हेपेटाइटिस सी बीमारी के कारण ,लक्षण व देखभाल

हेपेटाइटिस सी बीमारी मे कैसे करे देखभाल

हेपेटाइटिस सी लीवर से जुडी बीमारी है लीवर मानव शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग होता है जो शरीर मे छाती की पसली नीचे दाएं ओर स्थित होता है इसका वजन लगभग 1.2 किलोग्राम होता  है और यह  एक फुटबॉल के  आकार की तरह दिखाई देता है जो एक तरफ से सपाट या फ्लैट होता  है। लीवर आपके शरीर में कई कार्य करता है पर इसका  मुख्य कार्य आपके द्वारा खाये गये भोजन से  एनर्जी  उत्पन करके आपके शरीर को एनर्जी प्रदान करना होता है लीवर आपके रक्त से कई हानिकारक पदार्थों को भी बाहर निकालता है।

हेपेटाइटिस सी क्या है ?

हेपेटाइटिस सी एक लीवर से जुडी  बीमारी है जो हेपेटाइटिस सी वायरस (एचसीवी) के कारण पैदा होती है। एचसीवी वायरस लीवर को अच्छी तरह से काम करने से रोकता है एचसीवी वायरस  के शरीर अंदर आने के  छह महीने बाद इसके दुष्प्रभाव दिखाई पड़ते  है और लगभग 15 – 20%  एचसीवी वाले लोग अपने आप पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं। परन्तु 80 – 85% लोग क्रोनिक या क्रोनिक एचसीवी की बीमारी हो जाती  हैं। पर इसका सफलतापूर्वक दवाओं के साथ इलाज किया जा सकता  है, अगर इसका इलाज ठीक समय पर न कराया तो  कुछ केस  मे क्रोनिक एचसीवी  मे लीवर सिरोसिस  , लीवर कैंसर और लीवर फेल का कारण बन सकता है

.आप कैसे हेपेटाइटिस सी से संक्रमित हो सकते है ?

हेपेटाइटिस सी या एचसीवी होने का मुख्य कारण हेपेटाइटिस सी संक्रमित व्यक्ति का रक्त आपके रक्त के  संपर्क में आने से होता है इसके फैलने के कुछ कारण –

  • एचसीवी से संक्रमित ब्लड चढ़ाने से
  • अंग प्रत्यारोपण द्वारा
  • हेमोडायलिसिस करने से
  • संक्रमित सुइयों के आपके रक्त के संपर्क में आने से
  • हेपेटाइटिस सी से संक्रमित माँ से पैदा हुए बच्चे मे
  • असुरक्षित यौन संबंध
  • टैटू या कान या नाक छेद कराने से
  • नशीली दवाओं के इंजेक्शन शेयर करने से

लीवर  सिरोसिस

अगर आप हेपेटाइटिस सी से ग्रसित है तो आपको लीवर  सिरोसिस भी हो सकता है

  • हो सकता आपके रक्त में कोई वायरस नहीं रहे
  • जीवन भर इलाज की जरूरत पड़ सकती है
  • हो सकता है आपका वायरस दूसरे लोगो को प्रभावित न करे
  • यह भी हो सकता की वायरस ब्लड मे हो
  • लगभग 15 – 20%  लीवर  सिरोसिस वाले लोग अपने आप पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं। परन्तु
  • 80 – 85% लोग दीर्घकालिक या दीर्घकालिक एचसीवी की बीमारी हो जाती  हैं
  • आपको कोई लक्षण न दिखे
  • आपका लीवर ख़राब या फेल हो जाए

हेपेटाइटिस सी के लक्षण क्या होते हैं?

