फंगल संक्रमण का आयुर्वेदिक उपचार – Fungal Infection Treatment In Hindi

0
117
फंगल संकर्मण का आयुर्वेदिक उपचार

फंगल संक्रमण का होना एक आम वजह मानी जाती है | मनुष्यों में फंगल संक्रमण केवल फंगस के कारण ही आती है | इस फंगस को हमारा इम्यूनो सिस्टम भी नही रोक पता है | फंगल संक्रमण केवल कवक के कारण हमारे शरीर में जन्म लेते है | ये कवक हवा मिट्टी पानी व किसी पेड़ में भी हो सकते है | अगर हम इन कवकों के अधिक संपर्क में आते है | तो हमारा शरीर फंगल संक्रमण का शिकार हो जाता है | मनुष्यों में फंगल की समस्या चार प्रकार की होती है |

फंगल संक्रमण के प्रकार

एथलीट फुट की समस्या होने लगती है – एथलीट फुट कवक की वजह से होने वाला एक सामान्य संक्रमण है | अक्सर यह पैरों की उंगलियों के बीच में होता है | इसके लक्षणों में खुजली, जलन, और आपकी उंगलियों के बीच फटी हुई, व खुरदुरी त्वचा शामिल हैं | ये समस्याहमारे शरीर में कई कारणों के वजह से आने लगतीं है |

  • संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से |
  • लगातार नमी वाले स्थान में रहने से |
  • कई दिनों तक लगातार मोज़े पहनने से |
  • टाइट जूते पहनने के कारण |

यीस्ट या कैंडिडिआसिस संक्रमण हो जाता है – यीस्ट संक्रमण होने पर योनि में जलन, खुजली, गाढ़ा सफेद डिस्चार्ज आदि की समस्‍या होने लगती है | आमतौर पर डायबिटीज के मरीजों को हाई ब्लड शुगर की वजह से यीस्ट इन्फेक्शन की समस्या होती है |

दाद हो जाता है – दाद भी एक फंगल समस्या होती है | जो हमारे शरीर के किसी भी अंग में हो सकता है | इसको एक्जिमा के नाम से भी जाना जाता है | इसके हो जाने पर हमारे शरीर में खुजली, दर्द, और जलन जैसी समस्या होने लगती है | ये कई प्रकार से हमारे शरीर मे हो जाता है |

  • केमिकल युक्त चीजों का अधिक सेवन से|
  • रोगी के सम्पर्क में आने की वजह से |
  • मासिक धर्म की वजह से |

मुंह में थ्रश का हो जाना – मुंह में थ्रश केवल कैंडिडा नामक कवक के कारण ही हमारे शरीर में जन्म लेता है | इसके हो जाने पर हमारे मुंह में व जीभ व गाल में सफ़ेद परत जमा हो जाती है | जिसकी वजह से हमे खाना खाने में दिक्कत होने लगती है |

अब जानते है फंगल संक्रमण के लक्षणों के बारे में

  • त्वचा की सतह में पपड़ी बनने लगती है |
  • पैरों में खुजली होने लगती है |
  • लाल रंग के चकते होने लगते है |
  • त्वचा में लाल व बैगनी रंग के दाने होने लगते है |
  • त्वचा में दरार आने लगती है |
  • नाखूनों का पीला होने लगना |
  • त्वचा में खुजली अधिक होने लगती है |
  • त्वचा का नरम हो जाना |
  • त्वचा से रक्त का निकलना |

अब जानते है अगर आपको किसी भी प्रकार का कोई भी फंगल संक्रमण हो जाये | तो अपनाये इन आसन घरेलु उपायों को |

फंगल संकर्मण का आसन व आयुर्वेदिक इलाज

फंगल समस्या का आसन इलाज है लहसुन

लहसुन में मौजूदअकार्बनिक तत्व पोटैशियम, कैल्सिमय, मैग्नीशियम, एंटीफंगल, एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीबायोटिक जैसे गुण हमारे शरीर को फंगल समस्या से बहुत जल्दी छुटकारा दिलाकर हमारी त्वचा को मुलायम व नर्म बनाते है | आपको इसका प्रयोग कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले लहसुन को लेकर इसका एक पेस्ट बना ले फिर इसमें जैतून के तेल की कुछ बुँदे मिलाकर अपने फंगल समस्या पर लगाये | कुछ समय बाद इसको गर्म पानी से धुलने से आपकी फंगल संकर्मण की समस्या पूर्णरूप से समाप्त हो जाती है |

दही से करे अपने फंगल संक्रमण को पूर्णरूप से खत्म

दही में कई प्रकार के प्रोबायोटिक्‍स व लैक्टिक एसिड पाया जाता है | जो हमारी त्वचा को मुलायम व नर्म बनाने में हमारी बहुत मदद करते है | इसके प्रयोग से हमारे शरीर में मौजूदबाहरी कवक पूरी तरह से खत्म हो जाता है | आपको इसका सेवन कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले एक सूती कपडा लेकर उसपर दही लगा लीजिये | फिर इसको अपने संक्रमित हिस्‍से पर लगाइये | ऐसा करने के बाद आपको तीस मिनट बाद गुनगुने पानी से धुलने से आपकी फंगल संक्रमण की समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है |

सेब का सिरका दिलायेगा फंगल संकर्मण से मुक्ति

सेब के सिरके में विटामिन ए , सी , इ और पोटेशियम , कैल्शियम , मैग्नीशियम , एसिटिक एसिड , एंटी-आक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबील, एंजाइम और अमीनो एसिड जैसे तत्व हमारे शरीर के साथ साथ हमारी त्वचा के लिए भी फायेदेमंद होता है | आपको सेब के सिरके का प्रयोग इस प्रकार करना चाहिये | अगर आप फंगल समस्या से परेशान है | तो आपको सुबह के समय खाली पेट गर्म पानी में सेब का सिरका मिलाकर पीने से हमारी फंगल संक्रमण की समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है |

नारियल का तेल भी लाभकारी होता है फंगल समस्या में

नारियल के तेल में मौजूद प्राकृतिक एंटीफंगल, फैटी एसिड व एंटीबायोटिक के गुण हमारी त्वचा को मुलायम व नर्म बनाते है | आपको इसका प्रयोग इस प्रकार करना चाहिये | नारियल के तेल को गर्म करके अपनी संक्रमित जगह पर लगाने से हमारी फंगल संक्रमण की समस्या जल्द ही खत्म हो जाती है | आपको इस तेल को लगाने के कुछ समय तक कही भी घूमना फिरना नही चाहिये |

एलोवेरा जेल से बनाये अपनी त्वचा को मुलायम

एलोवेरा जेल में कई गुणकारी तत्व होते है | जो हमारी त्वचा को सुन्दर व मुलायम बनाने में हमारी बहुत मदद करते है | आपको एलोवेरा जेल को अपने इंफेक्शन पर लगाकर इसे कुछ समय तक के लिए छोड़ दे | ऐसा करने से हमारी फंगल संक्रमण की समस्या के साथ साथ जलन, खुजली और रैशेज से तुरंत राहत मिल जाएगी |

अगर आप भी अपनी फंगल संक्रमण की समस्या से परेशान है | तो आपको ऊपर दिए हुये उपायों को ध्यान पूर्वक अपनाना चाहिये |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.