भृंगराज के लाभ हानि व सेवन का तरीका – Benefits Of Bhringraj In Hindi

0
139
bhringraj

भृंगराज एक प्राकृतिक औषधि होती है | जिसका वानस्पतिक नाम एक्‍लिप्‍टा एल्‍बा के नाम से जाना जाता है | भृंगराज जडीबुटी के गुण आपके शरीर के लिये बहुत ही लाभकारी माने जाते है | इस जड़ी बूटी के तेल को आयुर्वेदिक तेल में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है | इस जड़ी के द्वारा कई प्रकार की दवा व तेल का निर्माण भी किया जाता है | जो कि आपके शरीर की कई समस्या का निवारण बहुत ही आसानी से कर देती है |

भृंगराज औषधि का पौधा –

इस जडीबुटी का पौधा पुरे विश्व भर में पाया जाता है | यह पौधा अधिकतर दलदल वाले स्थान पर पाया जाता है | भृंगराज जडीबुटी की चार किस्में पाई जाती है | लेकिन इस जडीबुटी की सबसे प्रचलित किस्म सफेद भृंगराज को माना जाता है | यह सफ़ेद भृंगराज का पौधा कई बीमारियों के इलाज में प्रयोग किया जाता है | इस जडीबुटी की जड़ से लेकर पत्तियां तक प्रयोग में लायी जाती हैं | दोस्तों आइये जानते है – इस प्राकृतिक औषधि के द्वारा होने वाले लाभ के बारे में |

इस जड़ी बूटी में जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सीडेंट, उच्च कैरोटीन, रोगाणुरोधी, व कई खनिज तत्व पाये जाते है | जो कि आपको बालों का झड़ना रोकने, बालों को घना बनाने, यकृत समस्या, सूजन को कम करने, पेट की पीड़ा कम करने, कैंसर रोधी व प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने का कार्य करती है | इन्ही सब खूबियों की वजह से इस जडीबुटी ने पुरे विश्व में अपना अलग ही नाम बनाया हुआ है | यदि आप भी इन्हीं समस्या से परेशान है | तो यह लेख पूरी तरह आपके लिये ही है, तो दोस्तों आइये जानते है – इस जडीबुटी के बारे में विस्तार से |

इसको प्रयोग करने से लाभ –

पीलिया में लाभकारी है –

भृंगराज के पत्ते पीलिया जैसी बीमारी को ठीक करने में आपकी बहुत मदद करते है | इस जड़ी बूटी के पत्ते शरीर में एकत्र बिलीरुबिन की मात्रा को पूर्ण रूप से नियंत्रित कर देता है | जिससे आपकी पीलिया जैसी बीमारी कुछ ही दिनों में पूरी तरह ठीक हो जाती है |

पीलिया में सेवन तरीका :

पीलिया जैसी बीमारी में आपको पांच से सात भृंगराज के पत्ते व दो ग्राम काली मिर्च को अच्छी तरह पीसकर खाली पेट सेवन करने से आपकी पीलिया रोग की समस्या पूरी तरह ठीक हो जायेगी |

गुप्तांग संक्रमण में लाभकारी है –

यदि आप किसी गुप्तांग संक्रमण यानि पेशाब में दर्द, जलन, रक्त व सुजन जैसी समस्या से ग्रसित है | तो आप इस जडीबुटी के द्वारा इस परेशानी से निजात पा सकते है | क्योंकि इस औषधि में जीवाणुरोधी और एंटीसेप्टिक तत्व पाए जाते है | जो शरीर में स्थित संक्रमण को खत्म करने में आपकी बहुत मदद करते है |

संक्रमण में भृंगराज का सेवन तरीका :

संक्रमण कि परेशानी में आपको इस जड़ी-बूटी के पत्तों को पीसकर इसको छान ले फिर इसमें थोडा शहद मिलाकर सेवन करने से शरीर संक्रमण मुक्त हो जाता है |

बालों की समस्याओं को खत्म करता है –

आज के इस भागदौड भरे जीवन में हम अपने बालों के पोषण पर कम ध्यान दे पाते है | जिसकी वजह से हमारे बालों में कई प्रकार की परेशानी जैसे – रूसी, बाल झड़ने लगना, बालों का पतले होना, बालों की लम्बाई के लिये व बालों का सफ़ेद होने जैसी समस्या आने लगती है | यदि आप भी इन सभी समस्या के शिकार है तो आपको इस जड़ी बूटी का प्रयोग करना चाहिये |

बालों की समस्याओं में इस प्रकार करे सेवन :

बालों में परेशानी होने पर आप इस जडीबुटी के द्वारा सरल घर पर ही उपचार कर सकते है | आपको इस जडीबुटी के तेल को सुबह शाम लगाने से आपकी बालों से जुडी सभी समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है | आप चाहे तो भृंगराज के तेल को नारियल व तिल के तेल में मिलाकर भी प्रयोग में ला सकते है |

आँखो की रोशनी तेज करता है –

आज के इस बढ़ते लैपटॉप और मोबाइल जगत में कम उम्र के लोगों की आखों की रोशनी कमजोर होती जा रही है | आँखो की रोशनी कमजोर होने की वजह से आपके दिमाग पर भी बहुत बुरा असर पड़ता है | इसीलिए यदि आप भी इस प्रकार की किसी परेशानी से परेशान है | तो आपको आँखो की रोशनी तेज करने के लिए इस जड़ी का सेवन करना चाहिये |

आँखो की रोशनी तेज करने के लिए सेवन तरीका :

भृंगराज जडीबुटी में उच्च कैरोटीन नामक तत्व पाया जाता है | जो हमारे शरीर के रक्त में स्थित गंदगी को हटाकर रक्त संचार को बेहतर बनाने का कार्य करता है | आपको आखों के लिये इस जडीबुटी के चूर्ण का सेवन गुनगुने पानी के साथ सुबह शाम करना चाहिये |

पाचन तंत्र मजबूत करती है भृंगराज –

आये दिन हम गलत खानपान के कारण पेट दर्द, कब्ज बदहजमी व उल्टी जैसी समस्या के शिकार होते रहते है | गलत खानपान की वजह से हमारे पाचन तंत्र पर भी बहुत बुरा असर पड़ता है | यदि आप भी रोजाना इसी समस्या के शिकार होते रहते है | तो आपको भृंगराज जैसी प्राकृतिक औषधि का सहारा लेना चाहिये |

पाचन तंत्र ठीक करने का सेवन तरीका :

भृंगराज के नियमित सेवन से पाचनशक्ति मजबूत बनी रहती है | यह जड़ी-बूटी आपके आंत में जमा सभी विषैले पदार्थों को निकालकर पाचन तंत्र को मजबूत बनाती है | आपको पाचन तंत्र से जुडी समस्या होने पर इस औषधि के चूर्ण का सेवन करना चाहिये |आपको इस चूर्ण का सेवन रोजाना सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ करना चाहिये |

इस औषधि के कुछ शानदार प्रोडक्ट – 

  • भृंगराज तेल |
  • महा भृंगराज तेल |
  • अच्युताय आँवला-भृंगराज केश तेल |
  • इन्दुलेखा भृंग केश तेल |
  • बैद्यनाथ भृंगराज तेल |
  • बैद्यनाथ भृंगराज चूर्ण |

इस दवा के नुकसान –

भृंगराज नामक जडीबुटी के द्वारा आपको किसी भी प्रकार का कोई नुकसान देखने को नही मिलता है | लेकिन आपको इस दवा के सेवन व लगाने की एक निश्चित मात्रा का ही इस्तेमाल करना चाहिये | जससे आपके शरीर को किसी भी प्रकार की कोई हानि का सामना नही करना पड़े |

और पढ़े - गिलोय के लाभ पहचान निर्मित दवा व हानि – Benefits Of Giloy In Hindi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.