गर्भावस्था के पहले तीन महीनों के दौरान कैसे करे देखभाल

0
124
गर्भावस्था के पहले तीन महीनों के दौरान कैसे करे देखभाल

गर्भावस्था में देखभाल : गर्भावस्था या गर्भधारण करना महिलाओं के लिए एक सबसे अच्छा एहसास हैं और हर महिला माँ बनना चाहती हैं | उस खास एहसास को महसूस करना चाहती हैं जो हर एक महिला के लिए बहुत खास और खुशनुमा होता है, जिसे वो पूरी तरह जीना चाहती है |

आज हम आपको बतायगे, गर्भधारण से प्रसव तक की सावधानियो मे क्या करना चाहिये, और क्या नहीं करना चाहिए |

गर्भावस्था के पहले तीन महीनों के दौरान सावधानिया :

गर्भधारण के शुरूआती दिनों में बहुत सी परेशानियां आती है, हम आपको बतायगे, इन परेशानीयों से कैसे निपटा जा सकता है, और कैसे अपना ख्याल रख सकते है | ये परेशानियां शुरू के तीन महीनों तक ज्यादा रहती है |

गर्भधारण के दौरान इन बातो का रखें सबसे ज्यादा ख्याल :

  • गर्भवती होने के शुरूआती महीनों में ज्यादा भीडभाड, प्रदूषणऔर रेडिएशन वाली जगह पर जाने से बचना चाहिए |
  • सुबह की सिकनेस से बचने के लिए नीबू – पानी पीना चाहिए |
  • दिनभर में चार या पांच बार तरल चीजे, जैसे – छाछ, नीबू पानी, नारियल पानी, जूस आदि लेना चाहिए|

गर्भधारण के शुरूआती महीनों में जरुरी मेडिकल टेस्ट :

  • गर्भावस्था का पता चलते ही सबसे पहले हमे डॉक्टर के पास जा कर सलाह लेनी चाइए और हीमोग्लोबिन, केल्शियम, ब्लड शुगर, यूरिन और एचआईवी आदि की जाँच करना चाहिए |
  • दूसरे महीने में अल्ट्रासाउंड करना जरुरी है, जिससे हम बच्चे की धडकन जान सके, बच्चे का विकास कैसा हो रहा है,  और बच्चे की स्थिति का पता हो सके | उस जाँच मैं  डॉक्टर डिलिवरी की तारीख  प्लान करते है  |
  • शुरू के तीन महीने में मंथली चेकअप होता है | जिसे हमे अपनी जानकारी के लिए कराते रहना चाहिए |

गर्भावस्था के समय इन बातो का रखे खास ख्याल :

  • भारी वजन न उठाएं |
  • जल्दी जल्दी सीढ़िया न चड़े |
  • हील और उची सेंडल न पहेने |
  • कमर से झुकने के बजाय घुटने मोड़कर बैठें |

गर्भावस्था के तीसरे महीने में क्या खाएं : गर्भावस्था में देखभाल

गर्भावस्था के तीसरे महीने में गर्भवती माँ को विटामिन से भरपूर फल खाना चाहिए | गर्भवती महिला को अपने खान पान  में खट्टे फल, अंडे, हरी पतेदार सब्जिया और आलू को खाना शुरू करना चाहिए | और गर्भावस्था के दोरान प्रोटीनयुक्त मछली खाना बहुत फायदेमंद होता है | गर्भवती महिला को आहार में चुकंदर, दलीया, दाले, संतरे, और ब्रोकली जेसी सब्जिया और फलो  का सेवन करना चाहिए |

गर्भधारण के शुरूआती तीन महीनों मे क्या न खाए :

  • गर्भधारण के दौरान कुछ महिलाये डॉक्टरकी सलाह के बिना ही दवा खाना शुरू कर देती है, जबकि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए | ऐसा करने से उनका गर्भपात होने की संभावना अधिक हो जाती  है |
  • गर्भावस्था के समय कच्चे मास का सेवन भी नहीं करना चाहिए |
  • हमें पपीता, अनानास का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए |
  • गर्भावस्था के समय डाइटिंग ना करे , इससे शरीर में आयरन, फोलिक एसिड, विटामिनस और कई तरह के पोषक तत्वों की कमी हो सकती है |

गर्भावस्था के तीसरे महीने में माँ को ऐसा महसूस होता है : गर्भावस्था में देखभाल

गर्भावस्था में सिरदर्द एक आम परेशानी होती है | और रात को सोते समय परेशानी आती है | और परिवर्तन जेसे की त्वचा का रंग बदलना, रक्तचाप बढना, वजन बढने का अनुभव होना, और अन्य शारीरिक परिवर्तन जेसे:- गर्भाशय का बढना, पेट के निचले हिस्से में सूजना को महसूस करना, ब्रेस्टर के आकर में परिवर्तन दिखाई देना |

गर्भावस्था के तीसरे महीने में भ्रूण की क्रियाएं : गर्भावस्था में देखभाल

गर्भवती महिला को ये जानने की बहुत उत्यसुक्ता होती है| की उसके गर्भ में बच्चा केसा है| और उसका विकास केसा कितना हुआ है | बच्चे की त्वचा आने लगती है | तीसरे महीने के दोरान बच्चे की पलके, हाथो और पेरो की उंगलिया बनने लगती है | सर अपना आकर ले लेता है | बच्चे की दिल की धड़कन आने लगती है | ये सब आपको अल्ट्रासाउंड में दिखाई देता है | और कुछ दिनों बाद आप इसे खुद महसूस कर सकती है | और उसकी हलचल को भी |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.