दिव्य उदरकल्प चूर्ण के फायदे – Benefits Of Divya Udarkalp Churna In Hindi

1
48
दिव्य उदरकल्प चूर्ण

पंतजलि दिव्य उदरकल्प चूर्ण गैस, पेट के दर्द, अपच और पेट से संबंधित अन्य रोगों के लिये सबसे अहम् माना जाता है | इसके सेवन से हमारी पेट की सभी समस्या का उपचार बहुत आसानी से हो जाता है | दिव्य उदरकल्प चूर्ण को बनाने में कई प्रकार की जडीबुटी को मिलकर बनाया जाता है | जैसे सोनामुखी, सौंफ, हरीतकी छोटी, सेंधा नमक, सोंठ, गुलाब फूल, काला दाना, जैसी गुणकारी जडीबुटी के कारण ही ये हमारे पेट की सभी समस्याओं को जड़ से ख़त्म करने में हमारी मदद करता है | इसीलिए आज हम आपको पेट से जुड़ी सभी समस्याओं को किस प्रकार घर बैठे ठीक करे इसके बारे में जानकारी देने जा रहे है | तो आइये जानते है  इसके लाभ के बारे में…

दिव्य उदरकल्प चूर्ण के लाभ –

यह आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का एक ऐसा मिश्रण हैं जो कब्ज के उपचार के लिए एक असरदार और कुदरती तरीका हैं। इसका निर्माण ही कब्ज की रोकथाम के लिए किया गया हैं। इस चूर्ण को सोनामुखी, सौंफ, हरीतकी छोटी और सेंधा नमक जैसे कुदरती घटको को मिला कर बनाया जाता हैं जिसमे सोनामुखी और सौंफ बातहर हैं और पाचन को बढाती हैं, हरीतकी ऊर्जा और पाचन के लिए अच्छा टॉनिक हैं और सेंधा नमक गैस को कम करने और पेट दर्द में सहायक होता हैं। यही वजह हैं की दिव्य उदरकल्प चूर्ण न केवल कब्ज को दूर करता हैं |

पेट दर्द में लाभकारी सिद्ध होता है –

पेट में दर्द के कई कारण हो सकते हैं | कई बार कब्ज के कारण, कई बार कोई गंभीर बीमारी से तो कभी आंतों में विकार के कारण ऐसे ही कुछ अन्य क्षणिक विकार पेट दर्द का कारण बनते हैं | इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए दिव्य उदरकल्प चूर्ण का निर्माण किया गया है | इसमें पाई जाने वाली सोनामुखी, हरीतकी छोटी व सेंधा नमक हमारे पेट की गंदगी को साफ़ करके पेट में होने वाले दर्द को ठीक करता है | आपको इसका सेवन पेट दर्द होने पर इस प्रकार करना चाहिए | सबसे पहले पानी को थोडा गर्म करके इसके साथ इसका सेवन करे

पेट की सूजन में भी फायदेमंद होता है –

खानपान और अनियमित दिनचर्या के कारण पेट से संबंधित कई बीमारियां हो जाती हैं, इसमें से एक है पेट में सूजन होना | पेट में सूजन की समस्‍या के लिए सबसे अधिक जिम्‍मेदार कब्‍ज और गैस बनना है | यह शिकायत तब होती है जब खाना पचने में समस्‍या होती है | अगर आपको भी इसप्रकार की कोई समस्या होती है | तो आपको इसके उपचार के लिए  इसका सेवन करना चाहिए | जिससे आपके पेट की सुजन कुछ ही दिनों में पूरी तरह ठीक हो जाएगी |

कब्ज और बबासीर में भी लाभकारी होता है-

अगर आप कब्ज या बबासीर की समस्या से ग्रस्त है | तो आपको इस चूर्ण का सेवन रोजाना करना चाहिए | क्यूकि ये दोनों समस्या केवल पाचन तंत्र से जुडी होती है | जिनका अगर समय रहते इलाज ना कराया जाये | तो आपको इसका घम्भीर रूप देखने को मिल सकता है | इस चूर्ण का सेवन करने से हमारा पाचन तंत्र पूरी तरह ठीक हो जाता है | जिससे कब्ज या बबासीर की समस्या भी ठीक होने लगती है | आपको इस समस्या के लिए इसका सेवन रोजाना सुबह शाम गुनगुने पानी के साथ करना चाहिये |

कैसे करे इस चूर्ण का सेवन-

इस चूर्ण को रोजाना लेने की सलाह दी जाती हैं | इसे दिन में एक बार रात को सोते समय लेना चाहिए | इस चूर्ण का सेवन हल्के गर्म दूध या पानी किसी के साथ भी ले सकते हैं | इसका सेवन आप लंबे समय तक कर सकते हैं | र्भबती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली माताएं भी इसका आसानी से प्रयोग कर सकती हैं | इसके सेवन से उनके शरीर व बच्चे पर कोई असर नही पड़ेगा |

1 COMMENT

  1. aaj mane divy kalp churn kharida hai pet saaf nahi hota hai khul ke pet saaf nhai hota mahine mai ek ya 2 din hota hai din mai 3 ya 4 bar jana padta hai prayog ke baad batunga kasi hai dawai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here