जानिये पतंजलि अश्वशिला कैप्सूल के लाभ व सेवन के तरीके के बारे में – Patanjali Ashvashila Capsule In Hindi

0
133
patanjali-ashvashila-capsule

पतंजलि अश्वशिला कैप्सूल अश्वगंधा और शिलाजीत के मिश्रण से बनाई गयी एक आयुर्वेदिक व यौनवर्धक दवा है | यह दवाई यौन कमजोरी, थकान, तनाव, अस्थमा, एलर्जी, मधुमेह, न्यूरोपैथी व मूत्र संक्रमण के उपचार में लाभदायक साबित होती है | क्योंकि इन जड़ीबूटियों में एन्टीऑक्सडेंट, रोगाणुरोधी व एंटी-इंफ्लेमेटरी के साथ साथ फॉस्फेट, सोडियम, क्लोरीन, पोटेशियम व मैग्नीशियम के गुण पाये जाते है जो पीड़ित व्यक्ति को स्वस्थ बनाने का काम करते है |

इस दवा से होने वाले लाभ

मधुमेह के इलाज में लाभदायक है –

मधुमेह रोगियों के लिये यह दवा वरदान की तरह काम करती है इस दवाई के सेवन से पीड़ित रोगी के शरीर में जमा रक्त शर्करा का स्तर सामान्य होने लगता है व रोगी का बढ़ा हुआ शुगर लेवल सामान्य होने लगता है |

कामोद्दीपक जाग्रत करती है –

कई लोगों को यौन इक्छा समाप्ति के कारण पारिवारिक जीवन में दिक्कत का सामना करना पड़ता है यह दवाई के सेवन से पीड़ित रोगी के शरीर में हार्मोन्स के साथ साथ रक्त संचार में भी सुधार आने लगता है | व दोबारा से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में कामोद्दीपक जाग्रत हो जाता है | (और पढ़े – यौन शक्ति बढ़ाने के बारे में )

तनाव खत्म करती है –

आज के इस भाग दौड़ भरे जीवन में कई युवा तनाव से ग्रस्त हो जाते है तनाव ग्रस्त व्यक्ति को आये दिन कई प्रकार की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है यह दवा पीड़ित के शरीर में ताजगी व चुस्ती भरने का काम करती है |

दमा को खत्म करती है –

दमा श्वसन से जुडी एक समस्या होती है यह रोग संक्रमण व एलर्जी के कारण आपको परेशान कर सकता है | यह दवा पीड़ित के फेफड़ों में जमा संक्रमण व गंदगी को दूर करने का काम करती है | (और पढ़े – अस्थमा के बारे में )

पाचन तंत्र को बेहतर बनती है –

पाचन तंत्र में समस्या लिवर में आयी परेशानी के कारण जन्म लेती है जिसके कारण पीड़ित को भूख में कमी, एसिडिटी, कब्ज पेट दर्द की समस्या से जूझना पड़ता है यह दवा लिवर में मौजूदगंदगी को जड़ से साफ़ करने का काम करती है

शुक्राणु की संख्या को बेहतर बनाने का काम करती है –

शुक्राणु की संख्या कम होने से पीड़ित को प्रजनन कमजोरी का सामना करना पड़ता है यह समस्या महिला व पुरुष दोनों में हो सकती है पीड़ित रोगी यदि इस दवा का सेवन करे तो वह अपने शुक्राणु की संख्या को बेहतर बना सकता है |

कैसे करे इस दवा का सेवन –

रोगी को इस दवा का सेवन रोजाना सुबह शाम दूध व गुनगुने पानी के साथ करना चाहिये इस दवा का सेवन केवल 18 साल से अधिक उम्र के लोगो ही कर सकते है बच्चों को इस दवा के सेवन से दूर रखे |

नोट :- इस दवा के सेवन के बाद किसी भी प्रकार की कोई यौनवर्धक दवा का सेवन नही करना चाहिये | यदि आप इस इस लेख से जुड़े किसी सवाल को हमसे पूछना चाहते है तो हमारे कमेन्ट बॉक्स में हमे जरुर बताये

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.