जब कोई व्यक्ति हेपेटाइटिस सी वायरस से संक्रमित होता  हैं इसमे ज्यादातर लोगों में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते  हैं। फिर भी आप मे कुछ लक्षण विकसित हो सकते  हैं जैसे :

  • भूख न लगना
  •  उल्टी आना
  •  बहुत थकान महसूस होती है
  • पेट में दर्द
  • कमर में दर्द
  • गले में दर्द
  • पेशाब का रंग गहरा होना
  • पीली आँखें और त्वचा ( पीलिया )

ज्यादातर लोगो मे क्रोनिक हेपेटाइटिस सी विकसित हो जाती  हैं  फिर भी इसके कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। इस कारण बहुत से लोगो मे इस  बीमारी के बारे मे कई वर्षों बाद पता लगता है  ।

हेपेटाइटिस सी की पुष्टि कैसे होती है ?

हेपेटाइटिस सी की पुष्टि रक्त परीक्षण द्वारा की जाती है। शरीर मे हेपेटाइटिस सी की पुष्टि के लिए एचसीवी एंटीबॉडीज की जांच के लिए रक्त परीक्षण किया जाता है

हेपेटाइटिस सी के लिए कुछ जाच

हेपेटाइटिस सी एंटीबॉडी टेस्ट

हेपेटाइटिस सी एंटीबॉडी परीक्षण (एंटी – एचसीवी), यह निर्धारित करने के लिए कि क्या की आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कैसी  है हेपेटाइटिस सी वायरस के खिलाफ विकसित एंटीबॉडी की स्थिति जानने के लिए होता है  यह परीक्षण दो  विधियों द्वारा किया जाता है:

एंटी – एचसीवी एलिसा परीक्षण

आरआईबीए परीक्षण

हेपेटाइटिस सी पीसीआर टेस्ट

हेपेटाइटिस सी पीसीआर रक्त में वायरस को खोजने के लिए परीक्षण (एचसीवी आरएनए)और साथ ही  यह पता लगाने के लिए कि क्या वायरस मौजूद है और रक्त में वायरस की मात्रा भी निर्धारित करता है

जीनोटाइपिंगव् टेस्ट

एक जीनोटाइप आरएनए में आनुवंशिक लक्षण  के आधार पर वायरस का वर्गीकरण करके उसके बारे जानकारी प्राप्त करते   है आमतौर पर रोगी केवल एक जीनोटाइप से संक्रमित होते हैं

लेकिन प्रत्येक जीनोटाइप वास्तव में -संबंधित वायरस का मिश्रण है, जिसे हम quasi- species  कहा जाता है जिससे यह पता लगता है कि वर्तमान ट्रीटमेंट मे क्रोनिक हेपेटाइटिस सी का इलाज करने क्या कमी रह रही थी

LFT टेस्ट

एल एफ टी (लीवर फंक्शन टेस्ट), रक्त प्रवाह में पदार्थों को मापने से  लीवर  को होने वाले नुकसान का पता लगया जाता है

लीवर का अल्ट्रासाउंड,

  • लीवर का अल्ट्रासाउंड- इसमे डॉक्टर देखते की लीवर मे कोई असामान्यताएं तो नहीं  हैं

फाइब्रोस्कैन टेस्ट

  • फाइब्रोस्कैन – लीवर की कठोरता या फाइब्रोसिस के लिए आकलन करने के लिए। हेपेटाइटिस सी का इलाज कैसे किया जाये?

हेपेटाइटिस सी की बीमारी  मे अब 95% से अधिक के मामले में केवल 12 सप्ताह की मौखिक दवाओं के साथ ठीक किया गया  है रोगियों मे यह न्यूनतम दुष्प्रभावों के साथ बहुत प्रभावी है। आप आपने डॉक्टर से उपचार के विकल्पों और लीवर कैंसर की जांच के बारे में हर 6 से 12 महीने में बात करे । इसके अलावा हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी के टीके के बारे में भी अपने डॉक्टर से बात करें।

हेपेटाइटिस सी के इलाज के समय क्या सावधानी रखे

इस बीमारी मे डॉक्टर अक्सर बिस्तर पर आराम करने साथ ही  बहुत सारे तरल पदार्थ पीने, स्वस्थ आहार खाने और

