जानिए क्या है हेपेटाइटिस ? हेपेटाइटिस का घरेलु उपचार एवं लक्षण

0
106

दोस्तों हेपेटाइटिस  लिवर में होने वाली बीमारी है | और लीवर शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है |जो भोजन पचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | खून में जब विलिरुबिन की मात्रा बढ़ जाती है |तब पीलिया होता है और पीलिया हेपेटाइटिस  का एक मुख्य लक्षण  है | जिससे लिवर कमजोर )  हो जाता है | इसमे लिवर के ऊतको की कोशिकाओं का सूज जाना है |

जब यह रोग अन्य लक्षणों के साथ लिवर से हानिकारक पदार्थो के निष्कासन, रक्त की सरंचना के नियत्रंण और पाचन सहायक पित्त ले निर्माण में लिवर के कार्यो में बाधा डालता है |तो व्यक्ति विशेष की तबीयत खराब हो जाती है |

यदि यह समस्या 6 महीने से कम समय में ठीक हो जाये तो ठीक है  अगर यह अधिक समय तक जारी रहती है |तो चिरकालिक हो जाती है जो आगे बढ़कर प्राणघातक जानलेवा हो सकती है | दोस्तों गर्भावस्था के दौरान हेपेटाइटिस, (Hepatitis) खासकर हेपेटाइटिस B  काफी खतरनाक होता है इससे बच्चे के विकास पर तो असर पड़ता ही है |

परन्तु इससे पहले ही माँ की मौत हो जाती है ऐसे में गर्भपात की जरुरत भी पड़ सकती है | हेपेटाइटिस (Hepatitis) को सामान्यतः पानी से होने वाली बीमारी माना जाता है |जो पूरी तरह गलत है डाक्टरों के अनुसार कुछ और भी कारण होते है तो आइये जानते है वो कारण-

हेपेटाइटिस के कारण

  • अनुवांशिकता
  • कुपोषण
  • शराब
  • फैटी लीवर

इन्हे हेपेटाइटिस होने का मुख्य कारण माना जाता है |

इसके साथ ही हेपेटाइटिस (Hepatitis) के कुछ सामान्य लक्षणों से इसकी पहचान कर सकते है |

हेपेटाइटिस के लक्षण

  • अत्याधिक कमजोरी व थकान |
  • भूख में कमी |
  • चिडचिडापन |
  • उल्टी होना |
  • आँख व त्वचा में पीलापन |

तो दोस्तों इन लक्षणों  से हेपेटाइटिस को पहचान कर इससे अपना बचाब कर सकते है हेपेटाइटिस से बचाब के लिये साफ़ सफाई बेहद आवश्यक है इस बीमारी के कुछ घरेलु उपायों द्वारा भी बचा जा सकता है तो आइये जानते है

हेपेटाइटिस के कुछ घरेलु उपाय

अजवायन व जीरा-

एक चम्मच अजवायन और एक चम्मच जीरा पीसकर पावडर बना लें | इसमे एक चुटकी नमक मिलायें इस चूरन को रोजाना दो बार खायें इससे इम्युनिटी बढ़ेगी और हेपेटाइटिस (Hepatitis) में आराम होगा |

लिकोरिस पावडर

एक चम्मच लिकोरिस पावडर में दो चम्मच शहद मिलाकर प्रतिदिन खायें हेपेटाइटिस (Hepatitis) के उपचार में यह भी बेहद फायदेमंद है |

लहसून

लहसून रक्त को साफ़ करता है और शरीर में विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालता है ऐसे में रोजाना सुबह खाली पेट लहसून की एक से दो कली चबाये |

हल्दी

हल्दी इनफ्लेमंटरी गुणों से भरपूर होती है हल्दी का इस्तेमाल हेपेटाइटिस (Hepatitis) से रक्षा कर सकता है हल्दी को दूध में डालकर पीने से भी बहुत लाभ होता है |

काली गाजर

विटामिन से भरपूर काली गाजर से खून की कमी पूरी होती है तथा रक्त संचार सुधरता है इसे नियमित रूप से आहार में शामिल करें |

ग्रीन टी

ग्रीन टी एंटीऑक्ससीडेंट होते है हेपेटाइटिस (Hepatitis) के उपचार और बचाब के लिये ग्रीन टी को अपनी दिनचर्या में शामिल करें |

आवंला

आवंला विटामिन c से भरपूर होता है जो लीवर को हर तरफ से फायदा पहुंचाता है जो इम्युनिटी बढाता है और पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है |

अलसी के बीज

अलसी के बीज शरीर में हार्मोन का संतुलन दोनों बनायें रखते है और उन्हें रक्त में सही तरीके से भेजने का काम भी करते है | अलसी के बीज में सायटोकांस्टीड्यूएंडस होते है जो की हार्मोन की बाइंडिंग का काम करते है और लीवर पर अतिरिक्त भार नही पड़ने देते है |

स्पोंडिलोसिस क्या है इसके प्रकार एवं स्पोंडिलोसिस घरेलु उपचार >>>

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.