पीड़ादायक पेशाब – Painful Urination Treatment In Hindi

0
145
Painful Urination Treatment In Hindi

आमतौर पर कई महिलाओं और पुरुषों में यह समस्या देखने मे आती है कि, पेशाब करते वक़्त उन्हें दर्द महसूस होता है. अगर यह समस्या आपके साथ भी हो रही है, तो यह सतर्क होने का वक़्त है. पेशाब में जलन कई समस्याओं की तरफ इशारा करता है, लेकिन जो सबसे प्रमुख कारण होता है, वह संक्रमण का है.

पेशाब मार्ग में किसी भी प्रकार का संक्रमण पेशाब में जलन पैदा कर सकता है. महिलाओं में यह समस्या आमतौर पर पीरियड के वक़्त दिखाई देती है. इस समस्या के दौरान पेशाब के साथ सफेद पानी भी आ जाता है. यह महिलाओं के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से काफी पीड़ादायी होता है.
यदि पुरुषों की बात की जाए तो यह समस्या इनमे कम पाई जाती है. पुरुषों में यह समस्या तभी देखने को मिलती है, जब गलत आदतों कर कारण पेशाब मार्ग संक्रमित हो जाएं.

पेशाब में जलन होने के प्रमुख कारण

  • पेशाब में जलन होने का मुख्य कारण यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन को माना जाता है. इसकी वजह से पेशाब करते वक़्त जलन, और दर्द महसूस होता है. यह संक्रमण जननांगों की साफ सफाई का ध्यान न रखने के कारण भी हो जाता है. इसके अलावा मूत्र मार्ग में किसी गंभीर बीमारी की स्थिति को भी दर्शाता है. सामान्यतः यह दर्द सहनीय होता है, पर इलाज न मिलने पर यह असहनीय दर्द में भी बदल सकता है.
  • किडनी में पथरी की उपस्थिति भी पेशाब में दर्द की वजह बन सकती है. किडनी होने की स्थिति में पेशाब बहुत कम मात्रा में और धीरे धीरे आता है.
  • यूथेराइटिस पेशाब संबंधी एक बीमारी है, जिसके होने पर पेशाब मार्ग में सूजन आ जाता है, और पेशाब करने के दौरान काफी दर्द और जलन की अनुभूति होती है. इस दौरान कभी कभी पेशाब के साथ खून या वीर्य की बूंदे भी गिरती है.
  • मूत्र अंगों में से ब्लेडर एक प्रमुख अंग है. यदि किसी भी व्यक्ति को ब्लैडर में कैंसर की समस्या हो रही है, तो उससे पेशाब करते वक़्त दर्द का अनुभव हो सकता है. मूत्राशय में कैंसर की स्थिति में कुछ कोशिकाएं अनियंत्रित होकर फैलने लगती है, और अपने आस पास की कोशिकाओं के कार्य मे बाधा उत्पन्न करती है.
  • क्लैमाइडिया एक तरह का यौन रोग है जो यौन संबंधों के द्वारा फैल सकता है. इसलिए यौन संबंध बनाते समय सुरक्षा और साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

पेशाब में जलन होने पर कराए जाने वाले परीक्षण

यदि पेशाब के दौरान दर्द और जलन लगातार कई दिनों तक हो रहा है, तो यह एक चिंता का विषय हो सकता है. यह एक गंभीर बीमारी का सूचक भी हो सकता है. इसलिए ज्यादा1 वक्त गवाए कुछ परीक्षण करवाना चाहिए, जिससे स्थिति का सही अनुमान लगाया जा सके.

