हर्निया का घरेलू उपचार

स्वास्थ्य सुझाव

दोस्तों आमतौर पर हर्निया (hernia) होने का कारण पेट की दीवार का कमजोर होना है| पेट और जांघो के जोड़ वाले भाग में जंहा पेट की दीवार कमजोर पड़ जाती है| वंहा आंत का एक गुच्छा उसमे छेद बनाकर निकल आता है| आंत का कुछ भाग किसी अन्य से भी जंहा पेट की दीवार कमजोर होती है| बाहर निकल सकती है| परन्तु ऐसा बहुत ही कम होता है| आंत का गुच्छा बाहर निकलने से उस स्थान पर दर्द (Hernia Pain) होने लगता है| इसी की हर्निया (hernia)या आंत्रवर्दी कहा जाता है| दोस्तों हर्निया (hernia)का मुख्य कारण अत्याधिक श्रम, अपनी शक्ति से अधिक भारी वस्तु उठाना, निरंतर खांसते रहने से भी हर्निया  (hernia) होने का खतरा रहता है |

ऑपरेशन होने के बाद भी हर्निया (hernia)होने की संभावना रहती है| गर्भावस्था में पेट पर जोर पडने से भी हर्निया ((hernia) हो सकता है| परन्तु यह रोग सामान्यत पुरुषो को होता है| दोस्तों  हमे हर्निया के लक्षणों (Symptoms Of Hernia) का ज्ञान होना आवश्यक है| तो आइये जानते है हर्निया के लक्षण- (Symptoms Of Hernia)

 हर्निया के लक्षण- (Symptoms Of Hernia)

हर्निया (hernia) की प्रारभिंक स्थिति में पेट की दीवार में कुछ उभार सा आ जाता है|

इस आगे बढ़ी हुई आंत को धीरे से पीछे भी धकेला जा सकता है|

परन्तु इसे अधिक जोर लगाकर पीछे धकेलने का प्रयत्न नही करना चाहिये |

इन कारणों (Causes Of Hernia) व लक्षणों को ध्यान में रखकर हर्निया (hernia)की पहचान कर अपना बचाव कर सकते है|

 हर्निया से बचाव के घरेलु उपाय – (Hernia Home Treatment)

बर्फ-

बर्फ से हर्निया(hernia) वाले हिस्से पर सिकाई करने से काफी आराम मिलता है|

और सुजन भी काफी कम हो जाती है |

एक्यूपंक्चर-

हर्निया (hernia) के दर्द में एक्यूपंक्चर काफी आराम पहुंचता है|

खास नर्व पर दवाब से हर्निया (hernia)का दर्द कम होता है |

हावथोनिया-

यह एक हर्बल सप्लीमेंट है|

जो पेट की मांसपेशियों को मजबूत बनाती है|

और पेट के अंदर के अंगो को सुरक्षा देती है |

मार्श मैलो-

यह एक जंगली औषधि है|जो काफी मीठी होती है|

इसके जड़ में काफी औषधिय गुण होते है|

यह पाचन को ठीक करता है|

और हर्निया (hernia) में काफी फायदेमंद साबित होता है |

बबूने का फूल-

पेट में हर्निया (hernia) आने से एसिडिटी और गैस बनने लगती है|

ऐसे में बबूने के फूल के सेवन से आराम मिलता है |

अदरक की जड़-

अदरक की जड़ पेट में गैस्टिक एसिड और बाइल जूस से हुये नुकसान से सुरक्षा करता है|

यह दर्द भी कम करता है |

मुलैठी-

मुलैठी अब हर्निया (hernia) के इलाज के लिये प्रयोग किया जाने लगा है|

खासकर जब हर्निया (hernia)निकलने के बाद पेट पर रेखायें पड़ जाती है| तब इसे आजमाया जाता है |

हर्निया (hernia) के लक्षण पता लगने पर आप उसे इन घरेलु इलाजो के द्वारा कंट्रोल कर सकते है|

परन्तु यह सिर्फ प्राथमिक उपचार है| इसे प्रयोग करने पर कभी- कभी उल्टे परिणाम भी हो सकते है |

इसीलिये आप घरेलु इलाज आजमाने से पहले डाक्टर से जरुर सम्पर्क करे |

और पढे -(What Is Meningitis ? Meningitis Treatment | Meningitis Home Treatment. मेनिनजाइटिस का घरेलु उपचार.)

 

Tagged पेट रोग
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *