माइग्रेन व सिर दर्द का इलाज घर पर करे – Migraine Treatment IN HINDI.

आयुर्वेद

भारत के साथ दुनिया भर में बढ़ते तनाव के कारण माइग्रेन  के मरीजो की संख्या में लगातार बढ़त हो रही है बार –बार होने वाले माइग्रेन के सिर दर्द (Migraine Pain) को हमे हलके में नही लेना चाहिये | माइग्रेन का दर्द बढकर कभी लकवा या ब्रेन हेमोर्रहगे का कारण बन सकता है तो इससे बचाव को हम आपको बताते है की माइग्रेन की समस्या के बारे में

 लक्षण

माइग्रेन का सबसे पहला लक्षण आँरा होता है किसी भी वस्तु या व्यक्ति के आसपास उसी आकर में रोशनी का दिखना माइग्रेन में ऐसा दर्द के दौरान 5 मिनट से 1 घंटे तक रहता है | आप माइग्रेनमें कभी ज्यादा उग्र और कभी ज्यादा शांत हो जाते है माइग्रेन (Migraine) के दौरान आपकी भावनायें बहुत तेजी बदलती है माइग्रेन के दर्द  की वजह से आपको थकान होती है जिससे आपको नींद नही आती और आप रातभर सो नही पाते है माइग्रेन  से पीड़ित रोगी को बार-बार पेशाब आती है माइग्रेन से ग्रस्त रोगी की आँखों से पानी निकलना व् नाक जाम होना जैसी समस्यायें होती है इन लक्षणों को  पहचानकर माइग्रेन का पता लगाया जा सकता है |

माइग्रेन के कारण

माइग्रेन के कई कारण हो सकते है माइग्रेन आजकल के गलत खान – पान से भी हो सकता है माइग्रेन अधिक समय तक धूप में रहने से एवं कम नींद लेने से और हर समय तनाव में रहने से माइग्रेन की परेशानी उत्पन्न हो सकती है ये सब माइग्रेन के कारण होते है |

इस बीमारी में क्या करे –

  • संतुलित आहार ले, ज्यादा समय तक भूखे पेट न रहे |
  • भरपूर मात्रा में पानी, पीना चाहिये |
  • पर्याप्त नींद ले, अधूरी नींद या ज्यादा सोने से भी माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है |
  • डाक्टर की सलाह अनुसार दवा ले, कुछ दवाओ कारण भी माइग्रेन हो सकता है इसलिये बिना सलाह के कोई दवा नही लेना चाहिये |
  • तनाव मुक्त रहने की कोशिश करे योग प्रणायाम या संगीत सुनकर मन को शांत रखने की आदत डाले और तनाव से दूर रहने की कोशिश करे |
  • नियमित हर रोज कम से कम 30 मिनिट तक व्यायाम  करे |
  • माइग्रेन का दर्द होने पर दर्द वाले हिस्से पर ठन्डे पानी की पट्टी रखने से रक्त धमनिया फ़ैल जाती है और दर्द कम हो जाता है |
  • क्रोध, शोक, भय इत्यादी भावनाओ को दवाने से भी माइग्रेन हो सकता है
  • इसलिये भावनाओ को दवाने के बजह इन्हे अपने परिचित और विश्वस्त लोगो के साथ बाटे |
  • होरमोन इमबैलंस की बजह से भी माइग्रेन हो सकता है इसी कारण माइग्रेन  का प्रमाण पुरषों से ज्यादा स्त्रियों में पाया जाता है इसलिये होरमोन इमबैलंस की समस्या होने पर, डाक्टर से इसका इलाज जरुर करा लेना चाहिये |
  • गलत तरीके से उठने, बैठने या सोने से आप के पीठ, गर्दन या सिर से जुड़े स्नापू में आकुंचन से भी दबाब के कारण माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है, हमेशा काम करते वक्त, बैठते समय या आराम करते समय शरीर का आसान सही रखने की कोशिश करे |

रोगी क्या न करे –

इन खाद्य पदाथो का प्रयोग मत करे |

  • जंक फ़ूड या डिब्बा बंद पदार्थ , कोफ्फ़िने युक्त पदार्थ, पनीर, चीज, चॉकलेट, नुडल्स,
  • कुछ प्रकार के नट्स, शराब, तम्बाकू, प्याज, केला, आचार, पापड़ का प्रयोग मत करे |
  • ज्यादा उचाई वाली जगह पर न जाये |
  • किसी भी तरह के सिर दर्द को हलके में न ले |
  • ज्यादा नजदीक से टी.बी या कंप्यूटर न देखे |
  • ज्यादा समय तक कंप्यूटर या मोबाइल पर काम करने या गेम्स खेलने से बचे |
  • तेज गंध वाली जगह पर काम न करे तेज गंध वाले इत्र का प्रयोग न करे |
  • तेज धूप में बाहर न जाये, तेज रोशनी की तरफ न देखे गर्मी के दिनों में बाहर जाते समय टोपी का प्रयोग करे |
  • डाक्टर की सलाह के बिना दवा न ले बाजार में माइग्रेन के इलाज (Migraine Treatment) के लिये
  • कई दवा मिलती है परन्तु उनके कुछ साइड इफेक्ट्स भी होते है |

ओर पड़े – (जानिये लकवा का इलाज | Baidyanath Ayurvedic Medicine For Paralysis.)

Tagged सामान्य रोग
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *