घुटनों में दर्द के कारण व इलाज – Knee Pain Treatment In Hindi

0
91
Knee Pain

घुटनों में दर्द का होना एक सामान्य समस्या मानी जाती है क्योंकि यह समस्या किसी भी उम्र में किसी को भी अपनी चपेट में ले लेती है | वैसे अधिकतर यह परेशानी अधिक उम्र के व्यक्तियोंमें देखी जाती है लेकिन कई बार घुटनों में दर्द चोट लगने की वजह से भी उत्पन्न हो जाता है | घुटनों में दर्द घुटनों में मौजूदलिगामेंट के टूटने व जोड़ों में मौजूद एक रेशेदार और लचीला सफेद रंग का ऊतक फटने के कारण होने लगता है |

यह ऊतक आपके घुटने, गले और श्वसन तंत्र समेत शरीर के कई भागों में स्थित होता है | घुटने में दर्द गठिया, गाउट व किसी संक्रमण के कारण भी उत्पन्न हो सकता है | आप इस दर्द का घर पर  कुछ फिजीकल थेरेपी व घुटने के ब्रेसिज़ का प्रयोग करके आसानी से उपचार कर सकते है|तो दोस्त आइये जानते है घुटने के दर्द के कारण, लक्षण, जाँच और इलाज को विस्तार से –

दर्द होने के कारण –

घुटने में दर्द उठने के बारे में डॉक्टरों की कई प्रकार की राय व सुझाव शामिल है | घुटनों में क्रॉनिक दर्द व कुछ समय का दर्द दोनों अलग अलग माने जाते है | कई लोगों में कुछ समय के लिए होने वाला दर्द चोट व किसी दुर्घटना के कारण उत्पन्न होता है | वही अगर घुटनों में क्रॉनिक दर्द की बात करे तो यह दर्द कई कारणों से शरीर में जन्म लेने लगता है | तो आइये जानते है इस समस्या को विस्तार से –

बर्साइटिस की वजह से –

यदि आप बर्साइटिस का प्रयोग अधिक बार करते है | तो भी आपके जोड़ो में दर्द कि समस्या होने लगती है |

ऑस्टियोआर्थराइटिस होने से –

ऑस्टियोआर्थराइटिस होने पर आपके घुटने की स्थिति खराब होने के कारण दर्द की समस्या होने लगती हैं |

टेंडिनाइटिस की समस्या होने पर –

टेंडिनाइटिस होने पर आपको आपके घुटने के अगले हिस्सें में दर्द होने लगता है | यह अधिकतर अधिक सीढ़ियां चढ़ने के कारण होती है |

बेकर्स सिस्ट के कारण दर्द –

बेकर्स सिस्ट की वजह से घुटने के पीछे सिनोवियल नामक द्रव निकलने के कारण दर्द की समस्या होने लगती है |

गाउट की वजह से दर्द –

गाउट को गठिया का ही एक रूप माना जाता है | गाउट के कारण घुटनों में यूरिक एसिड बनाने लगता है जिसके कारण दर्द की समस्या होने लगती है |

डिस्लोकेशन के कारण दर्द –

डिस्लोकेशन में आपके घुटने की उपरी हड्डियों के जोड़ हिल जाने के कारण दर्द होने लगता है |

मेनिस्कस टियर के कारण दर्द –

मेनिस्कस टियर के कारण आपके घुटने में मौजूदकार्टिलेज टूट के बिखर जाने के कारण दर्द की परेशानी होने लगती है |

हड्डियों के ट्यूमर के कारण दर्द –

यदि आपके हड्डियों में ट्यूमर यानि ऑस्टियोसार्कोमा कैंसर के कारण भी आपको दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है |

घुटने पर घातक चोट लगने के कारण दर्द –

यदि आपके घुटने पर किसी भी प्रकार की कोई चोट लगी है और अपने सही समय पर इसका इलाज नही करवाया तो भी आपको आगे दर्द की परेशानी का समाना करना पड़ सकता है |

अधिक उम्र के कारण दर्द –

यदि आप अधिक उम्र के हो चुके है तब आपको घुटनों में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है | अधिक उम्र में आपके घुटनों में मौजूदलिगामेंट व ऊतक कमजोर व पूरी तरह खत्म हो जाते है जिसकी वजह से आपको दर्द का सामना करना पड़ता है |

इस दर्द के जिम्मेदार कुछ और कारण :

  • घुटने से आवाज का आना |
  • अधिक कमजोरी का होना |
  • घुटने की त्वचा का लाल होना |
  • घुटने पर सूजन और जकड़न होना |
  • घुटने को छूने पर गर्म महसूस होना |
  • चलने व खड़े होने में दिक्कत होना |
  • पैर सीधा न कर पाना |
  • घुटने में जल्दी लचक आने लगना |

 इस दर्द में होने वाली जाँच :