शराब से परहेज। किसी और दवाओं का सेवन न करे | आपने डॉक्टर से नियमित रूप से सलाह और  परीक्षण करवाते रहे  हैं  जब तक आपका शरीर पूरी तरह से वायरस खत्म या ठीक न हो जाये है

हेपेटाइटिस सी को ठीक करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

  • स्वस्थ भोजन खाएं
  • व्यायाम और अधिक वजन / मोटापे से बचने के
  • थकावट महसूस होने पर आराम करें
  • केवल अपने चिकित्सक द्वारा सुझाई गई दवाओं को ही लें
  • शराब और ड्रग्स से बचें
  • एक लीवर के डॉक्टर को नियमित रूप से दिखाए (हेपेटोलॉजिस्ट या गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट)
  • सभी मेडिकल अपॉइंटमेंट रखें
  • हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी के टीके के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें

हेपेटाइटिस सी को होने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

एचसीवी को रोकने के लिए कोई टीका नहीं है। एचसीवी से बचाव का एकमात्र तरीका है कि

संक्रमित रक्त को अपने  रक्त मे न मिलने दे ।.

  • सुइयों को साझा न करें

यदि आप काम पर खून या सुई की छड़ें के संपर्क में हैं, तो अनुशासित सुरक्षा उपायों का उपयोग करें

  • सुरक्षित सेक्स ही करें
  • टैटू या बॉडी पियर्सिंग के लिए साफ सुइयों और उपकरणों का उपयोग करें
  • रेजर, टूथब्रश, या अन्य व्यक्तिगत वस्तुओं को दूसरों के साथ साझा न करें
  • अगर आपको किसी का खून छूना है तो पहले दस्ताने जरुरपहनें

हेपेटाइटिस सी पर कुछ गलत बाते या अफवाह

यदि आपको हेपेटाइटिस सी है, तो हर दिन आप वाइन के कई गिलास पी सकते  है डॉक्टर के अनुसार आप किसी भी तरह का अल्कोहल नहीं ले सकते है शोध से पता चला है कि शराब पीने से हेपेटाइटिस सी  का संक्रमण बढ़ कर क्रोनिक हेपेटाइटिस सी को गति दे कर  लीवर  सिरोसिस कर देता है

असत्य बाते कि आहार और व्यायाम से इस बीमारी  मे स्वास्थ्य पर फर्क नहीं पड़ता है ।

सत्य यह कि स्वस्थ वजन बनाए रखने के लिए संतुलित आहार का सेवन महत्वपूर्ण होता  है

असत्य कि आपको हेपेटाइटिस सी का टीका लगाया गया है और आपको यह बीमारी नहीं होगी ।

पर तथ्य यह है कि हेपेटाइटिस सी के लिए वर्तमान में कोई टीका मौजूद नहीं है

असत्य कि आपको टॉयलेट सीट से हेपेटाइटिस सी की बीमारी हो सकती हैं। तथ्य हेपेटाइटिस सी के संक्रमण के लिए रक्त से रक्त के संपर्क में आना  चाहिए। इसका मतलब यह है कि हेपेटाइटिस सी वाले किसी व्यक्ति से रक्त प्राप्त करना होगा जो किसी और के रक्तप्रवाह (कट या खुले घाव के माध्यम से) में यह संभावना बहुत कम  है

बहुत संभावना नहीं है कि आप टॉयलेट सीट से हेपेटाइटिस सी को पकड़ सकते हैं।

यह ध्यान रखना भी महत्वपूर्ण है कि हेपेटाइटिस किन किन कारणों द्वारा नहीं फैलता है:

  • छींक आना
  • खांसी आना
  • पीने के गिलास या खाने के बर्तन से
  • हैंड शेक या हाथ मिलना
  • हाथ पकड़ना
  • गले लगाना
  • गाल पर चुंबन
  • बच्चों के साथ खेलना