Bhringraj Oil

भृंगराज तेल के लाभ हानि व बनाने की विधि – Benefits Of Bhringraj Oil in Hindi

जड़ी बूटी

भृंगराज तेल भारत ही नही पुरे विश्व में सबसे अधिक बिकने वाला एक असरदार तेल है | इस तेल को भृंगराज नामक पौधे के द्वारा निकाला जाता है | यह पौधा भारत के साथ साथ पुरे विश्व में पाया जाता है | यह पौधा आपको अधिकतर दलदल वाली जगह पर आसानी से मिल जायेगा है | यह पौधा आपके सफ़ेद बालों, बालों के झड़ने, सिरदर्द और मानसिक कमजोरी जैसी समस्या के इलाज में आपकी मदद करता है |


यदि भृंगराज तेल का नियमित प्रयोग किया जाये | तो इसके द्वारा आप अपनी मानसिक क्षमता को भी बढ़ा सकते है | प्रचीन समय में इस जडीबुटी के द्वारा बालों से जुडी सभी समस्या का इलाज करने में किया जाता रहा है | दोस्तों यदि आप भी अपने बालों से जुडी किसी समस्या से ग्रस्त है | और अपनी परेशानी का इलाज जल्द से जल्द करना चाहते है | तो यह लेख के द्वारा आप अपनी बालों से जुडी सभी समस्या का इलाज आसानी से कर सकते है | दोस्तों आइये जानते है भृंगराज तेल के लाभ के बारे में

भृंगराज तेल के लाभ

रूसी की समस्या को खत्म करता है

पर्यावरण प्रदूषण, शारीरिक गंदगी व खानपान के कारण भी आपको रूसी जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | यदि आप भी कुछ इसी प्रकार की समस्या से परेसान है | और इस परेसानी के कारण आपको कई प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है |

तो आपको भृंगराज तेल के द्वारा रोज रात को सोने से पहले मालिश करनी चाहिये | मालिश करने से आपके सिर में जमा रूसी पूरी तरह से खत्म होने लगती है | आपको मालिश करने से पहले भृंगराज तेल को थोडा गुनगुना कर लेना चाहिये |

बाल सफेद होने से बचाता है 

कई बार देखा जाता है, पोषण की कमी के कारण कम उम्र के बच्चों के बाल सफ़ेद होने लगते है | पहले यह समस्या केवल अधिक उम्र के व्यक्तियों में देखी जाती थी | लेकिन आज कल यह समस्या आम होती जा रही है | यदि आप या अपने बच्चे सफ़ेद बाल को को लेकर चिंतित है |

तो आप भृंगराज तेल के द्वारा अपनी इस समस्या को हमेशा के लिए खत्म कर सकते है | इस तेल में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट व खनिज तत्व पाए जाते है | जो आपके बालों को सफ़ेद बालों को हटाकर नये काले बालों को जन्म देने लगते है | सफ़ेद बालों की समस्या में आपको इस तेल का प्रयोग सात महीनों तक करना चाहिये |

बालों का गिरना रोकता है

बालों के गिरने की वजह शरीर में वात के बढने की वजह से आती है | वात आपके पित्त से जुड़ा हुआ होता है | जिसकी अधिकता के कारण बाल टूटने लगते है | कभी कभी पोषण की कमी भी बालों के टूटने की वजह बनाने लगती है | यदि आप बाल टूटने जैसी समस्या से परेसान है, और आप इस परेसानी को जल्द से जल्द खत्म करना चाहते है |

तो आपको नियमित भृंगराज तेल का प्रयोग करना चाहिये | यह तेल बालों की जड़ से होकर आपके रक्त संचार को स्वस्थ बनाने कार्य करता है | जिससे आपके शरीर में वात की अधिकता व बालों में पोषण जैसी समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है |

फंगल संक्रमण की समस्या को ठीक करता है

कई बार मौसम के बदलाव व गंदगी के कारण आपके शरीरिक अंग फंगल संक्रमण से प्रभावित हो जाते है | यदि फंगल संक्रमण का सही समय पर उपचार न कार्य जाये | तो इन संक्रमण को गंभीर होते देर नही लगती | यदि आप भी किसी फंगल संक्रमण से प्रभावित है |

तो आप भृंगराज जैसी जडीबुटी के तेल से अपनी इस समस्या को जड़ से खत्म कर सकते है | इस तेल में रोगाणुरोधी गुण आपकी इस समस्या को बहुत आसानी से खत्म कर देते है | आपको इस तेल का प्रयोग एक रुई के द्वारा तेल में भिगों कर प्रभवित हिस्से पर लगाना चाहिये |

दिमागी क्षमता को बढ़ता है भृंगराज तेल

यदि आप कमजोर दिमाग की वजह से अपनी जरुरी चीजों को भूल जाते है | या फिर आपको पढाई करने में दिक्कत महसूस हो रही है | तो आप अपनी इस परेशानी को कुछ ही समय में आसानी से खत्म कर सकते है | आपको नियमित सोने से पहले भृंगराज तेल के द्वारा अपने सिर की मालिश करना चाहिये |

मालिश करने से यह तेल आपके बालों की जड़ के द्वारा आपके मस्तिष्क में प्रवेश करने लगता है | जो बाद में आपके मस्तिष्क में रक्त प्रवाह को बेहतर बनाता है | जिससे आपके दिमाग में सही रूप से रक्त संचार होने लगता है | और आपकी दिमागी क्षमता मजबूत होने लगती है |

भृंगराज तेल के प्रयोग करने की विधि

भृंगराज तेल का प्रयोग आपको मालिश के तौर पर करना चाहिये | मालिश के रूप में प्रयोग करने से हमारे शरीर की कई समस्या को आराम मिलता है | आप चाहे तो इस तेल में नारियल का तेल भी मिलाकर प्रयोग में ला सकते है |

भृंगराज तेल बनाने का तरीका

भृंगराज तेल बनाने के लिए सबसे पहले भृंगराज जडीबुटी के साथ साथ इसमें नागरमोथा, शिकाकाई, अमरबेल, जटामांसी, आवंला व जैतून का तेल प्रयोग किया जाता है | सबसे पहले एक बर्तन में पानी को गर्म करे फिर उसमे जैतून के तेल को छोड़कर बाकि जडीबुटी को मिलाये | इसको जब तक गर्म करे जब तक यह पूर्णरूप से काढ़े में परिवर्तित न हो जाये | काढ़ा बनाने के बाद इसमें जैतून के तेल को मिलाये | व नियमित रूप से प्रयोग में लाये | कई नामी गिरामी कंपनियां इस जडीबुटी के द्वारा तेल का निर्माण करती है |

भृंगराज तेल के नुकसान

भृंगराज तेल के प्रयोग से आपको किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नही होता है | हो सकता है | इस तेल के प्रयोग से आपको छींक आना, नाक व आखों में जलन महसूस होने लगें | इसके आलावा इस तेल के अभी तक किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नही देखे गये है | यदि आप इस लेख से जुड़े किसी सवाल को हमसे पूछना चाहते है | तो आप हमारे कमेन्ट बॉक्स में हमे जरुर बताये |

और पढ़े - बालों की रूसी का सम्पूर्ण व असरदार इलाज – Dandruff Treatment In Hindi

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *