Home Blog
हेपेटाइटिस सी बीमारी मे कैसे करे देखभाल
हेपेटाइटिस सी लीवर से जुडी बीमारी है लीवर मानव शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग होता है जो शरीर मे छाती की पसली नीचे दाएं ओर स्थित होता है इसका वजन लगभग 1.2 किलोग्राम होता  है और यह  एक फुटबॉल के  आकार की तरह दिखाई देता है जो एक तरफ से सपाट या फ्लैट होता  है। लीवर आपके शरीर...
गर्मी के मौसम में सेहत का ध्यान
गर्मी का मौसम यानी तपती धूप और चढ़ता तापमान हमें कई प्रकार की परेशानियों में डालता है | गर्मी के दिनों में बदलते मौसम के कारण हमें डायरिया, डिहाईड्रेशन, भूख ना लगना, जी-मचलाना, घबराहट जैसी कई समस्याएं होने लगती है जिनसे बचाओ के लिये हमें गर्मी के दिनों में कई प्रकार की सावधानियां रखना जरूरी है ताकि हम बदलते...
डाइट प्लान
डाइट प्लान आपके भोजन के लिए एक दिशा निर्देश होता है जो आपको किस अवस्था या बीमारी मे किस-किस समय पर क्या-क्या खाना चाहिए या क्या-क्या नहीं खाना चाहिए | शरीर में समस्या और रोग का संबंध भोजन से भी होता है | कई रोगों में अगर आप डाइट या खानपान पर नियंत्रण नहीं रखते हैं तो...
Ventilator
वेंटिलेटर एक कृत्रिम मशीन है जिसका उपयोग सर्जरी, फेफड़ों से जुड़े रोग, साँस लेने में दिक्कत व किसी बीमारी की गंभीर परिस्थिति में किया जाता है | यह मशीन मरीज के फेफड़ों में मौजूद कार्बन डाई ऑक्साइड को शरीर से बहार निकालकर फेफड़ों को आक्सीज़न प्रदान कराती है | कई डॉक्टर्स सर्जरी के दौरान मरीज को एनेस्थीसिया...
paracetamol
पैरासिटामोल दवाई बुखार, दर्द व सुजन जैसी परेशानियों में सबसे अधिक ली जाने वाली दवा है, इसी वजह से इस दवा को नॉन स्टेरॉडल एंटी-इनफ्लेममेटरी ड्रग्स के समूह में रखा गया है | विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने भी इस दवा को स्वास्थ के लिए जरुरी बताया है, क्योंकि इस दवा को आप परेशानी होने पर बिना डॉक्टर...
दिव्य मुलेठी चूर्ण को पूरी तरह प्राकृतिक मुलेठी के द्वारा बनाया गया है, इस दवा के द्वारा नेत्र रोग, मुख रोग, कंठ रोग, उदर रोग, सांस विकार व हृदय रोग जैसी बीमारियों को आसानी से ख़त्म किया जा सकता है, क्योंकि मुलेठी में फॉस्फोरस, कैल्शियम, कोलीन, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, सेलेनियम, सिलिकॉन और ज़िंक के साथ साथ ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक...
एक्ने की समस्या अधिकतर तैलीय त्वचा के कारण जन्म लेती है इस रोग में त्वचा के नीचे स्थित सिबेशस ग्लैंड्स से त्वचा को नमी देने वाला तेल अधिक मात्रा में निकलने लगता है, जिसके कारण रोमछिद्र चिपचिपे होकर ब्लॉक हो जाते है, जिसके उपरांत रोमछिद्र में बैक्टीरिया उत्पन्न होने के कारण एक्ने की परेशानी की शुरुआत होती है...
लिंग का छेद बंद हो जाने के कारण पीड़ित को पेशाब करने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है, इस रोग को सुप्रेशनस ऑफ यूरेन के नाम से जाना जाता है | यह समस्या अधिकतर अधिक उम्र के व्यक्तियों में देखी जाती है, अधिक उम्र में व्यक्ति के मूत्रनली में किसी कारणवश रूकावट आ जाने के कारण यह समस्या...
Baidyanath Lauh Bhasma
बैद्यनाथ लौह भस्म प्राकृतिक जड़ी-बूटियों के द्वारा बनाई गयी एक आयुर्वेदिक दवा है, इस दवा के द्वारा आप शरीर में रक्त की कमी से होने वाली सभी बीमारियों का उपचार बहुत आसानी से कर सकते है, क्योंकि इस दवा में मिलाई जाने वाली जड़ी-बूटियों में भारी मात्रा में विटामिन्स, मिनरल्स, के साथ साथ एन्टीऑक्सडेंट, रोगाणुरोधी व एंटी-इंफ्लेमेटरी, फॉस्फेट, सोडियम,...
Anal Fistula
भगन्दर को एनल फिस्टुला के नाम से भी जाना जाता है, इस रोग के कारण दो अंग व दो नसों के बीच असामान्य जोड़ उत्पन्न होने से हो जाता है, वैसे इस रोग में जो दो नसों व अंग जोड़ उत्पन्न होता है, वह जोड़ प्राकृतिक रूप से किसी भी मनुष्य के शरीर में नही पाया जाता है |...
42FansLike
0SubscribersSubscribe

Must Read