ब्रेन हेमरेज के कारण लक्षण व बचाव – Brain Hemorrhage In Hindi

0
169
Brain Hemorrhage In Hindi

ब्रेन हेमरेज की समस्या को मानसिक समस्या माना जाता है | क्यूकि यह एक प्रकार का मानसिक स्ट्रोक होता है | इस समस्या मस्तिष्क में स्तिथ नसों के फट जाने के कारण उत्पन्न होती है | इससे निकालने व रक्त मस्तिष्क की कोशिकाओं को खत्म कर देता है | मनुष्य के मस्तिष्क से रक्त के बहने की वजह से व्यक्ति के खोपड़ी व मस्तिष्क के बीच दवाव बनाने लगता है | जिसके कारण हमारे मस्तिष्क को बहुत नुकसान पहुचता है | मस्तिष्क में मौजूदरक्त वाहिका के फटने के कारण व्यक्ति को हेमरेज स्ट्रोक की समस्या का सामना करना पड़ता है | यह समस्या
कमज़ोर रक्त वाहिकाएं की वजह से |

  • हाई ब्लड प्रेशर के कारण |
  • दवाई के दुरूपयोग के कारण |
  • मस्तिष्क में गभीर चोट की वजह से |

व्यक्ति को ब्रेन हेमरेज की समस्या का सामना करना पड़ता है | इस स्ट्रोक के कारण व्यक्ति को कई प्रकार की परेशानी जैसे

  • शरीर के एक हिस्से में कमज़ोरी का आना |
  • बोलने में परेशानी का होना |
  • शरीर का सुन्न पड़ जाना |
  • लकवा जैसी समस्या का हो जाना

ब्रेन हेमरेज एक जानलेवा बीमारी है | अगर इससे ग्रस्त व्यक्ति का समय पर उपचार ना कराया गया | तो इसके कारण व्यक्ति को अपनी जान से हांथ गवाना पड़ सकता है | इसीलिए आज आपको इससे जुडी कुछ जरुरी बातों के बारे में बताने जा रहे है | तो आइये जानते है |

कितने प्रकार के होते है ब्रेन हेमरेज ?

ब्रेन हेमरेज मुख्यतः चार प्रकार का पाया जाता है |

  1. इंट्रासेरेब्रल हेमरेज |
  2. सबड्यूरल हेमरेज |
  3. सबरकनॉइड हेमरेज |
  4. एपीड्यूरल हेमरेज |

इसके कारण ?

सर में तेज़ चोट लगने की वजह से

यदि किसी व्यक्ति के सर में गंभीर चोट लग जाये | तो भी इस समस्या होने का खतरा रहता है | युवा में ब्रेन हेमरेज का मुख्य कारण सर में लगी चोट ही होती है |

उच्च रक्तचाप की समस्या के कारण

अगर आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है | तो इसके कारण आपकी रक्त वाहिका कमजोर होने लगती है | यदि उच्च रक्तचाप का सही समय पर उपचार ना कराया जाये | तो आपको ब्रेन हेमरेज जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है |

एनयूरिस्म की समस्या के कारण

यदि व्यक्ति के मस्तिष्क के आर्टरी का बाहरी हिस्सा कमजोर है | तो धीरे धीरे इसमें सुजन की समस्या आने लगती है | इसी सुजन को एनयूरिस्म के नाम से जाना जाता है | अगर इस समस्या का सही समय पर उपचार ना कराया जाये | तो इससे आर्टरी फटने का खतरा रहता है | जिससे मस्तिष्क में रक्त स्त्राव होने लगता है |

आर्टेरिओवेनॉस या फिर एवीएम के कारण

आर्टेरिओवेनॉस एक ऐसी समस्या होती है | जिसमे व्यक्ति के आर्टरी से निकालने वाला रक्त व्यक्ति के ह्रदय व दिमाग तक पहुचने से पहले ही एक गुच्छा बना लेती है | जिससे व्यक्ति के दिमाग की रक्तवाहिकाएं कमज़ोर हो जाती है | और व्यक्ति को ब्रेन हेमरेज जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है |

एमिलॉइड अँजिओपैथी की वजह से

एमिलॉइड अँजिओपैथी एक रक्त वाहिकाओं से जुडी समस्या होती है | जिसके कारण रक्त वाहिका में भरी मात्रा में प्रोटीन जमा हो जाता है | जिससे शरीर में रक्त स्त्राव की समस्या होने लगती है | यह समस्या हाई बीपी वाले व्यक्तिओं में अधिक देखने को मिलती है |

हीमोफिलिया के कारण

हीमोफिलिया के कारण व्यक्ति के शरीर में रक्त का स्त्राव होने लगता है | जिससे व्यक्ति को ब्रेन हेमरेज जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है |

जाने इसके लक्षण के बारे में

  • एकदम से सर में बहुत तेज़ दर्द का उठना |
  • दौरे पड़ने की समस्या का होना |
  • बेहोशी महसूस करना |
  • स्वाद का सही से पता न कर पाना |
  • सर का चकराना |
  • शरीर के अंगों में कंट्रोल ना रहना |
  • हाथों की मांसपेशियों का आपस संपर्क ना कर पाना |
  • लिखने और पढ़ने में परेशानी होना |
  • कुछ निगलने में परेशानी का होना |
  • बोलने और समझने में दिक्कत का होना |
  • शरीर का कोई भी हिस्सा सुन्न पड़ जाना |
  • देखने में बदलाव का आना |
  • हांथ या टांग में कमज़ोरी महसूस करना |
  • अधिक उल्टी आना |
  • अधिक आलस महसूस करना |

कैसे करे ब्रेन हेमरेज से बचाव

उच्य रक्तचाप का उपचार करवाये – यदि किसी व्यक्ति को उच्च रक्तचाप की समस्या है | तो अपनी इस समस्या का पूर्ण उपचार करवाये | क्यूकि अधिकतर मामले में ब्रेन हेमरेज उच्य रक्तचाप की वजह से आता है |

धूम्रपान बिलकुल भी ना करे – धूम्रपान करने से हमारी रक्त वाहिका कमजोर बनती है | जो ब्रेन हेमरेज का कारण बन सकती है | ड्रग्स का सेवन भी शरीर के लिए नुकसान दायक होता है | ड्रग्स के वजह से दिमाग में रक्तस्त्राव होने का खतरा रहता है |

नियमित योग करे – नियमित योग करने से हमारे शरीर को तो फायदा मिलता है साथ ही साथ हमारे दिमाग के लिए भी बहुत फयदेमद होता है | नियमित योग करने से हमारी रक्त वाहिका मजबूत बनती है |

अब आइये जानते है इस रोग से जुड़े कुछ सवाल के बारे में |

ब्रेन हेमरेज को रोकने वाली कौन से दवा होती है ?

ब्रेन हेमरेज की समस्या रोकने के लिए Nimodec नामक दवा का सेवन कराया जाता है |

ब्रेन हेमरेज का मरीज अगर कोमा में चला जाये तो ?

ब्रेन हेमरेज की समस्या में अगर मरीज कोमा में चला जाये तो डॉक्टरों द्वारा सर्जरी की जाती है | जिससे इस समस्या को दूर किया जा सके |

ब्रेन हेमरेज में क्या पानी भी दिमाग से बहार आ जाता है ?

ब्रेन हेमरेज की समस्या होने पर ऐसा कुछ नही होता है | ब्रेन हेमरेज होने पर केवल रक्त का स्त्राव होता है |

और पढ़े – दमा (अस्थमा) के कारण लक्षण व इलाज – Asthma Treatment In Hindi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.