कांटेक्ट लेंस के फायदे व नुकसान – Benefits Of Contact Lens In Hindi

0
131
आँखों के लेंस के फायदे व नुकसान

कांटेक्ट लेंस या फिर इसको आंखों का लेंस एक बहुत ही हल्का व नर्म कॉस्मेटिक उपकरण होता है | जो हमारी आंखो की कॉर्निया पर पहना जाता है | इनका काम भी हमारे चश्मे की तरह होता है | अगर किसी मनुष्य को चश्मे अच्छे नही लगते है | तो वो मनुष्य इन लेंशो का प्रयोग करके अपनी समस्या को जड़ से दूर कर सकता है | अगर किसी व्यक्ति को दूर दृष्टि दोष या निकट दृष्टि दोष की समस्या से परेशान है | तो भी इनका प्रयोग करके अपनी इस समस्या को खत्म कर सकता है | आज कल चश्मे से अधिक लेंशो प्रयोग किया जाता है | इन लेंशो को थोडा हल्का व रंगीन बनाया जाता जिससे हमिनको अच्छी तरह सभाल के रख सके | ये लेंश दो प्रकार के होते है

  1. कठोर कांटेक्ट लेंस
  2. मुलायम कांटेक्ट लेंस

आज के इस जीवन में कांटेक्ट लेंस पहनना बहुत ही आम हो गया है | रंगीन कांटेक्ट लेंस हमारी आंखों के रंग को पूरी तरह बदल के रख देते है | कॉस्ट्यूम कांटेक्ट लेंस तो कुछ स्पेशल इफ़ेक्ट पैदा करने में मदद करते है | अब आइये जानते है इनके प्रकार के बारे में |

जानिये आंखों के लेंस के प्रकार के बारे में

आंखों के लेंस को तीन भागो में बंटा गया है |

सॉफ्ट कांटेक्ट लेंस – सॉफ्ट कांटेक्ट लेंस पूरी दुनिया में सबसे अधिक प्रयोग किये जाने वाले लेंस होते है | ये लेंस त्याधुनिक ऑप्टिकल प्रौद्योगिकी से बनाये जाते है | इसी कारण ये लेंस काफी आरामदायक, लचीले और लंबे समय तक पहने जा सके | इन लेंसों में भी कई प्रकार आते है | जैसे

एक्सटेंडेड वियर लेंस – एक्सटेंडेड वियर लेंस तकनीक के सबसे आधुनिक प्रयोग होता है | ये लेंस ह्यड्रोजेल से बनाये जाते है | ये लेंस अधिक आरामदायक होते हैं और लंबे समय तक पहने जा सकते हैं | क्यूकि इसके पहनने के बाद आंखों को ऑक्सीजन लेने में परेशानी नही होती है |

डेली डिस्पोजेबल लेंस – डेली डिस्पोजेबल लेंस का प्रयोग केवल एक बार ही किया जा सकता है | उसके बाद ये उपयोग करने लायक नही होते है |

टू वीकली डिस्पोजेबल लेंस – टू वीकली डिस्पोजेबल नाम से पता चलता है | की इन लेंशो को हम केवल एक हफ्ते या उससे अधिक दो हफ्ते तक ही यूज़ कर सकते है |

मंथली डिस्पोजेबल लेंस – मंथली डिस्पोजेबल लेंस को हम केवल एक महीने तक ही यूज़ कर सकते है | उसके बाद हमें इन लेंसों को फकना पड़ता है |

गैस परमेयबल कॉन्टेक्ट लेंस – गैस परमेयबल कॉन्टेक्ट लेंस को हार्ड लेंस भी कहा जाता है | इन लेंसों में पानी की मात्रा बिलकुल भी नही होती है | इसीलिए ये हमारी आँखों के लिए आरामदायक होते है | इन लेंसों को हम लम्बे समय तक के लिए प्रयोग में ला सकते है |

रंगीन कांटेक्ट लेंस – रंगीन लेंस सॉफ्ट लेंस होते हैं | जिसको हम रोज या फिर एक महीने के बाद बदल देते है | इन लेंसों के कारण आपकी आंखो का रंग बदल जाता है | ये लेंस का प्रयोग कोई भी व्यक्ति कर सकता है |

किस प्रकार करे आंख लेंस का प्रयोग

आंख मे लेंस पहनने और निकालने के लिए निम्नलिखित बातों का पालन करना चाहिये |
पहनने के लिए रखे हमेशा इन बातों का ध्यान

  • लेंस से गंदगी को हटाने के लिए लेंस को सॉल्यूशन में धो लें |
  • लेंस के मिक्स होने से बचने के लिए हमेशा पहले अपनी सीधी आंख में लेंस पहने |
  • अब लेंस को अपनी अंगुली के ऊपर रखें |
  • अपने दूसरे हाथ से आंख की पलकों को पकड़ कर रखे ताकि आपकी आंख खुली रहे |
  • अपने लेंस वाले हाथ की खाली अंगुली से निचली पलक को थोड़ा नीचे खींचें |
  • ऊपर देखते हुए लेंस को अंगुली से अपनी आंख की पुतली के नीचे रखें |
  • अब धीरे-धीरे अपने हाथ को पलकों से हटा कर आंख को एक क्षण के लिए बंद कर लें |
  • आंख सामान्य रूप से झपकाए जिससे लेंस पुतली पर खिसक जाए |

लेंस उतारने के लिए ज़रूरी बातें

सबसे पहले अपने हाथ को अच्छी तरह से साबुन से धूल ले | व उसके बाद सुखा ले फिर उपर की ओर देखते हुये | अपनी आँख की निचली पलक को निचे खीचे | फिर अपनी अंगुली से लेंस की नीचे वाली साथ को छुए | व अपनी आँख के नीचे की ओर खिसकाये | फिर अपने अंगूठे और अंगुली पकड़ कर लेंस को बाहर निकाल लें |

आंख मे लेंस के फायदे

  • कम प्रकाश में भी साफ़ देख सकते है |
  • चश्मे के साथ होने वाली रिफ्लेक्शन और गड़बड़ लेंस के साथ नहीं होती |
  • आंख के अंदर होने के कारण वे आपको साफ देखने में मदद मदद मिलती है |
  • किसी गर्म जगह पर चश्मे की तरह इस पर भाप की समस्या नही आती है |
  • लेंस अधिक हल्के और कम बाधा पहुँचाने वाले होते हैं |
  • उनके गिरने और टूटने का डर भी नहीं रहता |
  • लेंस की वजह से हमें खेलने में भी कोई परेशानी नहीं होती |
  • एक बार आंख में लगाने के बाद आपको उनके खो जाने का डर नहीं रहता |
  • इसके प्रयोग से आपको प्राकृतिक लुक मिलता है |
  • आप नई फैशन के बिना नंबर वाले सन ग्लास पहन सकते हैं |

जाने कांटेक्ट लेंस के नुकसान

  • आंखों में दर्द का होना
  • धुंधला दिखाई देना |
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता होना |
  • आँखों का लाल हो जाना |
  • अधिक आंसू का निकलना |
  • आंख के आसपास की रक्त वाहिकाओं में सूजन आना |
  • आंख में अल्सर की समस्या का होना |

और पढ़े – जाने वैकल्पिक चिकित्सा या अल्टरनेटिव थैरेपी के बारे में – Alternative Treatment In Hindi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.