बैद्यनाथ ह्रदय रोग रोधी प्रोडक्ट

ह्रदय रोग से बचाव के लिए बैधनाथ के बहतरीन प्रोडक्ट – Heart Disease Product Of Baidyanath In Hindi

दवाइयाँ

बैधनाथ के द्वारा निर्मित प्रोडक्ट शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी साबित होते है | यह प्रोडक्ट कई प्रकार की गुणकारी जड़ी बूटियों से मलकर बनाये जाते है | जो शरीर को स्वस्थ बनाने मे बहुत मदद करते है | मैंने खुद बैधनाथ कंपनी द्वारा निर्मित प्रोडक्ट का सेवन किया है, जिसके द्वारा मेरी भी कई समस्या का निवारण बहुत ही आसानी से हो गया | इसीलिए दोस्तों आज मई आपको बैधनाथ के द्वारा बने ह्रदय रोग से बचाव करने वाले प्रोडक्ट के बारे में जानकारी देने जा रहा हूँ |


क्युकि ख़राब खानपान के द्वारा व्यक्ति ह्रदय से जुडी कई समस्या का शिकार होता जा रहा है | यदि इस समस्या का समय रहते इलाज न करवाया जाये तो शरीर के साथ साथ व्यक्ति को काफी पैसों की हानि का सामना भी करना पड़ता है | दोस्तों आइये जानते है बैधनाथ के द्वारा ह्रदय रोग से बचाव के लिए कुछ बहतरीन प्रोडक्ट |

बैधनाथ नागार्जुनभरा रस के लाभ

बैधनाथ नागार्जुनभरा रस ह्रदय के लिए सबसे अच्छा व कारगर प्रोडक्ट माना जाता है | इस दवा को कई प्रकार की जड़ी बूटी से मिलकर बनाया जाता है | जो शरीर मे कई प्रकार की समस्या का इलाज बहुत ही आसानी से कर देती है इस दवा को अर्जुन, अभ्रक भस्म जैसी गुणकारी जड़ी बूटी को मिलकर बनाया जाता है |

जो शरीर में रक्त संचार को बेहतर बनाता है साथ ही साथ यह व्यक्ति को ह्रदय में जमा गंदगी को साफ़ करके ह्रदय को सही रूप से कार्य करने में मदद करता है | यह दवा शरीर में रक्त का निर्माण करने में भी बहुत मदद करती है | दोस्तों आइये जानते है, इस दवा के सेवन के बारे में

बैधनाथ नागार्जुनभरा रस का सेवन

बैधनाथ नागार्जुनभरा रस का सेवन हम बहुत ही आसानी से कर सकते है, आपको इस दवा का सेवन दन में दो बार सुबह व शाम भोजन के बाद करना चाहिये | आपको भोजन के बाद थोडा  गुनगुना पानी लेकर इस दवा का सेवन करना चाहिये | आपको केवल दिन में दो ही गोली का सेवन करना चाहिये |

बैधनाथ नागार्जुनभरा रस से हानि

बैधनाथ नागार्जुनभरा रस के सेवन से हानि की संभावना बहुत ही कम पाई जाती है | लेकिन इस दवा को अधिक मात्रा में या फिर बिना डॉक्टर की सलाह से बच्चे व गर्भवती महिला सेवन करे तो | शरीर को नुकसान का सामना करना पड़ सकता है | अधिक मात्रा में स दवा के सेवन से ब्लडप्रेशर व उल्टी की समस्या के साथ साथ चक्कर की परेसानी भी हो सकती है | इसीलिए कम वर्ष के बच्चों व गर्भवती महिला को इस दवा का सेवन डॉक्टर की सलाह से ही लेना चाहिये |

बैद्यनाथ याकूती रस के लाभ

बैद्यनाथ याकूती रस के द्वारा भी शरीर की समस्या का निवारण बहुत ही आसानी से किया जा सकता है, इस दवा को लटकस्तूरी, केसर, मुक्ता पिश्ति, प्रवल भस्म व कहरवा जैसी जडीबुटी के साथ बनाया जाता है | जो शरीर में रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने काम काम करती है | इस दवा के सेवन से व्यक्ति हृदय रोग, हार्ट अटैक, दिल की धड़कन तेज होना, अनिद्रा व डिप्रेशन यानि तनाव की समस्या को जड़ से खत्म कर सकता है | यह दवा शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने का कार्य करती है | आइये जानते है इस दवा के सेवन के बारे में |

बैद्यनाथ याकूती रस का सेवन तरीका

आपको बैद्यनाथ याकूती रस का सेवन दिन में दो बार या फिर एक बार ही करना चाहिये | यदि आप अपनी बीमारी से अधिक परेसान है, तो डॉक्टर की सलाह लेकर आप इस दवा का सेवन दिन में दो बार भी कर सकते है | आपको इस दवा का सेवन दूध के साथ लेने की सलाह दी जाती है, जससे शरीर में जमा गंदगी को खत्म करने में मदद मिल सके |

बैद्यनाथ याकूती रस से हानि

बैद्यनाथ याकूती रस के सेवन से शरीर को अधिक प्रभाव नही पड़ता है, लेकिन बच्चों को इस दवा से दूर रखना चाहिये, गर्भवती महिला इस दवा का सेवन डॉक्टर की सलाह के साथ ही करे तो बेहतर होगा |

बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म के लाभ

बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म को अकीक पिष्टी भस्म यानि एक खनिज पत्थर के द्वारा बनाया जाता है | यह तत्व व्यक्ति के ह्रदय के लिए बहुत ही लाभकारी साबित होता है | इस दवा को बनाने के लिए सफ़ेद रंग के अकीक पिष्टी पत्थरों का प्रयोग किया जाता है | इस साथ साथ इस दवा में केतकी, जलपिप्पली, केले के कंद का रस, व एलोवेरा जैसी जडीबुटी को मिलाकर बनाया जाता है | इसी वजह से यह ह्रदय से जुडी समस्या को खत्म करने में लाभकारी साबित होता है | दोस्तों आइये जानते है इस दवा के सेवन के बारे में |

बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म के अन्य लाभ

  • असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव में राहत देता है |
  • अल्जाइमर रोग से बचाव करता है |
  • आंखों में जलन व आँख आने की समस्या को खत्म करता है |
  • डिप्रेशन यानि तनाव को मिटाता है |
  • अल्सर क परेशानी दूर करता है |
  • पेट में सूजन, कब्ज व एसिडिटी क समस्या को खत्म करता है |
  • कमजोरी भूख न लगने क समस्या समाप्त करता है |

बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म का सेवन

आपको बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म का सेवन खाली पेट व सुबह शाम गुनगुने पानी व दूध के साथ करना चाहिये, बच्चे व पांच महीने से अधिक गर्भवती महिला को इसका सेवन डॉक्टर से सलाह लेकर ही करना चाहिये

बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म के नुकसान

बैद्यनाथ अकीक पिष्टी भस्म के सेवन से किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नही होता है, यदि इस दवा को बिना सलाह के बच्चे व गर्भवती महिला सेवन करे तो शरीर को नुकसान का सामना करना पड़ सकता है | इसीलिए बच्चे व महिला इस दवा को बिना सलाह के न खाये |

और पढ़े – सर्दियों में त्वचा की देखभाल के लिए घरेलू उपाय – Skin care in winter Season In Hindi

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *