लो ब्लड प्रेशर के लक्षण, कारण, उपाय….

आयुर्वेद योग व उपचार स्वास्थ्य सुझाव

महिलाओ को सबसे ज्यादा लो ब्लड प्रेशर की शिकायत होती है लो ब्लड प्रेशर (रक्तचाप) को हाईपोटेंशन भी कहा जाता है | यह तब होता है जब रक्त चाप सामान्य से काफी कम हो जाता है| मतलब की ह्दय, मस्तिष्क और शरीर के अन्य भागो में पर्याप्त रक्त नहीं पहुच पाता | जो लो ब्लड प्रेशर का कारण बनता है|


लो ब्लड प्रेशर के लक्षण….

जब रक्त चाप शरीर के अंगो को पर्याप्त नहीं दे पता है| तो शरीर के अंग सही तरह से काम नहीं करते है| और अस्थायी या स्थायी रूप से क्षतिग्रस्त हो सकते है| लो ब्लड प्रेशर उसके होने के लक्षण पर निर्भर करते है| जैसे रक्त मस्तिष्क में अपर्याप्त रहता है| तो मस्तिष्क की कोशिकाओ को पर्याप्त ऑक्सीजन और पोषक तत्व प्राप्त नहीं होते है| जिससे चक्कर आना, बेहोशी होने लगती है|

  • और्थोस्टेटिक हाईपोटेंशन- लो ब्लड प्रेशर में लेटने या बेठने के बाद जब हम खड़े होते है तो हमारा रक्त चाप कम होता है| जो हमारे शरीर में निचले हिस्से से ऊपर तक पहुचने में समय लेता है और हमे चक्कर आने लगते है कभी कभार बेहोशी भी हो जाती है इसी कारण से होता है|
  • गुर्दे की बीमारी- लो ब्लड प्रेशर में गुर्दे को पर्याप्त रक्त नहीं मिलता है| और गुर्दे शरीर से व्यर्थ पदार्थ निकालने में विफल हो जाते है तथा रक्त में उनके स्तर में वृद्धि हो जाती है और गुर्दे अपना कार्य सही से नहीं कर पाते है और हमारा ब्लड प्रेशर लो होने लगता है|
  • शॉक- लो ब्लड प्रेशर की यह एक जानलेवा स्थिति बन जाती है जिसमे लगातार कम रक्त चाप के कारण गुर्दे, यकृत, ह्दय, फेफड़े और मस्तिष्क जैसे अंग तेजी से काम करना बंद कर देते है| और व्यक्ति मरने की हालत में पहुच जाता है|
  • दिल की बीमारी- सीने में दर्द या दिल का दोरा, (कोरोनरी धमनियों) ह्दय की मासपेशियो को रक्त प्रदान करने बाली धमनिया में रक्त प्रदान करने के लिए धमनियों में प्रेशर की कमी होना, लो ब्लड प्रेशर का कारण होता है|

   लो ब्लड प्रेशर होने के कारण…..

लो ब्लड प्रेशर होने के कई कारण हो सकते है नियमित और सही से अपना ख्याल ना रखना और खाने में लापरवाही देना, नियमित रूप से व्यायाम न करना, ज्याद आदि|

लगातार लम्बे समय तक खड़े होने के बाद रक्त चाप में कमी आती है| यह ज्यदातर युवा और बच्चों को प्रभावित करता है| यह ह्दय और मस्तिष्क के बीच गलत समन्वय के कारण होता है| कभी कभी खाने के बाद रक्तचाप में अचानक कमी आती है| ज्यादातर यह बड़ी उम्र के लोगो को ऐसा होता है|

  • खून की कमी- लो ब्लड प्रेशर होने पर सर्जरी के दोरान कठिनाई, गंभीर चोट या खून के आंतरिक रिसाव के कारण बहुत अधिक खून बह जाने से रक्त चाप में कमी आ सकती है| खून के ज्यादा निकल जाने पर |
  • अंत:स्त्रावी समस्याएं- लो ब्लड प्रेशर होने का कारण अंत:स्त्रावी विकार जिन्हें हार्मोन संबधी विकार भी कहा जाता है, अंत:स्त्रावी समस्या तब होती है जब शरीर में बहुत अधिक या बहुत कम हार्मोन बनते है कुछ समस्याएं एडिसन रोग, शुगर की कमी, लो ब्लड प्रेशर का कारण बनते है|
  • निर्जली करण- लो ब्लड प्रेशर निर्जली करण से हो सकता है| थोड़े बहुत निर्जली करण से चक्कर आना और कमजोरी हो सकती है| लेकिन गंभीर निर्जली करण से हाई पोवेल्मिक शॉक नामक समस्या हो सकती है| यह स्थिति तब होती है जब शरीर में रक्त की कमी की मात्रा रक्तचाप में अचानक गिरावट का कारण बनती है| जिससे ऊतको और अंगो को ऑक्सीजन नहीं मिलती है|
  • पोषण संबधी कमिया- लो ब्लड प्रेशर में लोगो को बिटामिन बी -12 और फोलिक की कमी होती है| उन्हें एनीमिया हो सकता है यह एसी स्थिति है जिसमे रक्तचाप कम हो जाता है जो लोग खाने के विकार है| जैसे एनोरेक्सिया या बुलिमिया, उनमे पोषक तत्वों की कमी हो सकती है जो लो ब्लड प्रेशर का कारण बनती है|

लो ब्लड प्रेशर के उपाये…..

लो ब्लड प्रेशर होने पर आपको अपने डॉक्टर से जाच कराये और उनकी सलाह जरुर ले| क्यों की आमतोर        पर लो ब्लड प्रेशर होने पर डाक्टर हमे अपने खाने में सावधानिया बरतने के लिए बोलते है साथ में नमक को सिमित और सही मात्रा में खाने की सलाह देते है| यह लो ब्लड प्रेशर के लिए बहुत फायदेमंद होता है| अगर इसकी मात्रा बड जाये, तो यह हमारे शरीर में सोडियम रक्त चाप को बड़ा देता है| जो की हानिकारक हो सकता है|

हाई ब्लड प्रेशर होने के कारण व इलाज

  • लो ब्लड प्रेशर मरीज को अपने हदय की गति और साँस लेने के चक्रों के बाद रक्तचाप का बिश्लेषण करके अपनी तंत्रिका तंत्र के कार्य को करता है | इसमें आप एक गहरी साँस लेते है| ओया अपने मुह से हवा को निकालते है| ऐसा करने से लो ब्लड प्रेशर थोडा कम होता है जिससे आपको अपने डॉक्टर के पास जाने का समय मिल सकता है|
  • लो ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए आपको ज्यादा से ज्यादा पानी, जूस या तरल पदार्थो का सेवन करना चाहिए| क्यों की द्रव पदार्थ रक्त में मिल जाते है| जिससे रक्तचाप में कमी नहीं आती है|
  • लो ब्लड प्रेशर बाले लोगो को ज्यादा देर बेठने के बाद खड़े होने पर या सो कर उठने पर रक्तचाप की कमी महसूस होती है| इसके लिए कई दबा का उपयोग किया जा सकता है| पर आपके डॉक्टर की सलाह से, ओर्विटन नमक दबा का उपयोग बहुत से लोग इसके इलाज के लिए करते है| यह आपकी रक्त वाहिकाओ को विस्तार करने में मदद करता है| और लो ब्लड प्रेशर को भी नियमित रखता है|

Tagged
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *