क्यों की जाती है इलैक्ट्रोकार्डियोग्राफी या ईसीजी जाँच

इलैक्ट्रोकार्डियोग्राफी क्या है इसकी कीमत – ECG Treatment In Hindi

लेब टेस्ट

इलैक्ट्रोकार्डियोग्राफी यानि ईसीजी एक प्रकार का टेस्ट होता है | इसके द्वारा मरीज के ह्रदय की धड़कन को विद्युत आवेग से ह्रदय की मांसपेशियों में रक्त प्रवाहित किया जाता है | इलैक्ट्रोकार्डियोग्राफी यानि ईसीजी करने से डॉक्टर को कई बातों का पता चलता है | जैसे की


  • मरीज के हर्दय का विद्युत आवेग तेज, धीमा या अनियमित है |
  • हृदय के कार्य व आकार का पता लगाया जाता है |
  • हर्दय की मांसपेशियों का पता लगाया जाता है |

क्यों की जाती है इलैक्ट्रोकार्डियोग्राफी या ईसीजी जाँच

ईसीजी जाँच की जरुरत हर्दय से जुड़े मामलों में पड़ती है | जैसे

स्ट्रेस टेस्ट की जाँच के लिए करनी पड़ती है | ईसीजी

कभी कभी कई समस्या का सामना व्यक्ति हो व्यायाम के दौरान भी करना पड़ता है | अधिक व्यायाम करने से हमारे ह्रदय पर काफी गहरा असर पड़ता है | इसी समस्या को ठीक करने के लिए ईसीजी का सहारा लिया जाता है | इस जाँच से व्यक्ति के तनाव परीक्षण की जाँच का पता लगया जाता है |

दिल की गतिविधि का पता लगाने के लिए की जाती है ईसीजी

दिल की गतिविधि का पता होल्टर मॉनिटर द्वारा किया जाता है | इसके द्वारा 24 से 48 घंटों तक मरीज के दिल की गतिविधि का पता लगाया जाता है | इस जाँच के दौरान डॉक्टर मरीज के हर्दय में होने वाली समस्या का पता लगता है | होल्टर मॉनिटर को मरीज के छाती पर लगाया जाता है |

इवेंट रिकॉर्डर के लिए की जाती है ईसीजी

कुछ ऐसे लक्षण होते है | जो कभी कभी नजर नहीं आते हैं | उनकी पहचान करने के लिए एक इवेंट रिकॉर्डर की आवश्यकता पड़ती है | इवेंट रिकॉर्डर भी होल्टर मॉनिटर की तरह होता है | लेकिन यह मरीज के दिल की विद्युत गतिविधि उस समय रिकॉर्ड करता है |जब मरीज को ह्रदय से जुडी कोई समस्या का सामना करना पड़ता है | यह इन लक्षण का पता ऑटोमेटिकली लगता है |

कैसे की जाती ईसीजी जाँच

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम या ईसीजी जाँच को करने में अधिक समय नही लगता है | इस टेस्ट के लिए मरीज को सबसे पहले मेज पर लिटाया जाता है | फिर यदि पुरुष है | तो पुरुषों के सीने के बाल को काटा जाता है | फिर सीने पर टांगों और बाहों पर पैड रखे जाते है | पैड्स को ईसीजी मशीन की तारों के साथ जोड़ा जाता है | जिसके द्वारा हृदय गतिविधियो को दर्ज किया जाता है | इस टेस्ट के समय मरीज किसी भी प्रकार की कोई बात चीत नही नही कर सकता है | इस टेस्ट को करते समय किसी भी प्रकार का कोई दर्द नही होता है | इस टेस्ट को करने से पहले मरीज को किसी भी प्रकार का कोई नही लोशन ना लगाने की सलाह दी जाती है |

इससे होने वाली हानि

ईसीजी टेस्ट को करते समय शरीर को किसी भी प्रकार का कोई नुकशान नही होता है | हो सकता है | जिस जगह पर पैड्स लगाया जाता है | वहां पर दाने व चक्ते की समस्या का सामना करना पड़ सकता है | अगर किसी मरीज को स्ट्रेस की समस्या है | तो उसको स्ट्रेस टेस्ट के समय दिल का दौरा पड़ने जैसी समस्या हो सकती है | लेकिन यह ईसीजी से जुडी समस्या नही होती है | इस टेस्ट के बाद मरीज के हर्दय की परेशानी का पता लगाकर डॉक्टर उसका इलाज शुरू कर देते है |

अब आइये जानते है इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम से जुड़े कुछ सवाल के बारे में

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम में किस प्रकार का इलेक्ट्रिक करंट दिया जाता है ?

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम को करते समय मरीज को नार्मल इलेक्ट्रिक करंट दिया जाता है | जिससे ह्रदय में होने वाली समस्या का पता लगाया जा सके

ईसीजी टेस्ट करते समय मरीज इलेक्ट्रोड से करंट आता है क्या ?

ईसीजी टेस्ट करते समय मरीज को इलेक्ट्रोड के द्वारा ही करंट दिया जाता है |

इलेक्ट्रोड नार्मल है लेकिन ईसीजी टेस्ट पॉजिटिव आता है क्या ?

यदि मरीज का इलेक्ट्रोड नार्मल है | तो ईसीजी टेस्ट पॉजिटिव ही आयेगा इससे मरीज को किसी भी प्रकार की कोई समस्या नही होती है |

क्या ईसीजी टेस्ट में तोड़ी से भी खराबी होने से मरीज को दिक्कत हो सकती है क्या ?

जी हाँ अगर ईसीजी टेस्ट सही प्रकार नही किया जाये | तो मरीज को कई प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है | इससे उसके ह्रदय से जुडी समस्या का पता नही चल सकता है |

और पढ़े – बोन फ्रैक्चर या हड्डी टूटने के कारण लक्षण व बचाव – Bones Fractured In Hindi

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *