बरसात में कैसे रखे सेहत का ख्याल- Rainy Season In Hindi

0
94
बरसात में कैसे रखे सेहत का ख्याल

बरसात के मौसम में अपनी सेहत का ख्याल कैसे रखा जायें इसके बारे में बहुत लोगो के मन में कई तरह की विचार आते होंगे |कुछ लोगो को सही आते होंगे तो कुछ लोगो को गलत इसलिए आज हम आपको सही तरीके बताने जा रहे है जिससे आप बरसात के मौसम में भी अपनी सेहत का ख्याल रख सकते है | तो आइये जानते है |

आज कल हर एक वयक्ती चाहता है की वो स्वास्थ और हर बीमारी से मुक्त रह सके |इसलिए आपको स्वास्थ और निरोग रहने की लिए शारीरिक अवस्था, स्थान, देश और मौसम के अनुसार भोजन करना चाहिए | अगर आप ऐसा नही करते है तो आपको कई बीमारी अपनी चपेट में ले सकती है |

और इसका यही कारण है कि आयुर्वेद में मौसम के आधार पर आहार-विहार का निर्धारण किया गया है। आपको अपने शरीर का हर मौसम में ख्याल रखना चाहिए |

चाहे सर्दी हो या गर्मी और बरसात भी आपको हर मौसम में आपको अपने शरीर का ख्याल रखना है | बरसात के मौसम में वातावरण में नमी आ जाती है ,जिसके कारण शरीर की पाचन किर्या बंद पढ़ जाती है |

और फिर बहुत सी बीमारी पैदा हो जाती है | बरसात के मौसम में त्वचा से जुडी कई बीमारियां भी घेर लेती है |पानी गंदा हो जाता है जिस कारण बीमारी होने संभावना बढ़ जाती है|

 बारिश के मौसम का स्वास्थ पर प्रभाव

बरसात के मौसम में बहुत से लोगो का शरीर भारी-भारी रहता है। शरीर सुस्त भी रहता है ,तथा किसी काम को करने का मन नही करता बस ऐसा लगता है की दिनभर सोते रहो |

इन सब का कारण यह है की जब बरसात होती है ,तो चलन-परिचालन प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है । बरसात के मौसम में शरीर में बहुत प्रकार की परेशानिया आ जाती है |

पित्त की मात्रा बिगड़ जाती है। बरसात के मौसम में शरीर में दर्द, थकावट, ज्वर, दस्त, उल्टी एवं त्वचा रोग शरीर में गलत खाने की वजह से तथा खाना ना पचने व सही समय से खाना ना कारण हो जाती है |

बरसात के मौसम में वयक्ती के शरीर की रक्षात्मक क्षमता बिलकुल खत्म हो जाती है , एवं बीमारियों से लड़ने की शक्ति भी समाप्त हो जाती है।

बरसात के मौसम में खानपान कैसा करे

भोजन कैसा करना चाहिए

बरसात के मौसम में आपको पुराने गेहूं का ही उपयोग करना है क्योकि नए गेंहू के इस्तेमाल से पाचन किर्या पर बुरा असर पड़ता है | आपको इस मौसम में सिर्फ पुराने चावल, गेहूं, खिचड़ी, मूंग की दाल, मसाले से युक्त साग-सब्जी जैसे-परवल, बैंगन, बथुए का साग, तरबूज एवं चाय आदि का उपयोग करना ही ठीक रहेगा है।

इस मौसम में उमस के कारण शरीर से काफी पसीना आता है और बहुत देर से सूखता है। पूरा शरीर चिपचिपा हो जाता है जिससे त्वचा की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। इस बीमारी से बचने के लिए आपको नीम, करेला आदि का प्रयोग करना चाहिए।

और इसके साथ ही कोष्ठ को शुद्ध रखने के लिए त्रिफला का सेवन करना चाहिए । सोंठ, लहसुन, प्याज तथा पुदीने का भी सेवन करना भी फायदेमंद होगा |

कैसा पानी पीना चाहिए

बारिश के मौसम में आपको इस बात का जरुर ध्यान रखना है की आपको किस प्रकार का पानी फायदेमंद रहेगा |आपको कच्चा पानी बिलकुल भी नही पीना है तथा पानी को उबालकर उसे ठंडा हो जाने के बाद ही उस पानी को पीना है |

बारिश के मौसम में आपको ज्यादा ठंडे पदार्थ नही लेना है |बारिश के होने से पानी दूषित हो जाता है जिस कारण रोग होने लगते है ,इसलिए हमे शुद्ध पानी का इस्तेमाल करना चाहिए |

इस तरह का भोजन व फल न खायें

आपको सड़े-गले व कच्चे फल नही खाना है तथा बासी सब्जियां, चाट-पकौड़े, फास्ट फूड्स, ठंडे पेय, आइसक्रीम, फ्रूट जूस और गन्ने का रस बिल्कुल भी नही लेना है ,इनसे आपको काफी दिक्कत आ सकती है और आम तो बिलकुल ही कम खाएं तथा उसके बाद कोई शरबत लेना न भूलें।

इस मौसम में ऐसा भोजन करे जो हल्का हो तथा तुरंत पच जायें | मांस, मछली, दही, कच्चा दूध, लस्सी आदि का भोजन में प्रयोग ना करे । क्योंकि बरसात के मौसम में ये नहीं पच पाएंगे और फालतू में ही रोग घेर लेंगे।आपको घी, मक्खन तथा चिकने भोजन से भी बचना है |

नींबू का प्रयोग करे

बरसात के मौसम में ध्यान रखने की मुख्य बात यह है की आपको इस मौसम में रोजाना नींबू का प्रयोग करना चाहिए तथा 500 मिलीग्राम की विटामिन सी की एक टेबलेट भी लेनी चाहिए |क्योकि नींबू रोग -निरोधक होता है तथा शरीर में शक्ति भी प्रदान करता है |

यदि इस मौसम में किसी वयक्ती को दमा या श्वास रोग की परेशानी हो तो कफ नाशक पदार्थों-काली मिर्च, काला नमक, दालचीनी, सोंठ, जीरा आदि का प्रयोग करना उसके लिए बहुत लाभकारी रहेगा |

शरीर को भीगने से बचाए

बरसात के मौसम में आपको अपने शरीर को पानी से भीगने से बचाना है |अगर आप इस मौसम में कही आते जाते है तो उस समय आपको छाता या बरसाती को अपने साथ ले जाना चाहिए|

अगर आप बारिश में गीले हो जाते है तो आपको तुरंत कपड़े बदल लेने चाहिए तथा साफ़ तौलिए से शरीर को अच्छी तरह शरीर को सुखा लेना चाहिए | और सूखे कपड़े पहन लेने चाहिए तथा इसके बाद गरम चाय या कॉफी पीएं इससे आपको काफी अच्छा लगेगा |

बरसात के मौसम में धुप वैसे तो कम ही देखने को मिलती है लेकिन जब भी निकलती है तो बहुत तेज़ निकलती है |इससे बचने के लिए आपको छाते का इस्तेमाल करना चाहिए |इस मौसम में हल्के कपड़े पहने क्योकि इस मौसम में बहुत उमस होती है |

बरसात के मौसम में बारिश के पानी से भीगने के बाद पंखे की हवा तुरंत ना खायें ।पहले शरीर का तापमान सामान्य होने दें। उसके बाद पंखा चलाएं।

और पढ़े – बरसात के मौसम में शरीर की देखभाल-Body Care In Rainy In Hindi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.