Home दवाइयाँ जापानी तेल के लाभ व प्रयोग करने का तरीका – Benefits Of...

जापानी तेल के लाभ व प्रयोग करने का तरीका – Benefits Of Japani Tel In Hindi

Benefits Of Japani Tel In Hindi

जापानी तेल का इस्तेमाल पुरुषों के गुप्त अंगों में ताकत व जोश भरने के लिए किया जाता है | इस तेल को जापानी तेल के नाम से इस लिए जाना जाता है, क्युकी जापान शहर का खानपान दुनिया में सबसे हेल्दी खान-पान में जाना जाता है | जापानी लोग अधिकतर अपने खानपान में कच्चे व उबले आहारों को अधिक पसंद करते है | जिस वजह से उनको किसी भी प्रकार की यौन समस्या का सामना नही करना पड़ता है |

अगर बात करे WHO के द्वारा जारी की गयी रिपोर्ट की तो जापान में यौन समस्या जैसी परेशानी अन्य देशों के मुकाबले बहुत ही कम पायी जाती है | इस तेल को जापान में जानी वाली कई जडीबुटीयों के द्वारा बनाया जाता है | यह तेल पुरषों के लिंग के तनाव व उसके आकर को बढ़ाने का काम करता है | दोस्तों आइये जानते है जापानी तेल के द्वारा होने वाले लाभ व प्रयोग करने के तरीके के बारे में विस्तार से –

जापानी तेल में मिलाई जाने वाली औषधियाँ :

जापानी तेल को कई प्रकार की गुणकारी जडीबूटीयों को मिलाकर बनाया जाता है | यह जड़ी बूटियाँ हमारे गुप्त अंगों में जोश व ताकत भरने का कार्य करती है | इस तेल में मिलाई जाने वाली जडीबूटीयां निम्न प्रकार है –

  • अकरकरा रूट
  • मल्ला मिनरल
  • मालकांगनी
  • हार्टल मिनरल
  • लोंग फूल की कली
  • जैतून का तेल
  • तिल का तेल
  • संखिया |
  • ज्योतिष्मति |

आदि जड़ी बूटियों को मिलकर इस तेल का निर्माण किया जाता है, इसी वजह से यह तेल अपना असर बहुत तेजी से दिखता है | जापानी तेल ने अपने असरकारक प्रभाव के कारण बाज़ार में अपनी अलग ही जगह बना रखी है |

जापानी तेल के प्रयोग से होने वाले लाभ :

शीघ्रपतन को दूर करता है –

शीघ्रपतन यानि लिंग के माध्यम से वीर्य का स्राव होना, शीघ्रपतन वह स्थिति होती है जिसमे आपका संभोग के समय अपने साथी की तुलना में जल्दी स्खलन हो जाना | यह समस्या हार्मोनल व मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर से जुडी होती है | यदि आप भी इस प्रकार की किसी समस्या का सामना कर रहे है, तो आपको जापानी तेल का प्रयोग करना चाहिये | यह तेल आपकी नशों में तनाव के साथ साथ नई उर्जा भर देता है, जिसके द्वारा आपकी शीघ्रपतन की समस्या कुछ ही समय में दूर होने लगती है |

गुप्तांग में ढीलापन को ठीक करता है –

गुप्तांग में ढीलापन आपकी ख़राब जीवनशैली के कारण ही जन्म लेता है | नशों में ढीलापन आने के कारण आपको कई प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है | यदि आप शादीशुदा है, तो इस वजह से आपके पारिवारिक जीवन में कई प्रकार की समस्या आ सकती है | यदि आप भी इस प्रकार किसी समस्या से परेशान है तो आपको जापानी तेल का प्रयोग करना चाहिये | यह तेल आपके गुप्तांग में जा कर उसमे रक्त संचार को बेहतर बना देता है | जिससे आपके गुप्तांग को स्वस्थ बनाने में मदद मिलती है और ढीलापन समाप्त हो जाता है |

पेनिस की साइज़ बढ़ाने में लाभकारी हैं –

यदि आपके पेनिस का साइज़ बहुत कम हैं, तो यह समस्या आपको आगे चलकर बहुत परेशान कर सकती है | यह समस्या बचपन में अधिक वजन व कम उम्र में जिम आदि करने से शारीर के गुप्त अंगों के विकास पर काफी गहरा असर डालती है | यदि आप भी इस समस्या से परेशान है तो आपको जापानी तेल का प्रयोग जरूर करना चाहिये | इस तेल के प्रयोग से आपके लिंग में काफी बदलाव आने लगता है | आपको पेनिस की लम्बाई बढाने के लिए इस तेल से रोजाना मालिश करनी चाहिये, मालिश करने से आपके गुप्तांग फिर से जवान व स्वस्थ होने लगते है |

किस प्रकार काम करता है  ?

जब आप इस तेल को अपने लिंग पर लगते है, तो इसमें मोजूद तत्व त्वचा के माध्यम से आपके लिंग की नशों में जाते है | नशों में पहुँचकर वह रक्त के प्रवाह को ठीक करके आपकी गुप्त रोग की समस्या को ठीक बनाते है | इस तेल के प्रयोग के बाद आपको बीस मिनट के बाद ही सम्भोग करना चाहिये | जिससे आप लम्बे समय तक सम्भोग के सुख को प्राप्त कर सके |

जापानी तेल को इस्तेमाल करने का तरीका –

जापानी तेल का प्रयोग उम्र के हिसाब से करना चाहिये | यदि आपकी उम्र बीस वर्ष से लेकर तीस वर्ष के बीच है, तो आपको इस तेल का प्रयोग दिन में दो बार सुबह व शाम करना चाहिये | यदि आपकी उम्र तीस वर्ष से लेकर पचास वर्ष के बीच तक है तो आपको इस तेल का प्रयोग रोजाना रात को सोने से पहले एक बार करना चाहिये |

आपको इस तेल को उचित मात्रा में लेकर अपने पूरे गुप्तांग पर अच्छे से मालिश करना चाहिये जिससे इस तेल का असर आपके अंगों पर जल्दी पड़े | आप चाहे तो इस तेल को प्रयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह भी ले सकते है | याद रहे कभी भी शराब के सेवन के बाद इस तेल का प्रयोग बिलकुल भी न करे |

इस तेल के शरीर पर होने वाले साइड इफ़ेक्ट –

कम उम्र में इस तेल का प्रयोग करने से लिंग में टेढ़ापन जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | यदि आपके गुप्तांग में दाने व घाव है तो इस तेल का बिलकुल भी प्रयोग न करे | यदि आप सही रूप से इस तेल का प्रयोग करते है | तो आपको कभी भी किसी प्रकार का साइड इफ़ेक्ट का सामना नही करना पड़ेगा |

इसके प्रयोग जुड़े कुछ सवाल :

क्या मधुमेह की समस्या में इस तेल का प्रयोग कर सकते है ?

आप मधुमेह की समस्या में इस तेल का प्रयोग कर सकते है | लेकिन यदि आपको मधुमेह के साथ उच्च रक्तचाप की समस्या है तो इस तेल के प्रयोग से पहले डॉक्टर से जरुर सम्पर्क करे |

नसबंदी के बाद इस तेल का प्रयोग किया जा सकता है क्या ?

नसबंदी के बाद यदि आपको किसी प्रकार की कोई समस्या आ रही है | तो आप इस तेल का प्रयोग कर सकते है |

डिप्रेशन, अवसाद व रीढ़ की हड्डी से जुड़े रोगी इस तेल का प्रयोग कर सकते है क्या ?

डिप्रेशन व अवसाद वाले व्यक्ति इस तेल का प्रयोग कर सकते है | लेकिन रीढ़ की हड्डी से जुड़े रोगियों को इस तेल का प्रयोग करने से पहले डॉक्टर की जरुर सलाह लेनी चाहिये |

और पढ़े - अशोकारिष्ट क्या है लाभ गुण व हानि – Benefits Of Ashokarishta in Hindi