जाने पतंजलि चूर्ण का गर्भावस्था में लाभ – Benefits of Patanjali Powder in Pregnancy In Hindi

0
141
जाने पतंजलि चूर्ण का गर्भावस्था में लाभ

पतंजलि चूर्ण का सेवन करने से महिला व पुरषों को बहुत लाभ मिलता है | क्योंकिइन चूर्णों में विटामिन सी, प्रोटीन , वसा, कैल्शियम, फॉस्फोरस, लौह, निकोटिनिक एसिड, गैलिक एसिड, टैनिक एसिड, ग्लूकोज, अलब्यूमिन, एंटी आक्सीडेंट, एंटीबेक्टिरियल, एंटीमाइक्रोबायल, एन्थ्रोसैनिन व पोटोशियम जैसे गुणकारी तत्व महिला व पुरुषों को स्वस्थ बनाए रखने में बहुत मदद करते है | आइये जानते है | कि गर्भावस्था में गर्भवती महिला को किन चूर्णों का सेवन करना चाहिये | जिससे महिला व बच्चे दोनों को स्वस्थ बनाया जा सके |

गर्भावस्था में पतंजलि शतावरी का सेवन होता है लाभकारी

गर्भवती महिला को गर्भावस्था के समय पतंजलि शतावरी का सेवन जुरूर करना चाहिये | इस पतंजलि चूर्ण का सेवन माँ और बच्चे दोनों को स्वस्थ बनाता है  | पतंजलि शतावरी आयुर्वेद की एक ऐसी प्राकृतिक व चमत्कारिक औषधि है | जो कई प्रकार से गर्भवती महिला को शारीरिक समस्‍याओं व रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करती है |

  • पतंजलि शतावरी महिलाओं के प्रजनन तंत्र को मजबूत करता है |
  • पतंजलि शतावरी मासिक धर्म की समस्यायों में लाभ दिलाता है |
  • पतंजलि शतावरी महिलाओं के स्तन में दूध बढ़ाने में मदद करता है |
  • पतंजलि शतावरी महिलाओं के हार्मोन को नियंत्रित करता है |
  • पतंजलि शतावरी महिला का इम्यून सिस्टम भी मजबूत बनता है |

यह गर्भवती महिलाओं को हर प्रकार की समस्याओं से निजात दिलाने में सहायक होता है | इसमें पाये जाने वाले तत्व कैल्शियम, फॉस्फोरस, विटामिन व एंटी आक्सीडेंट महिला व बच्चे को स्वस्थ बनाने में बहुत मदद करते है | गर्भवती महिला को इस पतंजलि चूर्ण का सेवन रोजाना सुबह शाम हल्के गुनगुने पानी से करना चाहिये |

गर्भावस्था में करे पतंजलि सारिवादि वटी का सेवन

गर्भावस्था के समय अधिकतर महिलाओं को गर्भाशय संबंधी रक्तस्राव की समस्या अधिक होती है | जिसकी वजह से महिला में कमजोरी आने लगती है | और इसी वजह से महिला का बच्चा भी कमजोर पैदा होता है | इस प्रकार की समस्या होने पर महिला को पतंजलि चूर्ण का पतंजलि सारिवादि का सेवन करना चाहिये | जिससे महिला को रक्त संबंधी किसी भी समस्या का सामना नही करना पड़ेगा | गर्भावस्था के समय इसका सेवन करने से भूख, कमजोरी, दर्द, व रक्त में वसा की मात्रा को कम करके महिला को पूर्णरूप से स्वस्थ बनता है |

पतंजलि अविपत्तिकर चूर्ण का सेवन से गर्भावस्था में बच्चे को स्वस्थ बनाये

पतंजलि अविपत्तिकर चूर्ण का सेवन करने से बहुत लाभ मिलता है | ये महिला के रक्त को साफ़ बनाने व शरीर में जमा गंदगी को मिटने में बहुत जल्दी अपना असर दिखता है | गर्भवती महिला को इसका सेवन रोजाना सुबह शाम करना चाहिये | जिससे माँ और बच्चा दोनों स्वस्थ रह सके | पतंजलि चूर्ण में अविपत्तिकर चूर्ण गर्भावस्था में के समय महिला के लिये काफी लाभकारी साबित होता है |

गर्भवती महिला को पतंजलि आंवला चूर्ण का सेवन भी करना चाहिये

जिन महिलाओं को गर्भावस्था के समय भूख ना लगना, कमजोरी, खून की कमी, व तनाव जैसी समस्या का सामना करना पड़ रहा है | उन महिलाओं को पतंजलि आंवला चूर्ण का सेवन जरुर करना चाहिये | इस पतंजलि चूर्ण का सेवन करने के बाद महिला को बहुत लाभ मिलता है | क्युकी पतंजलि आंवला चूर्ण में पाये जाने वाले तत्व महिला को

  • वजन बढ़ाने में मदद करता है |
  • खून को साफ़ करता है | जिससे बच्चे तक पूर्ण रूप से आक्सीज़न पहुच सके |
  • नींद लाने में आपकी मदद करता है |
  • कोलेस्ट्रोल खत्म करके भूख बढ़ता है |
  • हड्डियों को मजबूत बनाता है |
  • महिला की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढता है |
  • बच्चे के दिमाग का विकाश करता है |

आदि | महिला को इसका सेवन दिन में दो बार करना चाहिये | अधिक सेवन करने से ये हमारे शरीर को नुकसान भी पंहुचा सकता है | गर्भवती महिला को इसका सेवन रात में दूध के साथ ही करना चाहिये | इसका सेवन करने से माँ और बच्चा दोनों स्वस्थ बनते है |

अगर आप भी गर्भावस्था के समय अपने बच्चे को स्वस्थ बनाना चाहती है | तो आपको ऊपर दिए हुये पतंजलि चूर्ण का सेवन नियम से करना चाहिये |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.