यदि आप अपने घुटने के दर्द से अधिक परेशान है तो आपको डॉक्टर के द्वारा होने वाली कुछ जाँच का सहारा जरुर लेना चाहिये | क्योंकिजाँच के द्वारा आपके घुटने में मौजूद समस्या व इलाज का पता लगाया जा सकता है | तो आइये जानते है इस दर्द में होने वाली जांच कौन सी है –

एक्स-रे की जाँच –

एक्स-रे के द्वारा भी आपके घुटने में मौजूद समस्या का पता लगाया जा सकता है जिससे आपके इलाज में बहुत मदद मिलती है | आप यह जाँच अपने नजदीकी किसी भी सरकारी व प्राइवेट अस्पताल में एक हाजर रुपया से कम कीमत में करवा सकते है |

एमआरआई जाँच –

एमआरआई को मैग्नेटिक रेज़ोनेंस इमेजिंग के नाम से जाना जाता है | इस जाँच में शक्तिशाली चुम्बकीय, रेडीयो किरणों और कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है | जिससे आपके घुटने में मौजूद लिगामेंट व ऊतक के बारे पता लगाकर आगे के इलाज की सलाह दी जाती है | आपको इस जाँच के लिए लगभग एक से पांच हजार रूपए तक का खर्चा करना पड़ता है | इस जाँच को आप सरकारी व प्राइवेट किसी भी अस्पताल में करवा सकते है |

सी.टी स्कैन जाँच –

सी टी स्कैन या कंप्यूटराइज्ड टोमोग्राफी एक्स-रे का ही एक रूप होता है | सी.टी स्कैन को कम्यूटराइज एक्सीयल टोमोग्राफी यानि CAT के नाम से भी जाना जाता है | इस जाँच के द्वारा आपके घुटने के चित्र लिए जाते है, जिससे उसमे मौजूद समस्या का पता लगया जा सके | आप इस जाँच को सरकारी व प्राइवेट किसी भी अस्पताल में करवा सकते है | इस जाँच के लिए आपको एक से दो हजार रूपए की कीमत देनी पड़ती है |

ब्लड की जाँच –

ब्लड टेस्ट के द्वारा डॉक्टर आपके शरीर में संक्रमण के बारे में पता लगते है | इस जाँच के द्वारा आपके रक्त में मौजूदलाल रक्त कोशिका की जाँच की जाती है | यदि आपके रक्त में किसी भी प्रकार का कोई संक्रमण पाया जाता है तो डॉक्टर दवा के द्वारा आपकी इस समस्या का इलाज करते है | आप इस जाँच को किसी भी सरकारी अस्पताल में फ्री करवा सकते है |

इस दर्द के सरल इलाज :

घुटने में दर्द जैसी समस्या होने पर आप इस परेशानी का कई प्रकार से इलाज करवा सकते है | तो दोस्तों आइये जानते है घुटने में दर्द होने पर किये जाने वाले इलाज के बारे में विस्तार से –

टीके के द्वारा –

कई बार जब आपको दवा के द्वारा दर्द में आराम नही मिलता है, तब डॉक्टर इन्जेक्शन्स के द्वारा अपका इस समस्या का इलाज करते है | आपको कोर्टिकोस्टेरॉयड व सप्लिमेंटल लूब्रीकेश्न्स जैसे टीके लगाये जाते है, जिससे आपके जोड़ों में हो रहे दर्द को खत्म किया जा सके | आप इस टीके को अपने नजदीकी किसी भी अस्पताल में लगवा सकते है |

सर्जरी के द्वारा –

यदि आपके जोड़ों में किसी चोट व बीमारी के कारण अधिक दर्द का सामना करना पड़ रहा है | तो डॉक्टर सर्जरी के द्वारा आपकी इस समस्या का इलाज करते है | घुटने की सर्जरी निम्न तरीकों से होती है –

आर्थरोस्कोपिक सर्जरी –

आर्थरोस्कोपिक सर्जरी के द्वारा डॉक्टर आपके घुटने में मौजूदकार्टिलेज को हटाकर या फिर ठीक करके आपकी दर्द जैसी समस्या को ठीक करते है | इस सर्जरी के द्वारा आपके घुटने में लिगामेंट्स का निर्माण भी किया जाता है | आप इस सर्जरी को सरकारी व प्राइवेट किसी भी अस्पताल में करवा सकते है |

घुटने का प्रतिस्थापन करना –

यदि आपके जोड़ो में गंभीर कैंसर जैसी समस्या जन्म ले रही है | तो डॉक्टर आपके घुटनों को बदलने की सलाह देते है | डॉक्टर आपके पिंडली की हड्डी और घुटने से क्षतिग्रस्त हड्डी और कार्टिलेज को काटकर इसकी जगह पर कृत्रिम अंग लगा देते है | जिससे घुटने में मौजूदसमस्या किसी और अंग को प्रभावित न कर सके | इस तरह के इलाज के लिए आपको ओर्थोपेडिक्स डॉक्टर के द्वारा ही अपना इलाज करवाना चाहिये |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.