  • पेशाब की जांच एक प्रमुख परीक्षण है, पेशाब संबंधी रोगों का सही आकलन करने के लिए. यदि मूत्राशय या मूत्र मार्ग में किसी भी तरह का संक्रमण है तो पेशाब की जांच के द्वारा इसका पता लगाया जा सकता है.
  • कुछ विशेष परिस्थितियों में खून की जाँच करवाना भी जरूरी होता है. इस जांच के माध्यम स्व खून में उपस्थित किसी भी तरह का बैक्टिरिया आसानी से पता लगाया जा सकता है. 
  • पेशाब में जलन का एक मुख्य कारण यौन संबंधों के दौरान एक पार्टनर से दूसरे पार्टनर में फैलने वाले रोग भी है. असुरक्षित यौन संबंधों से सिफलिस, क्लैमाइडिया, एड्स जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती है. इसलिए पेशाब में यदि जलन या दर्द महसूस हो रहा है तो इन सब बीमारियों की जांच भी आवश्यक है.

पेशाब में जलन दूर करने के घरेलू उपाय

  • ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए. पेशाब में जलन का मुख्य कारण पेशाब मार्ग में किसी प्रकार का संक्रमण का होना होता है. इसलिए जितना ज्यादा हो सके, पानी पिए. पानी पूरे पेशाब मार्ग को स्वच्छ कर देता है.
  • बेकिंग सोडा के इस्तेमाल से भी पेशाब का संक्रमण ठीक किया का सकता है. यह यूरिन में मौजूद एसिडिटी को कम करता है. इसके सेवन के लिए 1 ग्लास पानी ले, और उसमें 1 चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर खाली पेट पी जाएं. यह पेय लगातार 1 सप्ताह तक पिएं. इससे पेशाब का संक्रमण खत्म हो जाएगा.
  • दही का सेवन भी बैक्टीरिया को खत्म करता है. दही में भी बैक्टीरिया मौजूद होते है, लेकिन वो सेहत लो लाभ पहुचाने वाले होते है. दही में मौजूद ये बैक्टीरिया पूरे बैक्टीरिया को खत्म कर देते है. इसलिए संक्रमण की स्थिति में कम से कम 2 से 3 कप दही का सेवन जरूर करें.
  • नीबू एक बेहद ही औषधीय पेड़ होता है. इसमे सिट्रिक एसिड प्रमुख रूप से पाया जाता है, जिस वजह से इसमे एन्टीबैक्टिरियल गुण पाए जाते है. इसलिए संक्रमण की स्थिति में नींबू का सेवन करना चाहिए. इसके लिए 1 ग्लास गर्म पानी मे नीबू का रस और 1 चम्मच शहद मिलाकर खाली पेट पियें.
  • अदरक का भी आयुर्वेद में बहुत महत्व है. यह एक एन्टीबैक्टिरियल के साथ ही एन्टीवायरल भी होता है. अपने इन्ही गुणों के कारण अदरक का कई बीमारियों में प्रयोग किया जाता है. संक्रमण की स्थिति में अदरक का पेस्ट और शहद मिलाकर खाने से लाभ होता है. इसके अलावा आप हल्के गुनगुने दूध में अदरक का रस मिलाकर पिएं. यह संक्रमण की स्थिति में काफी लाभदायक होता है. 
  • खीरा एक ऐसा फल होता है जिसमे पानी प्रचुर मात्रा में होता है. इसके सेवन से शरीर मे डिहाइड्रेशन की समस्या दूर होती है. संक्रमण की स्थिति में भी खीरे का सेवन काफी लाभप्रद होता है. इसका रस निकालकर उसमे शहद और नींबू का रस मिलाकर पिया जा सकता है. इसके अलावा खीरे का सीधा सेवन भी किया जा सकता है.
  • धनिया भी पेशाब के संक्रमण में बहुत फायदा दे सकता है. इसके लिए 3 कप पानी ले, और उसमें धनिया का पाउडर मिलाकर रात भर भीगने के लिए रख दे. अगलीं सुबह उस पानी मे गुड़ मिलाकर अच्छे से मिक्स कर ले, और 1-1 कप पानी दिन में 3 बार पियें. इसके अलावा 1 कप पानी लें, और उसमें साबुत धनिया मिलाकर उबाल लें, और ठंडा होने के बाद दिन में कम से कम 2 बार इस पानी को पियें.
  • पेशाब में संक्रमण की स्थिति में मेथी के सेवन भी काफी लाभप्रद होता है. इसका सेवन छाछ ले साथ किया जा सकता है. 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.