मेनिनजाइटिस का घरेलु उपचार

0
110
Meningitis
Meningitis

मेनिनजाइटिस का घरेलु उपचार : दोस्तों हर साल बुखार के पीडितो की संख्या बढती जा रही है उसी तरह बुखार का एक प्रकार मस्तिष्क बुखार जिसे मस्तिष्क ज्वर कहा जाता है के मरीजो की संख्या भी बढती जा रही है दोस्तों मेनिनजाइटिस(Meningitis) या मस्तिष्क का बुखार बहुत ही खतरनाक और संक्रामक रोग है जो की मेनिन्गोकस नामक जीवाणु से होता है इसमे मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में सूजन आ जाती है इसे सामान्य भाषा में गर्दन तोड़ बुखार भी कहा जाता है दिमागी बुखार तीन प्रकार का होता है |

वायरल मेनिनजाइटिस(Viral Meningitis) 

यह एक गंभीर संक्रमण नही है यह मच्छर जनित वायरस(Virus) के रूप में शरीर में पहुंचकर बुखार का कारण हो सकता है इस प्रकार के मेनिनजाइटिस (Meningitis) के लिये कोई विशेष उपचार नही है |

वैक्टीरियल मेनिनजाइटिस(Bacterial Meningitis)

आमतौर पर यह एक गंभीर संक्रमण है यह वैक्टीरिया(Bacteria) तीन प्रकार से होता है

हेमोफिलिस इन्फ्लुएंजा(Haemophilis Influenza)

नेसेरिया मेनिनजाइटिस(neisseria meningitis)

स्ट्रैपटोकोकस निमोनिया बैक्टीरिया(Streptococcus pneumoniae Bacteria)

फंगल मेनिनजाइटिस(Fungal Meningitis)  मेनिनजाइटिस का घरेलु उपचार

इससे मेनिनजाइटिस(Meningitis)होने का खतरा सबसे कम होता है यह संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को नही फैलता है यह जिनका इम्यून(Immune) सिस्टम कमजोर हो, कैंसर(Cancer) हो, एज.आई.वी(Hiv) हो तो उन्हें प्रभावित करता है दोस्तों मेनिनजाइटिस(Meningitis) के लक्षणों(Symptoms) की पहचान बहुत ही आसान है छोटे बच्चो (Meningitis In Babies) में निम्न लक्षणों(Symptoms) पर गौर करना चाहिये जैसे बच्चो का तेज या कराह कर रोना, तेज व आसामान्य सांसे लेना, लाल धब्बे पड़ जाना आदि और बडो में इन बातो पर ध्यान देना चाहिये गर्दन में अकडन, जोड़ो में दर्द, सिर दर्द, बुखार, उल्टी आदि इन लक्षणों के साथ हमे वो कारण भी पता होना चाहिये जिनसे मेनिनजाइटिस(Meningitis) होने की सम्भावना रहती है

मेनिनजाइटिस के  कारण (Causes Of Meningitis)

मेनिनजाइटिस(Meningitis) में बैक्टीरिया(Bacteria) ब्लड स्ट्रीम(Bloodstream) में प्रवेश करके दिमाग और स्पाइन(spine) कार्ड में चला जाता है कई बार जुकाम या साइनम की समस्या होने से भी यह बैक्टीरिया(Bacteria) नाक और मुंह के द्वारा शरीर में प्रवेश कर जाते है और दिमाग में सूजन पैदा करते है दिमागी बुखार का घरेलु उपाय और आयुर्वेदिक दवाइयों(Ayurvedic Medicine) द्वारा इलाज(Ilaj) किया जा सकता है तो आइये जानते है दिमागी बुखार के इलाज के घरेलु उपाय

  • शरीर को पूरी तरह आराम दे |
  • रोगी को अंधेरे और शांत कमरे में रखे |
  • रोगी को अनार का जूस दे और लहसुन का सेवन भी करे |
  • ओ.आर.एस (Ors) का घोल गरम पानी के साथ सेवन करे |
  • यदि आपके क्षेत्र में बुखार फैला हो तो मास्क का प्रयोग करने में ना शरमाये |
  • सामान्य से ज्यादा एल्कोहल का सेवन न करे |
  • धूमपान लेने से और इसके धुये से बचे |
  • यदि आपको कानो में कोई समस्या हो तो तुरंत इलाज(Ilaj) करवायें |
  • बदलते मौसम खासकर सर्दियों में इम्यून(Immune) सिस्टम को मजबूत बनाये रखे इसके लिये आप नियमित रूप से वयायम करें |
  • जंक फूड(Junk Food) ना खाये और पौष्टिक खाने को प्राथमिकता दे विटामिन(Vitamin) युक्त पद्रार्थ खायें |
  • दिमागी बुखार पीड़ित व्यक्ति से दुरी बनाये रखें |
  • खुद को दिमागी बुखार से बचने वाली वैक्सीन लगवायें |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.