दांतो में कीड़े (कैविटी) होने के कारण, प्रकार और इलाज

रोग व इलाज स्वास्थ्य सुझाव

दांतो में कीड़े , कैविटी तब होती है, जब कर्बोहायड्रेट युक्त खाना जैसे की ब्रेड, अनाज, दूध, सॉफ्ट ड्रिंक, फल, या टॉफी हमारे दांतों में रह जाते है| हमारे मुँह में मोजूद बैक्टेरिया उसे एसिड में बदल देते है| जब दांतों की सख्त सतह हमेशा के लिए नष्ट हो जाती है| और छोटे छिद्र या बड़े छेदों में विकसित हो जाती है| उसे दांतों की कैविटी कहा जाता है| कैविटी को दांतों का सड़ना या कीड़ा लगना भी कहा जाता है|दांत की तीन परते होती है|

  • इनेमल दांतों की बाहरी परत और रक्षा करने वाली परत होती है|
  • डेंटिन इनेमल के नीचे की नर्म परत होती है|
  • पल्प डेटिन के नीचे मोजूद नस होती है|

अगर कैविटी का इलाज ना कराया जाए तो यह बढती जायगी और दांतों की गहरी सतहों को भी प्रभावित कर सकती है| इससे दांतों में भयानक दर्द और संक्रमण भी हो सकता है| और यहाँ तक की दांत भी टूट सकते है|

दांतो में कीड़े (कैविटी) के प्रकार –

प्राइमरी कैविटी –

  •  स्मूथ कैविटी :- कीड़ा चिकनी सतह पर लगता है|
  • पिट और फिशर कैविटी :- इसमें कीड़ा उस दांत पर जिसके गहरे खाचे में दरार और छेड़ हो जाते है उस एरिया में लगता है|
  • रूट सरफ़ेस कैविटी :- यह जड़ की सतह पर लगता है|

कैविटी फैलने की दिशा के अनुसार – 

  •  बैकवर्ड कैविटी :- जब कीड़े डेंटिन इनेमल जंक्शन से इनेमल तक फैल जाते है|
  • फॉरवर्ड कैविटी :- इसमें कीड़ा इनेमल से दांत की जड़ तक फैल जाता है|

कैविटी चरण के अनुसार – 

  •  एन्सिपिएट कैविटी :- इसमें कीड़े की पहली गतिविधि जो इनेमल में होती है|
  • कवितातेड कैविटी :- जब बाहरी सतह टूट जाती है, और कैविटी डेंटल भीतरी सहत तक पहुच जाती है|

मसूडो की बीमारी (पायरिया) से कैसे निजात पाए….

दांतो में कीड़े लगने के कारण

दांत में कीड़ा किसी को भी लग सकता है| खासतोर पर कीड़ा तब लगता है| जब हमारे दांतों में खाना या कुछ अन्य खाने के पदार्थ रह जाते है| और हमारे दांतों में वह धीरे धीरे सड़ने लगता है| यही वजह बनता है दांतों में कीड़े लगने की|

# अगर हम अपने दांतों को खाने और पीने के बाद साफ नहीं करते तो हमारे दांतो पर प्लाक बन जाता है| जिससे दांतों की सडन शुरू हो जाती है|

# जब आप बार बार खाना या मीठी चीजो को खाते है| तो मुहँ के बैक्टेरिया को दांतों पर हमला करने का ज्यादा अवसर मिल जाता है| जिससे दांतों पर निरंतर अम्ल की सहत बन जाती है|

# एनोरेक्सिया और बुलेमिआ दांतों के घिसने और कीड़े लगने की संभावना को बड़ा देते है| अगर खाना समय से ना खाया जाये तो यह दिक्कत आती है|

# बार बार उलटी होने की वजह से पेट का एसिड दांतों में लग जाता है| और एनेमल को ख़त्म कर देता है| लार बनने की क्षमता को भी कम कर देता है|

दांतो में कीड़े (कैविटी) के इलाज

नियमित रूप से दांतों की जाँच से कैविटी और दूसरी दांतों की बीमारियों को शुरूआती स्तर पर पहचाना जा सकता है| अगर कोई परेशानी शुरू हो गयी है| तो जितनी जल्दी चिकित्सा मदद ली जाए, उतना बेहतर है| ऐसा करने से दांतों की सडन और दांतों में कीड़े को शुरुआत अवस्था में ही रोक सकते है|

  • रोजाना ब्रश और दांतों की सफाई करने से हमारे मुहँ में पैदा होने वाले प्लाक और बैक्टेरिया की संख्या कम होती है|
  • च्युगम चबाना चाहिए क्यों की इसमें क्सिलिटोस होता है जो की बैक्टेरिया के विकास को कम करता है|
  • मीठा कम खाना चाहिए, जिससे हमारे मुहँ में कम अम्ल बने और दांतों में प्लाक ना जम पाए|
  • अगर आपकी कैविटी शुरू हुई है तो फ्लोराइड आपके इनेमल को वापस लाने में मदद कर सकता है|और कभी कभी कैविटी को शुरुआत में ही ठीक कर सकता है|

 

Tagged दन्त रोग
MANVENDRA
HEALTH BLOGGER AND DIGITAL MARKETER AT SOFT PROMOTION TECHNOLOGIES PVT LTD

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *