Home दवाइयाँ फोलिक एसिड युक्त टेबलेट के फायदे व गुण – Benefits Of Folic...

फोलिक एसिड युक्त टेबलेट के फायदे व गुण – Benefits Of Folic Acid Tablet in Hindi

फोलिक एसिड

फोलिक एसिड यानि विटामिन बी9 को ही फोलिक एसिड के नाम से जाना जाता है | यह हमारे शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट को शरीर के लिए जरुरी ग्लूकोज में परिवर्तित करने का कार्य करता है | इसी वजह से हमारे शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती है | फोलिक एसिड हमारे लीवर, त्वचा, बाल व आंखों के लिए बहुत जरुरी होता है | यह हमारे तंत्रिका तंत्र को भी सुचारू रूप से काम करने में मदद करता है | इस तत्व को आप कई प्रकार के आहार के द्वारा भी ले सकते है | यह हमारे दिमाग के लिए भी काफी फायदेमंद होता है |

फोलिक एसिड क्या है ?

फोलिक एसिड की सबसे अधिक आवश्यकता गर्भवती महिला को होती है | यह गर्भ के दौरान बच्चे के ऊतकों व कोशिकाओं का निर्माण करता है | साथ ही साथ यह महिला के शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करके शरीर में आयरन की मात्रा को भी ठीक बनाता है | जिससे बच्चे का स्वस्थ अच्छा बनता है | अगर शरीर में फोलिक एसिड की कमी हो जाये तो आप इस कमी को टैबलेट व सिरप के द्वारा पूरी कर सकते है | तो दोस्तो आइये जानते है | फोलिक एसिड के द्वारा होने वाले फायदे के बारे में |

फोलिक एसिड युक्त कई टैबलेट व सिरप बाज़ार में आते है | जैसे Folvite Tablet, Raricap Tablet, Megafit Tablet व Cipla Fericip जैसी टैबलेट को आप आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकती है | यह टैबलेट हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करती है | जिससे हमारे शरीर में मौजूद रक्त की कमी ठीक हो जाती है |

फोलिक एसिड की कमी से होने वाले नुकसान

  • वजन में कमी आना |
  • भूख ना लगना |
  • मुंह में छाले होने लगना |
  • थकान की समस्या का होना |
  • जी मिचलाना |
  • हाई बीपी की समस्या होने लगना |

इस टैबलेट से होने वाले लाभ

पोषण की कमी को पूरा करती है

यदि आप कमजोरी व फोलिक एसिड की कमी से किसी बीमारी से परेशान है | तो इस टैबलेट के द्वारा अपनी इस समस्या का पूर्ण उपचार बहुत आसानी से कर सकते है | क्यूकि यह टैबलेट हमारे शरीर का रक्त संचार ठीक बनाती है | जिसकी वजह से हमारा पाचन तंत्र ठीक तरह से कार्य करने लगता है |

एनीमिया की समस्या को खत्म करती है

अगर आपके शरीर में रक्त की कमी की कारण एनीमिया जैसी बीमारी जन्म ले रही है | या फिर आप एनीमिया से ग्रस्त है | तब भी आप इस टैबलेट का सेवन करके अपनी इस समस्या को जड़ से ख़त्म कर सकते है |

गर्भावस्था के दौरान बच्चे को स्वस्थ बनाती है

फोलिक एसिड की टैबलेट गर्भवती महिला के लिए बहुत जरुरी है | क्यूकि अगर महिला के शरीर में रक्त की कमी है | तो इससे माँ के साथ साथ बच्चे की विकाश पर भी गहरा असर पड़ेगा | इसीलिए कई डॉक्टर गर्भावस्था के दौरान महिला को फोलिक एसिड टैबलेट लेने की सलाह देते है | जिससे महिला व बच्चे का शरीर स्वस्थ बना रह सके |

जाने इस दवाई के सेवन करने का तरीका

फोलिक एसिड टैबलेट का सेवन बहुत ही आसानी से किया जा सकता है | आपको अपनी समस्या को ख़त्म करने के लिए फोलिक एसिड टैबलेट का सेवन दूध व गुनगुने पानी के साथ खाना खाने के बाद करना चाहिये | आप चाहे तो इस टैबलेट का सेवन दिन में दो बार यानि सुबह व शाम को भी कर सकते है | गर्भवती महिला को इसका सेवन दिन में दो बार ही करना चाहिये | उससे अधिक बार इसका सेवन ना करे |

कितनी मात्रा में करे सेवन

किसी भी दवा का सेवन एक निश्चित मात्रा में ही करना चाहिये | तभी उस दवा का सही असर हमारे शरीर पर होता है | दोस्तो आइये जानते है | कितनी मात्रा लेनी चाहिये फोलिक एसिड की रोजाना के जीवन में |

  • एक से पांच महीने के शिशु को – 0.065 मिलीग्राम |
  • सात से बारह माह के शिशु को – 0.08 मिलीग्राम |
  • एक साल से चार साल के बच्चे को – 0.15 मिलीग्राम |
  • पांच साल से दस साल के बच्चे को – 0.2 मिलीग्राम |
  • दस साल से पंद्रह साल के बच्चे को – 0.3 मिलीग्राम |
  • बीस वर्ष व अधिक पुरुष व महिला को – 0.4 मिलीग्राम
  • गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिला को – 0.5 मिलीग्राम

इसके सेवन से होने वाले नुकसान

फोलिक एसिड टैबलेट को यदि अधिक मात्रा में सेवन किया जाये | तो इससे शरीर पर कई हानिकारक प्रभाव पड़ सकते है | जैसे

  • सांस फूलने की समस्या |
  • खुजली या जलन होना |
  • लाल चकत्ते पड़ना |
  • त्वचा का लाल हो जाना |
  • उलझन की समस्या होना |
  • पेट में ऐंठन होने लगना |
  • दस्त की समस्या होना |

आदि का सामना करना पड़ सकता है | अगर आपको इस प्रकार की किसी समस्या होने लगे | तो तुरंत डॉक्टर से समपार करे |

जाने किस प्रकार के आहार में पाया जाता है यह

  • गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियां, जैसे – पालक व मैथी आदि में |
  • अंकुरित अनाज में
  • सरसों के साग में |
  • चुकंदर व शलजम में
  • सोयाबीन की बरी में |
  • साबुत अनाज में
  • गेहूं में पाया जाता है |
  • सेम की फली में
  • संतरे में पाया जाता है |
  • बकरी के दूध में अधिक मात्रा में पाया जाता है |

और पढ़े – प्रोटीन पाउडर के फायदे व सेवन का तरीका – Benefits Of Protein Powder In Hindi