बीमारी का इलाज

सूखी खांसी दूर करने के उपचार - Dry Cough In Hindi

सूखी खांसी दूर करने के उपचार – Dry Cough In Hindi

खांसी आना एक बहुत ही आम सी समस्या है, मगर यह जब लम्बे समय तक बनी रहे तो यह गंभीर बीमारी का संकेत हो सकती है | खांसी की वजह से आपको सार्वजनिक जीवन में भी कई सारी परेशानी का सामना करना पढ़ जाता है | खांसी आने की समस्या एक ऐसी समस्या है जो […]

किडनी फेल के बाद सावधानियाँ - Precautions After Kidney Failure In Hindi

किडनी फेल के बाद सावधानियाँ – Precautions After Kidney Failure In Hindi

आज के समय में कई बीमारियाँ आसानी से आपको अपना शिकार बना लेती है जिसका प्रमुख कारण आपका गलत खानपान और जीवन शैली है | ऐसी ही एक बीमारी किडनी का फ़ैल हो जाना आजकल बहुत तेजी से बढ़ रही है और एक बार किडनी के फ़ैल हो जाने के बाद अधिकतर लोग अपनी जिन्दगी […]

बच्चों को नेबुलाइजर से फायदे - Nebulizer In Hindi

बच्चों को नेबुलाइजर से फायदे – Nebulizer In Hindi

नेबुलाइजर नामक थेरेपी सांस द्वारा फेफड़ो में दवाएं देने के लिए एक असरदायक व बेहतर तरीका है । डॉक्टर्स इस प्रक्रिया के तहत कई प्रकार की दवाओं को इसके जरिये देने की सिफारिश करते है। यह मेटर्ड डोजा इनहेलर का बड़ा रूप है । यह अधिकतर अस्थमा से ग्रसित मरीजों के लिए प्रयोग में आता […]

कैंसर का होम्योपैथिक इलाज - Homeopathic Cure For Cancer In Hindi

कैंसर का होम्योपैथिक इलाज – Homeopathic Cure For Cancer In Hindi

आज कई जानलेवा बिमारी हमारे जीवन में हो रही है, इसमें से कैंसर सबसे खतरनाक रोग है । हमारा शरीर कई प्रकार की कोशिकाओं से मिलकर बना होता है । यह कोशिकाएं हमारे शरीर की जरूरत के हिसाब से नियंत्रित रूप से विभाजित होकर बढ़ती रहती है । कई बार यह कोशिकायें आपके जरूरत न […]

मस्से क्या होते हैं ? - Warts In Hindi

मस्से क्यों होते हैं ? – Warts In Hindi

शरीर पर होने बाले मस्से या वार्ट्स जिसे वररुका के नाम से भी जाना जाता है, मस्से शरीर के किसी भी हिस्से जैसे हाथों पर, पैरों, गर्दन और चेहरे पर एक छोटे ट्यूमर के रूप में दिखाई देते हैं | सामान्य रूप से वार्ट्स होने के पीछे त्वचा की असामान्य वृद्धि जो ह्यूमन पैपिलोमा वायरस […]

निम्न रक्तचाप के कारण, लक्षण और उपचार - Low Blood Pressure In Hindi

निम्न रक्तचाप के कारण, लक्षण और उपचार – Low Blood Pressure In Hindi

निम्न रक्तचाप यानी की लो ब्लड प्रेशर जिसे मेडिकली भाषा में हाइपोटेंशन कहा जाता है | लो ब्लड प्रेशर की समस्या आज के भागदौड़ भरे जीवन में आम समस्या बन गयी है | निम्न रक्तचाप की समस्या तब उत्पन्न होती है जब रक्तचाप का स्तर सामान्य जो की 80/120  ( सिस्टोलिक / डायस्टोलिक ) होता […]

सोशल मीडिया प्रोफाइल