सफल तरीको से करे एसिडिटी का उपचार – Acidity Treatment In Hindi

0
106
सफल तरीको से करे एसिडिटी का उपचार

एसिडिटी क्या है

एसिडिटी को चिकित्सकीय भाषा में गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफलक्स के नाम से जाना जाता है | एसिडिटी की समस्या होने पर हमारे शरीर को पेट व सीने में जलन की समस्या से जूझना पड़ता है | अधिक मसालेदार भोजन करने की वजह से हमारी ग्रासनली में हैड्रोक्लोरिक अम्ल आ जाता है | जिससे हमारे शरीर में पेप्सिन नामक द्रव्य बनाने लगता है| जो हमारे आहार नली का रास्ता बंद कर देता है | जिसकी वजह से हमारे आहार नली में घाव व सूजन आ जाती है | ओर हमें पेट व सीने में जलन जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | अब आइये जानते है | किन कारणों की वजह से हमारे शरीर को एसिडिटी जैसी समस्या से जूझना पड़ता है |

एसिडिटी होने की कुछ मुख्य वजह

मोटापे की वजह से हमें एसिडिटी की समस्या होने लगती है :- मोटापा शरीर के लिए काफी नुकसानदायक साबित होता है | मोटापे की वजह से हमारे शरीर में जमा वसा ही हमारे पेट में पेप्सिन जैसे द्रव्य का निर्माण बहुत जल्दी कर देता है | जिससे हमारे शरीर में एसिडिटी की समस्या होने लगती है |

धुम्रपान देता है शरीर में एसिडिटी को जन्म

धुम्रपान करने से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता के साथ साथ हमारा पाचन तंत्र भी कमजोर होने लगता है | क्यूकि धुम्रपान करने से हमारा लीवर कमजोर होने लगता है | जिसकी वजह से हमारे शरीर को इस पाचन तत्रं से जुडी समस्या का सामना आये दिन करना पड़ता है | और हमारा शरीर एसिडिटी से भी ग्रस्त होने लगता है |

नमक का अधिक सेवन भी पाचन तंत्र को नुकसान पहुचाता है

अगर आप अपने भोजन में नमक की अधिक मात्रा का सेवन करते है | तो इसकी वजह से हमारे भोजन को पचाने वाला हैड्रोक्लोरिक अम्ल की मात्रा कम होने लगती है | और ये हमारे ग्रासनली में भी आने लगता है | जिसकी वजह से हमारे शरीर को एसिडिटी जैसी समस्या का करना पड़ता है |

फाइबर युक्त भोजन का कम सेवन भी एसिडिटी होने की मुख्य वजह होती है

अगर आप अपने भोजन में फाइबर की मात्रा कम लेते है | तो आपको एसिडिटी की समस्या का सामना करना पड़ सकता है | क्यूकि फाइबर युक्त भोजन हमारे लीवर को स्वस्थ बनाता है | अगर हम फाइबर का सेवन ना करे | तो हमारे लीवर में कमजोरी आने लगती है | ओर हमारा शरीर एसिडिटी जैसी समस्या से ग्रस्त हो जाता है |

अधिक दवाओं का सेवन भी पाचन तंत्र के लिए हानिकारक साबित होता है

अधिक दवा का सेवन करने से हमारे लीवर में कमजोरी आ जाती है | जो हमारे शरीर के लिए काफी हानिकारक साबित होती है | और लीवर की कमजोरी की वजह से ही हमें एसिडिटी जैसी समस्या का सामना भी करना पड़ता है |

एसिडिटी होने पर आपनाये कुछ आसन उपाय

एलोवेरा जूस का सेवन दिलायेगा एसिडिटी से राहत

एलोवेरा एंटी- एक्सीडेंट, गैलिक एसिड, टैनिक एसिड व अलब्यूमिन जैसे तत्व हमारे लीवर को स्वस्थ बनाता है | इसके जूस के सेवन से हमारे लीवर व पेट में जमा गंदगी को पूर्णरूप से साफ़ कर देता है | आपको एसिडिटी की समस्या होने पर एलोवेरा जूस का सेवन करना चाहिये | आप इसके स्वाद को बदलने के लिए इसमें थोडा शहद भी मिला सकते है |

जीरा का सेवन फायदेमंद होता है पाचनशक्ति के लिए

जीरा एंटी-आक्सीडेंट, ,पॉलीफिनोल्स, एंटी इंफ्लेमेटरी जैसे तत्वों से परिपूर्ण होता है | जो हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता के साथ साथ हमारे पाचनशक्ति को भी मजबूत बनाती है | आपको इसका सेवन कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले जीरे को पानी में भिगो कर इसको पीसकर शहद के साथ इसका सेवन करने से हमारे पेट में उत्पन्न एसिडिटी का सफाया हो जाता है | ओर सीने में जलन भी कुछ समय में खत्म हो जाती है |

अदरक चूर्ण से बनाये अपने पेट को स्वस्थ

अदरक में मौजूदमैग्नीशियम, विटामिन्स, फास्फोरस, सिलिकॉन, बीटा केरोटिन, व कैल्शियम जैसे तत्व हमारे लीवर व हर्दय को स्वस्थ बनाते है | एसिडिटी की समस्या होने पर आपको इसका सेवन कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले अदरक चूर्ण को लेकर गुनगुने पानी में मिलाले | फिर इसमें शहद को मिलाकर खली पेट या फिर सोने से पहले लेने से हमारे पेट व सीने की जलन में बहुत आराम मिलता है |

दवा के जरिये करे एसिडिटी का इलाज

एंटी एसिड दवा का सेवन करे – एंटी एसिड दवा का सेवन करने से हमारे पेट में उत्पन्न पेप्सिन नामक द्रव्य पूर्ण रूप से खत्म हो जाता है |
अम्ल कम करने वाली दवा का सेवन कर सकते है – अगर आपको एसिडिटी की समस्या हर आये दिन लगी रहती है | तो आपको इस समस्या के उपचार के लिए प्रोटोन पंप इनहिबिटरहिस्टामिन -2 रिसेप्टर एटागोनिष्ठ जैसी दवा का सेवन कर सकते है |

इन दवाओं के सेवन से हमारे शरीर मे पैदा हुये पेप्सिन अम्ल को पूर्णरूप से खत्म हो जाता है |

अगर आप भी एसिडिटी जैसी समस्या से परेशान है | तो आपको ऊपर दिए हुए | उपायों को ध्यान व नियमपूर्वक अपनाने से हमारे पेट की इस समस्या का उपचार बहुत जल्दी हो जाता है |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.