच्च रक्तचाप साथ हमारे शरीर का कोलेस्ट्रॉल को भी सामान्य स्तर पर बनाये रखती है | क्यूकि इस फली में मौजूद इसोथियोसाइनेट और निइज़िमिनिन जैसे जैवसक्रिय घटक हमारी धमनियों को मोटा होने से रोकते है | जिसके कारण हमारे शरीर में अधिक कोलेस्ट्रॉल जमा नही हो पाता है |

मोटापे को कम करती है सहजन की फली

यदि आप अधिक मोटापे की समस्या से ग्रस्त है | तो आपको इस फली का सेवन जरुर करना चाहिये | क्यूकि इसमें पाया जाने वाला फास्फोरस हमारे शरीर में जमा वसा व कैलोरी की मात्रा को कम करने में हमारी बहुत मदद करता है | यदि आप जल्दी अपना वजन को कम करना चाहते है | तो आपको इसकी पत्तियों के रस का सेवन करना चाहिये | सहजन की पत्तियों में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है | जो हमारे शरीर में जमा चर्बी को जल्द से जल्द कम करने में हमारी बहुत मदद करता है | इसीलिए अगर आप अपने वजन को करना चाहते है | तो आपको अपने रोजाना के आहार में इस फली को ऐड करना चाहिये |

त्वचा की खूबसूरती व मुलायामपन को जिन्दा रखता है सहजन

यदि आपकी त्वचा कमजोर व रुखी है जिसके कारण आपको कई प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है | अपनी इस समस्या को जड़ से ख़त्म करने के लिए भी आपको इस फली का सेवन करना चाहिये | इस फली में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीवायरल जैसे गुण होते है | जो हमारी त्वचा को खुबसूरत व मुलायम बनाने में हमारी बहुत मदद करते है |

अगर आप इस फली का सेवन रोजाना करते है | तो आपको कभी भी त्वचा से जुड़े संक्रमण,दाग धब्बे, पिम्पल्स या फिर अन्य किसी समस्या का सामना नही करना पड़ेगा | क्यूकि सहजन में विटामिन A भी भरी मात्रा में पाया जाता है | जो हमारी त्वचा को मजबूती प्रदान करता है | यदि आप अपनी त्वचा को जल्दी कोमल व खुबसूरत बनाना चाहती है | तो आप इससे बना तेल का भी प्रयोग कर सकती है |

पाचन तंत्र को मजबूत बनती है सहजन की फली

पाचन तंत्र में खारबी आने से व्यक्ति को कई प्रकार क समस्या का सामना करना पड़ता है | जो व्यक्ति अस्वस्थ व बीमार बनाता है | यदि आप भी इस प्रकार की समस्या से ग्रस्त है | तो आपको भी सहजन की फली का सेवन करना चाहिये | क्यूकि इसमें पाये जाने वाले एंटीबायोटिक और एंटीबैक्टीरियल गुण व्यक्ति के पाचन के साथ साथ अल्सर, गैस्ट्र्रिटिस, कब्ज, दस्त व पीलिया जैसी समस्या को जड़ से खत्म करने में हमारी बहुत मदद करते है | यदि आप इन सभी समस्या में से किसी भी एक समस्या से ग्रस्त है | तो आपको इसकी पत्तियों को पीसकर शहद के साथ पीने से जल्दी आराम मिल जाता है |

सिरदर्द का आसान इलाज है सहजन की फली

यदि आपको रोजाना सिरदर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है | तो आपको सहजन की पत्तियों को पीसकर इसके रस का सेवन करने से बहुत आराम मिलता है | यदि आप सिरदर्द के आलावा गठिया, जोड़ों का दर्द, माइग्रेन जैसी समस्या से ग्रस्त है | तब भी आप इसी तरह इस समस्या का आसान इलाज कर सकते है | यदि आप इसके रस को नही पी पा रहे है | तब आपको पीसी हुई पत्तियों को अपने सर पर लेप लगाने से भी व्यक्ति बहुत आराम मिलेगा |

शुक्राणुओं व यौवन क्षमता को बढ़ाने में मददगार है सहजन

यदि आपके शरीर में शुक्राणुओं की मात्रा कम है | या फिर आप इसको अधिक बनाना चाहते है | तो भी आप इसका सेवन करके अपनी इस कमी को खत्म कर सकते है | क्यूकि इसमें जिंक की मात्रा भी काफी अच्छी पाई जाती है | जो हमारे शरीर में शुक्राणुओं की क्षमता को बढ़ाने के साथ साथ यौवन क्षमता को भी बहुत हद तक बेहतर बनाती है | आपको नियमित रूप से इसका सेवन करते रहना चाहिये | क्यूकि अगर आप इस प्रकार की कोई समस्या से जूझ रहे है | तो आप घर पर ही अपनी समस्या का आसान इलाज करा सकते है |

जाने सहजन के अन्य लाभ के बारे में

  • बालों की मजबूती के लिए भी फायदेमंद है सहजन |
  • कान दर्द में भी फायदेमंद है सहजन की पत्तियां |
  • सर्दी जुखाम होने पर इस्तमाल करे सहजन का |
  • पायरिया जैसे रोग का इलाज है सहजन |
  • घाव व सुजन का आसान इलाज कर सकते है सहजन के द्वारा |
  • पेट के कीड़े ख़त्म करने में लाभकारी है सहजन की फली |
  • मधुमेह की अम्स्य को कम करने में भी सहायक है मोरिंगा |
  • बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाता है मोरिंगा की फली |

कैसे करे मोरिंगा यानि सहजन का सेवन

आप कई प्रकार से इसके फल,बींज, पत्तियों व फूल का सेवन कर सकते है | तो आइये जानते है | इसको विस्तार से

सहजन की फली का सेवन – आप इस फली को कई प्रकार से सेवन में ला सकते है | जैसे तलकर, उबालकर, सब्जी बनाकर, या फिर सलाद के तौर पर | उबालकर खाने से हमारे शरीर को अधिक लाभ मिलता है |

मोरिंगा की पत्तियों का सेवन – आप मोरिंगा की पत्तियों का सेवन कई प्रकार से कर सकते है | जैसे पीसकर, व सलाद के रूप में भी इसका सेवन कर सकते है |

सहजन के बीज का सेवन – सहजन के बीज भी हमारे शरीर को काफी लाभ पहुचाते है | यदि इसके बीजो का सेवन नियमित रूप से किया जाये | तो इससे हमारे पाचन तंत्र पर काफी अच्छा असर पड़ेगा |

मोरिंगा या सहजन से होने वाले नुकसान

  • महिलायों को मासिक धर्म के समय इसका सेवन नही करना चाहिये | क्यूकि इसकी वजह से पेट में पित्त की समस्या हो सकती है |
  • ब्लीडिंग डिसऑर्डर वाले मरीज बिलकुल भी ना करे इसका सेवन |
  • गर्भावस्था के समय महिला को फूल, पत्ते व जड़ का सेवन नही करना चाहिये |
  • प्रसव के बाद इसका सेवन करने से होती है शरीर में हानि |

आब आइये जानते है इससे जुड़े कुछ सवाल के बारे में

सहजन के द्वारा बनाया गया मेडिकल प्रोडक्ट का नाम क्या है ?
सहजन के द्वारा कई प्रकार के मेडिकल प्रोडक्ट बनाये गए है | जैसे मूरीवेन्ना, कोट्तंचुक्कडी थैलम आदि |

सहजन और त्रिफला दोनों को मिलाकर ले सकते हैं क्या ?
सहजन के साथ त्रिफला का सेवन करने से व्यक्ति के शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है | इसीलिए किसी एक का ही सेवन करे |

क्या मोरिंगा के बीज लीवर सिरोसिस में काम करता है ?
मोरिंगा हमारे शरीर की कई समस्या का इलाज करता है | लीवर से जुड़े कई रोग को भी हम इसके द्वारा जड़ से खत्म कर सकते है | मोरिंगा के बींज लीवर सिरोसिस जैसी समस्या में भी काफी फायदेमंद है |

और पढ़े – क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीस का इलाज – Chronic Obstructive Pulmonary Disease In Hindi

Tagged आहार सुझाव
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *