टिटनेस होने पर बचाव कैसे करे – Tetanus treatment in hindi

0
136
टिटनेस का उपचार
टिटनेस का उपचार

टिटनेस क्लॉस्ट्रीडियम टिटानी नामक बैक्टीरिया के कारण होने वाला एक रोग है | यह बैक्टीरिया आपके घाव या चोट में विष पैदा करता है| जिससे टिटनेस हो जाता है धीरे-धीरे यही जहर पूरे शरीर  में फैलने लगता है| जिससे स्थिति घातक हो जाती है| टिटनेस के कारण  कई बार व्यक्ति की म्रत्यु भी हो सकती है| टिटनेस में शरीर की मांसपेशियों में ऐठन महसूस होती है| और रुक-रुक कर दर्द होता है| हालांकि किसी चोट के लगने के बाद यदि तुरंत टिटनेस का टीका लगवाया जाये तो इससे होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है |

टिटनेस के प्रकार :

  • स्थानीय टिटनेस
  • मस्तक टिटनेस
  • नवजात टिटनेस
  • आम टिटनेस

दोस्तों इस रोग से बचाव के लिये हमे टिटनेस (Tetanus ) के लक्षण व कारण का पता होना बहुत आवश्यक है तो आइये जानते है टिटनेस (Tetanus ) के साधारण लक्षण व कारण-

टिटनेस  के लक्षण :

  • उच्च रक्तचाप |
  • गर्दन में ऐठन होना |
  • चिडचिडापन |
  • पसीना खूब आना |
  • साँस लेने में तकलीफ होना |
  • ह्रदय गति तेज होना |

टिटनेस  के कारण-

क्लॉस्ट्रीडियम टिटानी छड के आकार का जीवाणु है जो दुनिया भर में मिटटी में पाया जाता है क्लॉस्ट्रीडियम टिटानी टिटनेस रोग के लिये जिम्मेदार जीवाणु है यह बैक्टीरिया दो रूपों में पाया जाता है, पहला डोरमंट या निष्क्रय रूप में दूसरा सक्रिय रूप में जो जीवाणुओं की संख्या को ओर भी बढ़ा देता है किसी भी तरह के चोट में टिटनेस हो सकती है- घाव में, सर्जरी में, प्रसव के दौरान, कोई फोड़ा फुंशी होने पर, सुई या इंजेक्शन से नशा करने वालो को आदि कारणों से टिटनेस हो सकता है |

दोस्तों इन लक्षण व कारणों से हम टिटनेस की पहचान कर सकते है तो आइये अब टिटनेस से बचाव के कुछ साधारण घरेलु उपाय जानते है |

टिटनेस का घरेलु बचाव : 

  • कोई भी ऐसा घाव जिससे त्वचा फट गई हो, उसे तुरंत पानी और साबुन से साफ़ किया जाना चाहिये |
  • घाव को कभी खुला न छोड़े क्योकि सक्रमंण का खतरा रहता है |
  • यदि घाव से खून बह रहा हो तो उस पर सूखा सूती कपड़ा बांधे |
  • घायल व्यक्ति को तुरंत टिटनेस का टीका लगवाना चाहिये |
  • तारपीन के तेल से शरीर की अच्छे से मालिश करे |
  • घाव के ऊपर तेल को गर्म करके उस पर हल्दी मिलाकर लगाये |
  • मोमबत्ती के मोम को भी घाव पर पिघलाकर लगाया जा सकता है |
  • कटे स्थान पर नीम का तेल लगाने से भी टिटनेस का डर नही रहता है |

और पढे-(What Is Influenza?, Influenza Symptoms And Treatment. Influenza Virus And Flu.)

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.