हार्ट की बाईपास सर्जरी की जानकारी – Heart Bypass Surgery in Hindi

0
110
Heart Bypass Surgery in Hindi

हार्ट बाईपास सर्जरी तब की जाती है जब हमारे ह्रदय की मांसपेशियों में रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियां कमजोर हो जाती है | जिसके कारण हमारे ह्रदय को पूर्णरूप से रक्त व आक्सीज़न प्राप्त नही हो पाता है | हमारे ह्रदय का काम हमारे पूरे शरीर से रक्त प्राप्त करना होता है , फिर ह्रदय उस रक्त को हमारे फेफड़ों में भेजता है | जहाँ यह आक्सीज़न के साथ मिलता है ,  इसके बाद यह दोबारा हमारे ह्रदय में जाता है | जिसके बाद यह रक्त हमारे शरीर के सभी अंगो में जाता है | जिससे हमारे शरीर के सभी अंग सुचारू रूप से कार्य कर पाते है |

अगर हमारे ह्रदय में किसी कारणवश कोई कमी आ जाती है | तो इसकी वजह से हमारे शरीर के सभी अंगो में कई प्रकार की समस्या आने लगती है | कभी कभी यह कमी अत्यधिक गंभीर हो जाती है | जिसके उपचार के लिए मरीज़ की बाईपास सर्जरी की जाती है | बाईपास सर्जरी के द्वारा हमारे रक्त नाली  को कृत्रिम रूप के द्वारा हमारे ह्रदय से जोड़ा जाता है | जिससे हमारे शरीर में सही मात्रा में रक्त के साथ साथ आक्सीज़न की मात्रा पहुँच सके | और हमारे सभी अंग सही रूप से कार्य कर सके |

बाईपास सर्जरी की ज़रुरत कब होती है?

कई कारणों की वजह से हमारे शरीर को बाईपास सर्जरी की ज़रुरत पड़ सकती है तो आइये जानते है उन कारणों के बारे में :

एथेरोस्क्लेरोसिस की समस्या की वजह से :

कई कारणों की वजह से हमारी धमनियों की दीवारें मोटी व कठोर हो सकती है | यह समस्या केवल एथेरोस्क्लेरोसिस के कारण ही हमारे शरीर में जन्म लेती है | एथेरोस्क्लेरोसिस के कारण मनी की दीवारों में प्लाक जमा हो जाता है | जिसके कारण हमारी धमनियां मोटी व कठोर हो जाती है और हमारे लुमेन को सकरा बना देती है | जिससे हमारे ह्रदय में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है | जिसको फिर से ठीक करने के लिए बाईपास सर्जरी की मदद लेनी पड़ती है |

आवर्तक एनजाइना पेक्टोरिस की समस्या की वजह से :

आवर्तक एनजाइना पेक्टोरिस को एनजाइना के नाम से भी जाना जाता है | इसकी वजह से हमारे सीने में अचानक दर्द सा होने लगता है | यह केवल हृदय की मांसपेशियों को ऑक्सीजन युक्त रक्त की पर्याप्त आपूर्ति की कमी के कारण ही हमारे सीने में दर्द की समस्या होने लगती है | इस समस्या मे सीने के साथ साथ हमारे दाँत, जबड़े, हाथ, उंगलियों में भी दर्द की समस्या होने लगती है | अगर इस समस्या का सही समय पर इलाज ना कराया जाये तो हमारे ह्रदय को भारी नुकसान पहुचता है |

साँस लेने में तकलीफ होने के कारण से :

कोरोनरी धमनी के नुकसान के कारण हमारे ह्रदय को बहुत क्षति पहुचती है | जिससे हमे साँस लेने में तकलीफ के साथ साथ सांस फूलने की समस्या का सामना भी करना पड़ता है | इसी समस्या को दूर करने के लिए डॉक्टर बाईपास सर्जरी की सलाह देते है |

ह्रदय की धमनी में सूजन आने की वजह से :

अगर आपके ह्रदय की धमनी में सूजन की स्थति आ जाती है तो शरीर को कई प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है , क्योंकि धमनीशोध में हमारे ह्रदय की धमानिया क्षतिग्रस्त हो सकती है | जिससे हमारे ह्रदय में रक्त की कमी होने लगती है | इसी कमी को पूरा करने के लिए डॉक्टर बाईपास सर्जरी करते है |

ह्रदय उपचार सफल ना होने की वजह से  :

कोरोनरी धमनी के हर ब्लॉकेज को सर्जरी की जरूरत नही होती है | कभी कभी डॉक्टर मरीज को शारीरिक वयायाम करने, आहार का पालन करने या दवाइयां लेने की सलाह दे सकते है या फिर डॉक्टर द्वारा एंजियोप्लास्टी की सामल भी दी जाती है | अगर इन सभी उपचारों के विफल हो जाने के बाद ही बाईपास सर्जरी की जरूरत पड़ती है |

इस ह्रदय सर्जरी की तैयारी कैसे की जाती है ?

  • सबसे पहले सभी जांच की जाती है |
  • ह्रदय सर्जरी से पहले एनेस्थीसिया की जांच की जाती है |
  • सर्जरी से पहले दवाइयाँ निर्धारित की जाती है |
  • सर्जरी करने से पहले खाली पेट होना जरुरी होता है |
  • खून एवं पेशाब की जांच की जाती है |
  • ईसीजी के साथ ह्रदय की जांच करने के लिए एंजियोग्राम की जाँच की जाती है |
  • कार्डियक कैथेटेराइज़ेशन के द्वारा डॉक्टर कोरोनरी धमनियों और उसकी शाखाओं को देखते हैं|

आइये जानते है इस हार्ट सर्जरी से जुड़े सवालों के बारे में|

बाईपास सर्जरी के बाद रक्तचाप बढे तो क्या करे ?

अगर आपने बाईपास सर्जरी करवाई है और इसके बाद आपको उच्य रक्तचाप की समस्या हो रही है तो यह एक समय का कारण हो सकता है | क्योंकि रक्तचाप बढ़ने से हमारे शरीर के साथ साथ हमारे ह्रदय को भी खतरा रहता है | इसीलिए अगर आपको इस प्रकार की कोई भी समस्या आये तो आपको तिरन्त डॉक्टर से संपर्क करना चाहिये |

क्या सभी दिल की सर्जरी सफल होती है ?

जी हाँ अभी तक सभी बाईपास सर्जरी सफल रही है | अगर व्यक्ति बाईपास सर्जरी के बाद सही दिनचर्या अपनाये तो उसको कभी भी किसी प्रकार की कोई समस्या नही आयेगी है |

और पढ़े – चिकन पॉक्स या छोटी माता का सरल उपचार – Chickenpox Treatment In Hindi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.