Dabur Madhu Rakshak

डाबर मधु रक्षक के लाभ, गुण और कीमत – Benefits Of Dabur Madhu Rakshak In Hindi

आयुर्वेद

डाबर मधु रक्षक क्या है ?

डाबर मधु रक्षक डाबर द्वारा तैयार की गयी एक आयुर्वेदिक दवा है, जो जामुन, करेला, मेथी आदि जैसे का गुणकारी तत्वों को मिलाकर बनाई गयी इसी कारण यह शुगर जैसी समस्या को जडस से खत्म करने में काफी लाभकारी सिद्ध साबित होती है | यह दवा शुगर के मरीजों के रक्त में बढ़े हुए शर्करा के स्तर को कम करने का कार्य करती है | साथ ही साथ यह दवा व्यक्ति को और भी समस्याओं में फायदेमंद साबित होती है | दोस्तों डाबर के द्वारा बनाया गया यह प्रोडक्ट का अलग ही स्थान है | यह दवा शुगर के रोगियों के लिए बहुत ही फायदेमंद है | आइये जानते है, इस दवा में मिलाई जाने वाली जड़ीबूटी के बारे में |


डाबर मधु रक्षक के महत्वपूर्ण घटक

मधु रक्षक एक आयुर्वेदिक दवा है, जो कई प्रकार की गुणकारी जड़ी बूटी को मिलाकर बनाई गयी है | जिसके द्वारा यह मरीज को कई प्रकार की समस्या से छुटकारा दिलाने का कार्य करती है | आइये जानते है डाबर मधु रक्षक के घटक के बारे में
विजयसार, तेजपत्ता, जामुन की गुटली, गुडमार, काली मिर्च, नीम, मेथी, शुद्ध शिलाजीत, करेला, आमला, हरीतकी, विभिताकी, हल्दी व आवंला जैसे तत्वों के कारण यह शारीर के लिए लाभकारी साबित होती है | दोस्तों आइये जानते है इस दवा के सेवन से होने वाले लाभ के बारे में |

डाबर मधु रक्षक के लाभ

मधुमेह की समस्या में राहत देती है मधु रक्षक

यह दवा मधुमेह की समस्या में मधुमेह के द्वारा होने वाले हानिकरक प्रभाव से बचने के लिए बनाया गया है | यह दवा अनमॅनेज्ड रक्त शर्करा या अनियंत्रित मधुमेह जैसे न्यूरोपैथी, रेटिनोपैथी, नेफ्रोपैथी, बड़े और छोटे रक्त वाहिकाओं में सामान्यीकृत अपक्षयी परिवर्तन, और वृद्धि की संवेदनशीलता संक्रमण के कारण होने वाले नुकसान से बचाने का कार्य करती है | मधुमेह रोगियों को इस दवा का सेवन रोजाना सुबह शाम करना चाहिये | जिससे शुगर जैसी समस्या को जड़ से खत्म करने में मदद मिलती है |

रक्तचाप बेहतर बनाता है मधु रक्षक

रक्तचाप यां ब्लडप्रेशर की समस्या भी आज के इस जीवन में आम समस्या बनती जा रही है | भारत में ही लगभग बीस लाख लोग इस समस्या से ग्रस्त है, यदि डाबर मधु रक्षक का सेवन नियमित किया जाये | तो व्यक्ति को कभी भी इस प्रकार की समस्या का सामना नही करना पड़ेगा | यह दवा शरीर के रक्त को संतुलित व ह्रदय से जुडी समस्या को जड़ से खत्म करके बेहतर बनाने का कार्य करती है |

डाबर मधु रक्षक का सेवन तरीका

यदि आप मधुमेह व रक्तचाप जैसी समस्या से परेसान है, तो आपको इस दवा का सेवन रोजाना गुनगुने पानी के साथ सुबह शाम खाली पेट करना चाहिये आपको यह दवा प्रतिदिन 4 से 5 ग्राम ही खानी चाहिये जिससे आपके शरीर को किसी भी प्रकार का कोई नुकसान का सामना न करना पड़े | बच्चों को इस दवा से दूर रखे क्युकी यह दवा का सेवन केवल बीस साल के व्यक्ति ही कर सकते है |

डाबर मधु रक्षक के नुकसान

डाबर मधु रक्षक के अधिक सेवन से कई प्रकार के नुकसान भी हो सकते है, क्युकी किसी भी चीज की अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर को कई गंभीर परिणाम देखने को मिलते है | डाबर मधु रक्षक के अधिक सेवन से शरीर को दस्त, पीलिया, व पाचन से जुडी समस्या का सामना करना पड़ता है | गर्भवती महिला को इस दवा का सेवन बिलकुल भी नही करना चाहिये | नही तो इससे बच्चे व माँ दोनों की सेहत पर बहुत गहरा असर पड़ता है | बच्चों को भी इस दवा से दूर रखना चाहिये नही तो बच्चों को बुखार व दस्त जैसी समस्या की परेशानी भी हो सकती है

और पढ़े – पतंजलि बेल कैंडी के लाभ गुण व हानि – Benefits Of Patanjali Bel Candy In Hindi

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *