गर्भनिरोधक की सम्पूर्ण जानकारी – Birth Control Pills In Hindi

स्वास्थ्य सुझाव

यदि आप महिला व पुरुष है, और आप जल्दी बच्चा नही चाहते है तो आपको गर्भनिरोधक संसाधन का प्रयोग करना चाहिये | गर्भनिरोधक संसाधन का इस्तेमाल महिला व पुरुष दोनों के द्वारा किया जाता है | यह प्रक्रिया  पुरुष और महिला के सम्भोग के बाद महिला गर्भवती न हो पाये उसे गर्भनिरोधक कहते हैं | गर्भनिरोधक का मुख्य प्रयोग बच्चों में अन्तर, सेक्स के समय गर्भवती होने से बचने के लिए, अविवाहित महिला जो सेक्सुअल गतिविधि में गर्भवती होने से बचने के लिए व किसी कारणवश आप जल्दी बच्चे नही चाहते है | तो गर्भनिरोधक का प्रयोग करके अपनी इस समस्या को से खत्म कर सकते है | आइये जानते है गर्भनिरोधक के बारे में विस्तार से |


महिला गर्भनिरोधक ( बर्थ कंट्रोल ) क्या है ?

बर्थ कंट्रोल यानी गर्भनिरोधक इंजेक्शन या गोली जो महिला को गर्भवती होने से महिला बचाता है | बर्थ कंट्रोल प्रोजेस्टेरोन यानि एक प्रकार का हार्मोन जो अंडाशय में निर्मित होता है | यह हार्मोन प्रोजेस्टेरोन मुख्य रूप से ओव्यूलेशन मासिक धर्म के समय में अंडे की रिहाई को रोकने का कार्य करता है | यदि कोई महिला ओव्यूलेट नही करती है, तो वह कभी भी गर्भवती नही हो सकती है | बर्थ कंट्रोल महिला के सर्वाइकल म्यूकस को फ़ैलाने का कार्य भी करता है | जिसकी वजह से स्पर्म अंडाशय तक नही पहुच पाता है, और महिला गर्भवती नही हो पाती है | दोस्तों आइये जानते है बर्थ कंट्रोल के बारे में विस्तार से |

पुरुष गर्भनिरोधक ( बर्थ कंट्रोल ) क्या है ?

पुरुष गर्भनिरोधक प्रेगनेंसी से बचने के लिए पुरुष भी गर्भनिरोधक संसाधन का प्रयोग करते है | पुरषों को गर्भनिरोधक के रूप में कंडोम, ऑउटरकोर्स, नसबंदी और विथड्राअल टेक्निक का प्रयोग करना चाहिये | यह सभी तरीके पुरषों के लिये बहुत ही कारगर साबित होते है | जिसके द्वारा आप अपने जीवनसाथी को गर्भवती होने से बचा सकते है | यदि आप अपना परिवार पूरा कर चुके है और अधिक बच्चे की कामना नही रखते है | तो आपको नसबंदी सजर्री का सहारा लेना चाहिये | यह सर्जरी सरकारी अस्पताल में निशुल्क की जाती है | इस सर्जरी के द्वारा शरीर पर किसी भी प्रकार को दुस्प्रिणाम नही होता है | परन्तु नसबंदी करवाने से पहले यह जरुर सुनिश्चित कर ले की आपको और बच्चे नही चाहिये | तभी इस सर्जरी का निर्णय ले |

गर्भनिरोधक ( बर्थ कंट्रोल ) का महत्त्व

यदि कोई महिला गर्भवती होने से बचाना चाहती है, तो वह बर्थ कंट्रोल का प्रयोग करके अपनी इस समस्या को जड़ से ख़तम कर सकती है | बर्थ कंट्रोल महिला को उनके मासिक धर्म के समय गर्भवती होने से बचने का कार्य करता है | बर्थ कंट्रोल का अधिक प्रयोग शारीर के लिये हानिकारक साबित भी हो सकता है | क्युकि अधिक समय तक इस दवा के प्रयोग से महिला के अंडाशय में सुजन व दर्द की समस्या आने लगती है | इसीलिए बर्थ कंट्रोल का प्रयोग डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिये | दोस्तों आइये जानते है बर्थ कंट्रोल के लाभ के बारे में |

 लाभ

गर्भवती होने से बचाता है गर्भनिरोधक

यदि आप गर्भवती होने से अपने आप को बचाना चाहती है | तो आपको इस दवा का सेवन करना चाहिये | यह दवा स्पर्म को अंडाशय में नही जाने देता है, जिसकी वजह से महिला मासिक धर्म में भी गर्भवती नही होती है | लेकिन महिला को बर्थ कंट्रोल दवा का सेवन केवल डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिये |

मासिक धर्म में पीठ दर्द व पेट दर्द की समस्या को रोकती है

कई महिलायों को मासिक धर्म होने पर पेट दर्द व पीठ दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है | बर्थ कंट्रोल दवा मासिक धर्म में होने वाली इस समस्या को पूरी तरह से खत्म कर देता है |

हार्मोन को नियंत्रित करती है गर्भनिरोधक

यह दवा केवल महिला को गर्भवती न होने के साथ साथ महिला के शरीर में हार्मोन को नियंत्रित करने में भी बहुत मदद करती है | जिससे महिला का शरीर स्वस्थ बनाता है | यह दवा PCOD व PCOS जैसी बीमारी से भी महिला के शरीर की रक्षा करती है |

रक्त संचार को बेहतर बनाती है

यदि किसी महिला को मासिक धर्म में अधिक रक्त निकालने की समस्या का सामना करना पड़ रहा है, तो महिला डॉक्टर की सलाह लेकर इस दवा के जरिये अपनी इस समस्या को खत्म कर सकती है | यह दवा महिला के शरीर में रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाता है | जिससे महिला को अपने पीरियड के समय अधिक रक्त निकने जैसी समस्या से छुटकारा मिल जाता है |

पीरियड्स को कंट्रोल करती है

कभी कभी कई महिलायों को पीरियड्स अनकंट्रोल जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | जिससे महिला को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है, बर्थ कंट्रोल दवा महिला के पीरियड्स को भी कंट्रोल करने का कार्य करती है | यह दवा के सेवन से महिला को पीरियड्स सही समय पर ही होते है |

स्तनपान कारने वाली महिलायों के लिये लाभकारी है गर्भनिरोधक

स्तनपान करवाने वाली महिला के लिये भी यह दवा बहुत ही लाभकारी मानी जाती है | क्युकी इस दवा में एस्ट्रोजेन की मात्रा बहुत ही कम पायी जाती है | जिससे महिला व बच्चे के शरीर पर किसी भी प्रकार का कोई हानिकारक प्रभाव नही पड़ता है |

गर्भनिरोधक ( बर्थ कंट्रोल ) दवा का सेवन तरीका

महिला बर्थ कंट्रोल दवा का सेवन बिलकुल आसानी से कर सकती है महिला इस दवा को सेक्स से पहले या फिर सेक्स के बाद भी सेवन में ला सकती है | महिला को इस दवा का सेवन पैकट पर सावधानी के अनुसार ही करना चाहिये | या फिर डॉक्टर की सलाह से ही इस दवा को सेवन में लाये |

गर्भनिरोधक ( बर्थ कंट्रोल ) दवा के हानिकारक प्रभाव

बर्थ कंट्रोल दवा के सेवन से महिला के दिमाग की ब्लड क्लोट व ब्लड वेसेल्स पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है | जिससे महिला को इस्कीमिक स्ट्रोक जैसी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है | इस दवा के उपर लोयोला यूनिवर्सिटी के स्ट्रोक एक्सपर्ट ने बताया की अगर महिला इस दवा का सेवन अधक मात्रा में करे तो महिला की ब्लड क्लोट दिमाग की ब्लड वेसेल्स ब्लॉक हो जाती है | जो महिला के शरीर के लिए बहुत ही हानिकारक साबित होती है |

दोस्तों आइये जानते है बर्थ कंट्रोल दवा से जुड़े कुछ सवालों के बारे में |

क्या ओवरल दवा के सेवन महिला गर्भवती हो सकती है ?
ओवरल दवा बर्थ कंट्रोल दवा के अंतर्गत ही आती है, इसके इस्तेमाल से महिला कभी भी गर्भवती नही होती है |

बर्थ कंट्रोल दवा के सेवन से बच्चे क सेहत पर असर पड़ता है क्या ?
बर्थ कंट्रोल दवा को अगर डॉक्टर की देख रेख में ली जाये तो बच्चे की सेहत पर कसी भी प्रकार का कोई असर नही पड़ता है |

क्या बर्थ कंट्रोल दवा लेने से हार्मोन बढ़ता है क्या ?
बिलकुल यद् महिला सही रूप से इस दवा का सेवन करती है तो महिला के हार्मोन पर बिलकुल असर पड़ता है |

और पढ़े - पिप्पली औषधि के फायदे और सावधानियाँ – Pippli Benefits In Hindi

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *