जापानी तेल के लाभ व प्रयोग करने का तरीका – Benefits Of Japani Tel In Hindi

दवाइयाँ

जापानी तेल का इस्तेमाल पुरुषों के गुप्त अंगों में ताकत व जोश भरने के लिए किया जाता है | इस तेल को जापानी तेल के नाम से इस लिए जाना जाता है, क्युकी जापान शहर का खानपान दुनिया में सबसे हेल्दी खान-पान में जाना जाता है | जापानी लोग अधिकतर अपने खानपान में कच्चे व उबले आहारों को अधिक पसंद करते है | जिस वजह से उनको किसी भी प्रकार की यौन समस्या का सामना नही करना पड़ता है |

अगर बात करे WHO के द्वारा जारी की गयी रिपोर्ट की तो जापान में यौन समस्या जैसी परेशानी अन्य देशों के मुकाबले बहुत ही कम पायी जाती है | इस तेल को जापान में जानी वाली कई जडीबुटीयों के द्वारा बनाया जाता है | यह तेल पुरषों के लिंग के तनाव व उसके आकर को बढ़ाने का काम करता है | दोस्तों आइये जानते है जापानी तेल के द्वारा होने वाले लाभ व प्रयोग करने के तरीके के बारे में विस्तार से –

जापानी तेल में मिलाई जाने बाली औषधियाँ :

जापानी तेल को कई प्रकार की गुणकारी जडीबूटीयों को मिलाकर बनाया जाता है | यह जड़ी बूटियाँ हमारे गुप्त अंगों में जोश व ताकत भरने का कार्य करती है | इस तेल में मिलाई जाने वाली जडीबूटीयां निम्न प्रकार है –

  • अकरकरा रूट
  • मल्ला मिनरल
  • मालकांगनी
  • हार्टल मिनरल
  • लोंग फूल की कली
  • जैतून का तेल
  • तिल का तेल
  • संखिया |
  • ज्योतिष्मति |

आदि जड़ी बूटियों को मिलकर इस तेल का निर्माण किया जाता है, इसी वजह से यह तेल अपना असर बहुत तेजी से दिखता है | जापानी तेल ने अपने असरकारक प्रभाव के कारण बाज़ार में अपनी अलग ही जगह बना रखी है |

जापानी तेल के प्रयोग से होने वाले लाभ :

शीघ्रपतन को दूर करता है –

शीघ्रपतन यानि लिंग के माध्यम से वीर्य का स्राव होना, शीघ्रपतन वह स्थिति होती है जिसमे आपका संभोग के समय अपने साथी की तुलना में जल्दी स्खलन हो जाना | यह समस्या हार्मोनल व मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर से जुडी होती है | यदि आप भी इस प्रकार की किसी समस्या का सामना कर रहे है, तो आपको जापानी तेल का प्रयोग करना चाहिये | यह तेल आपकी नशों में तनाव के साथ साथ नई उर्जा भर देता है, जिसके द्वारा आपकी शीघ्रपतन की समस्या कुछ ही समय में दूर होने लगती है |

गुप्तांग में ढीलापन को ठीक करता है –

गुप्तांग में ढीलापन आपकी ख़राब जीवनशैली के कारण ही जन्म लेता है | नशों में ढीलापन आने के कारण आपको कई प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है | यदि आप शादीशुदा है, तो इस वजह से आपके पारिवारिक जीवन में कई प्रकार की समस्या आ सकती है | यदि आप भी इस प्रकार किसी समस्या से परेशान है तो आपको जापानी तेल का प्रयोग करना चाहिये | यह तेल आपके गुप्तांग में जा कर उसमे रक्त संचार को बेहतर बना देता है | जिससे आपके गुप्तांग को स्वस्थ बनाने में मदद मिलती है और ढीलापन समाप्त हो जाता है |

पेनिस की साइज़ बढ़ाने में लाभकारी हैं –

यदि आपके पेनिस का साइज़ बहुत कम हैं, तो यह समस्या आपको आगे चलकर बहुत परेशान कर सकती है | यह समस्या बचपन में अधिक वजन व कम उम्र में जिम आदि करने से शारीर के गुप्त अंगों के विकास पर काफी गहरा असर डालती है | यदि आप भी इस समस्या से परेसान है तो आपको जापानी तेल का प्रयोग जरूर करना चाहिये | इस तेल के प्रयोग से आपके लिंग में काफी बदलाव आने लगता है | आपको पेनिस की लम्बाई बढाने के लिए इस तेल से रोजाना मालिश करनी चाहिये, मालिश करने से आपके गुप्तांग फिर से जवान व स्वस्थ होने लगते है |

किस प्रकार काम करता है  ?

जब आप इस तेल को अपने लिंग पर लगते है, तो इसमें मोजूद तत्व त्वचा के माध्यम से आपके लिंग की नशों में जाते है | नशों में पहुँचकर वह रक्त के प्रवाह को ठीक करके आपकी गुप्त रोग की समस्या को ठीक बनाते है | इस तेल के प्रयोग के बाद आपको बीस मिनट के बाद ही सम्भोग करना चाहिये | जिससे आप लम्बे समय तक सम्भोग के सुख को प्राप्त कर सके |

जापानी तेल को इस्तेमाल करने का तरीका –

जापानी तेल का प्रयोग उम्र के हिसाब से करना चाहिये | यदि आपकी उम्र बीस वर्ष से लेकर तीस वर्ष के बीच है, तो आपको इस तेल का प्रयोग दिन में दो बार सुबह व शाम करना चाहिये | यदि आपकी उम्र तीस वर्ष से लेकर पचास वर्ष के बीच तक है तो आपको इस तेल का प्रयोग रोजाना रात को सोने से पहले एक बार करना चाहिये |

आपको इस तेल को उचित मात्रा में लेकर अपने पूरे गुप्तांग पर अच्छे से मालिश करना चाहिये जिससे इस तेल का असर आपके अंगों पर जल्दी पड़े | आप चाहे तो इस तेल को प्रयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह भी ले सकते है | याद रहे कभी भी शराब के सेवन के बाद इस तेल का प्रयोग बिलकुल भी न करे |

इस तेल के शरीर पर होने वाले साइड इफ़ेक्ट –

कम उम्र में इस तेल का प्रयोग करने से लिंग में टेढ़ापन जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | यदि आपके गुप्तांग में दाने व घाव है तो इस तेल का बिलकुल भी प्रयोग न करे | यदि आप सही रूप से इस तेल का प्रयोग करते है | तो आपको कभी भी किसी प्रकार का साइड इफ़ेक्ट का सामना नही करना पड़ेगा |

इसके प्रयोग जुड़े कुछ सवाल :

क्या मधुमेह की समस्या में इस तेल का प्रयोग कर सकते है ?

आप मधुमेह की समस्या में इस तेल का प्रयोग कर सकते है | लेकिन यदि आपको मधुमेह के साथ उच्च रक्तचाप की समस्या है तो इस तेल के प्रयोग से पहले डॉक्टर से जरुर सम्पर्क करे |

नसबंदी के बाद इस तेल का प्रयोग किया जा सकता है क्या ?

नसबंदी के बाद यदि आपको किसी प्रकार की कोई समस्या आ रही है | तो आप इस तेल का प्रयोग कर सकते है |

डिप्रेशन, अवसाद व रीढ़ की हड्डी से जुड़े रोगी इस तेल का प्रयोग कर सकते है क्या ?

डिप्रेशन व अवसाद वाले व्यक्ति इस तेल का प्रयोग कर सकते है | लेकिन रीढ़ की हड्डी से जुड़े रोगियों को इस तेल का प्रयोग करने से पहले डॉक्टर की जरुर सलाह लेनी चाहिये |

और पढ़े - अशोकारिष्ट क्या है लाभ गुण व हानि – Benefits Of Ashokarishta in Hindi
Tagged यौन रोग
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *