लकवा रोग में बैद्यनाथ महामाष तेल के लाभ

0
7

बैद्यनाथ महामाष तेल आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के द्वारा बनाया गया एक लाभकारी तेल है जो लकवा जैसी बीमारी के इलाज में कारगर साबित होता है | लकवा को अंग्रेजी में पैरालिसिस नाम से जाना जाता है इस बीमारी में रोगी अपनी एक से अधिक मांसपेशियों को हिलाने डुलाने में असमर्थ हो जाता है | यह रोग अधिकतर स्ट्रोक, सिर पर गहरी चोट, रीढ़ की हड्डी में चोट लगने की वजह से ही आपको इस प्रकार के रोग का सामना करना पड़ता है | क्योंकि इन सभी परिस्थितियों में आपके शरीर के किसी एक भाग के हिस्से में रक्त का प्रवाह रुक जाता है | जिसके कारण उस अंग में मौजूद मांसपेशियां काम करना बंद कर देती है | और आप लकवा के शिकार हो जाते है | शरीर में अलग अलग अंगो में होने वाले इस रोग को अलग अलग नाम से जाना जाता है जैसे कि…

  • मोनोप्लेजिया –  आपकी भुजा और टाँगे में लकवा 
  • हेमिप्लेजिया – शरीर के एक तरफ के हिस्से में लकवा 
  • पैराप्लेजिया –  शरीर के निचले हिस्से में लकवा 
  • टेट्राप्लेजिया –  पुरे शरीर में लकवा 
  • बेल्स पल्सी –  चेहरे पर लकवा 

जैसे नामो से जाना जाता है यदि आपके परिवार में किसी व्यक्ति को इस प्रकार के रोग की परेशानी है और आप जल्द से जल्द इस रोग को दूर करना चाहते है | तो आप बैद्यनाथ द्वारा निर्मित महामाष तेल का प्रयोग करके पीड़ित व्यक्ति को पहले की तरह स्वस्थ बना सकते है | इस तेल को कई प्रकार की गुणकारी जड़ी बूटियों के सम्मिलन के द्वारा तैयार किया जाता है इस तेल के द्वारा आप कई प्रकार के रोग से मुक्ति पा सकते है | तो आइये जानते है इस तेल के बारे में विस्तार से…

इस तेल में मिलाई जाने वाली जड़ी बूटियां  :

  • तिल का तेल
  • अश्वगंधा
  • देवदारु
  • बला मूल
  • दशमूल
  • माष
  • पलाश
  • भारंगी
  • विदारीकन्द
  • क्षीरविदारी
  • पुनर्नवा
  • श्वेत जीरा
  • शतावरी की जड़
  • गोखरू
  • पिप्पली
  • महामेदा
  • चित्रकमूल
  • मधुयष्टि
  • माषपर्णी
  • जीवन्ति
  • सेधा नमक
  • मुद्गप्रणी
  • हिंग व जीवक

जैसी कई गुणकारी जड़ी बूटियों के मिश्रण से इस तेल का निर्माण किया जाता है | जो शरीर को एंटी-ऑक्सिडेंट, रोगाणुरोधी, एंटी-इंफ्लेमेटरी, संक्रामक विरोधी, व एंटी-क्लोटिंग के साथ साथ पॉलीफेनोल और मैंगनीज, आयरन और फाइबर जैसे अन्य गुण शरीर को स्वस्थ बनाने में मदद करते है | इसी वजह से यह तेल आपके शरीर में मौजूद बीमारी व दर्द जैसी समस्या को आसानी से खत्म करने में सहायक है | आइये जानते है, इस तेल को बनाने की विधि के बारे में…

इस तेल को बनाने की विधि –

सबसे पहले सभी जड़ी-बूटियों को अच्छी तरह से साफ़ करके सभी जड़ी बूटियों को अच्छी तरह से कूट लिया जाता है | फिर इस मिश्रण को एक बड़े बर्तन में रखा जाता है और आवश्यकता अनुसार इसमें पानी मिलाकर गर्म किया जाता है | इसको तब तक गर्म करते है जब तक यह हल्के काढ़े में परिवर्तित नही हो जाता है | उसके बाद इसको साफ़ कांच की बोतलों में भरा जाता है | इस तेल को बहुत ही सावधानीपूर्वक बनाया जाता है इस तेल के निर्माण के समय इसमें किसी भी प्रकार का कोई केमिकल का प्रयोग नही किया जाता है | यही कारण है कि इस तेल के प्रयोग से शरीर को किसी भी प्रकार का को नुकसान नही होता है | दोस्तों आइये जानते है इस तेल के लाभ के बारे में…

बैद्यनाथ महामाष तेल के लाभ :

लकवा रोग को खत्म करता है यह तेल –

लकवा की समस्या होने पर रोगी को बहुत तकलीफ का सामना करना पड़ता है लकवा रोग में रोगी की दिनचर्या पूरी तरह से केवल एक बिस्तार पर ही रह जाती है | यह फिर सीधी बात में कहे तो व्यक्ति जीते जी एक लाश बनकर रह जाता है यदि आप भी कुछ इस प्रकार के रोग से ग्रस्त है | तो आपको बैद्यनाथ महामाष तेल का प्रयोग करना चाहिये | इस तेल में पाए जाने वाले एंटी-ऑक्सिडेंट, रोगाणुरोधी व एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व आपके लकवा ग्रस्त अंग में रक्त संचार ठीक करने का काम करते है | जिसकी वजह से उस अंग में मौजूद मांसपेशियां फिर से कार्यरत हो जाती है |और लकवा की समस्या धीरे धीरे खत्म हो जाती है |

आंखों की बीमारी ख़त्म करता है यह तेल –

आंखों में होने वाली समस्या पहले अधिक उम्र के लोगो में देखी जाती थी, लेकिन आज कल बढ़ते टेक्नोलॉजी के दौर व गलत खानपान के कारण बच्चों व युवाओं में आंखों में होने वाली बीमारी अधिक देखी जा रही है | यदि आप भी कुछ इसी प्रकार की बीमार से परेशान है तो इस तेल के द्वारा आप अपनी आंखों की बीमारियों को आसानी से खत्म कर सकते है | आपको आंखों से जुड़े रोग में इस तेल का प्रयोग सिर पर मालिश के रूप में करना चाहिये | सिर की मालिश करने से यह तेल आपके सिर के माध्यम से आपकी आंखों की नसों में मौजूद गंदगी को साफ़ करके आंखों की रोशनी को तेज करने का कार्य करता है |

बदन दर्द व सिर दर्द को खत्म करता है यह तेल –

आज के इस भागदौड़ भरी जिंदगी में आप इतना व्यस्त हो जाते है जिसके कारण आपको नियमित बदन दर्दसिर दर्द जैसी समस्या से जूझना पड़ता है | यदि आप भी रोजाना इसी प्रकार के दर्द से ग्रस्त रहते है | तो आप बैद्यनाथ महामाष तेल के द्वारा अपनी इस समस्या को आसानी से खत्म कर सकते है | बदन दर्द व सिर दर्द होने पर इस तेल से मालिश करने पर आपको तुरंत राहत मिल जाती है | क्योंकि यह तेल आपकी मांसपेशियों को आराम पहुंचाने का काम करता है |

इस तेल को प्रयोग करने का तरीका

इस तेल का प्रयोग आपको मालिश के रूप में करना चाहिये लकवा के मरीज के अंगों में इस तेल की मालिश नीचे से ऊपर की ओर के रूप में करनी चाहिये | जिससे मरीज के उन अंगों में रक्त संचार बेहतर होने लगता है | लकवा रोगियों को इस तेल से मालिश दिन में तीन बार करनी  चाहिये | तेल का प्रयोग पांच साल से अधिक उम्र के बच्चे से लेकर अधिक वर्ग के व्यक्ति भी कर सकते है |

इस तेल से शरीर पर होने वाले हानिकारक प्रभाव

इस तेल का शरीर पर किसी भी प्रकार का कोई हानिकारक प्रभाव नही पड़ता है हो सकता है इस तेल की मालिश के समय आपकी आंखों में जलन व आंसू आने लगे | ऐसा केवल इस तेल से आने वाली खुशबू के कारण ही होता है | अन्यथा अब तक इस तेल का कोई हानिकारक प्रभाव नही हुआ है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here